पी.एम. खुद अपना टूटा आशियाना दिखा रहे हैं, क्या यह मर्यादित है ?- श्वेता दीप्ति

श्वेता दीप्ति

श्वेता दीप्ति

काठमांडू, १५ मई | आज ऐसा लग रहा है कि सारा समय भूकम्प के इन्तजार में कट रहा है । हर व्यक्ति के चेहरे पर एक अजीब सी बैचेनी और त्रास नजर आ रही है । आधे से अधिक लोग काठमान्डू से बाहर जा चुके हैं जो हैं वो समझ नहीं पा रहे कि उन्हें क्या करना चाहिए । यहाँ रहकर वो सही कर रहे हैं या गलत । जिन्हें आफिस जाना है वो भी सिर्फ बाध्यतावश जा रहे हैं । रोज एक भविष्यवाणी रोज एक झटका । हर रोज एक दर्द का सामना नेपालवासी कर रहे हैं । जोखिम इतनी अधिक और सरकार की ओर सरकार की ओर से तैयारी सुस्त । अब तो हालात ये है कि पीड़ित राहत नहीं, बचने की जगह खोज रहे हैं । घर नहीं, खाना नहीं, दवा नहीं और भूकम्प के इतने दिनों के बाद सरकार अभी तक टोली गठन कर रही है, पीड़ितों की खोज खबर के लिए । घर मिलेगा, पर कब ? अभी तो सिर्फ आश्वासन मिल रहे हैं । राहत की सामग्री बीच में ही खो जा रही है । त्रिपालों का पालनहारों में ही बन्दरबाँट हो रहा है । सांसदों को कहा जा रहा है कि वो अपने क्षेत्र में जाएँ और पीड़ितों तक राहत सामग्री मिल रही है या नहीं इस पर ध्यान दें उनकी शिकायतों को सुनें और दूर करें । क्या सांसदों को स्वयं अपने क्षेत्र तक नहीं जाना चाहिए था ? आखिर जनता उन्हें चुनती क्यों है ? वो जनता के प्रतिनिधि हैं इसलिए उनकी समस्याओं को दूर करना ही उनका काम है । पर अफसोस ऐसे समय में भी वो पीछे ही रहे । हमारे प्रतिनिधि ही गैरजिम्मेदार रूप में सामने आ रहे हैं, तो यकीन किस पर किया जाय ।

विनाशकारी भूकम्प ने देश की दशा ही बदल दी है । अनिश्चितताओं से भरी है आगे की जिन्दगी । जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती थी वो हुआ । सहायता बहुत आई पर पीड़ितों के दर्द आज भी वही हैं । भूखे पेट में जीने की बाध्यता है । अभी जनता सुरक्षित जगह की तलाश में है और ऐसे समय में जनता की तकलीफ को देखने की जगह हमारे पी.एम. खुद की परेशानियों को दिखा रहे हैं, अपना टूटा आशियाना दिखा रहे हैं । क्या यह मर्यादित है ? क्या दोलखा, सिन्धुपालचौक, काभे्र, बारपाक आदि की जनता प्रधानमंत्री से इस व्यवहार की उम्मीद करती है ? आज नेताओं से imageजिस अपनत्व की अपेक्षा जनता कर रही है वो कहीं नजर नहीं आ रही । सभी आज भी स्वार्थ की ही राजनीति करते नजर आ रहे हैं । कब इन्हें जनता का दर्द नजर आएगा ?

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz