प्रतिबन्धित पाँच सौ और हजार की भारतीय नोट पशुपतिनाथ के दान वॉक्स में

काठमांडू, २ भाद्र । भारत सरकार द्वारा प्रतिन्धित पाँच सौ और हजार रुपैयाँ का भारतीय नोट नेपाल के पशुपति मंदिर में रखा गया दानवक्स में जमा होने लगा है । आज प्रकाशित गोरखापत्र दैनिक के अनुसार ऐसी नोट अधिकांशतः भारतीय तीर्थयात्री ने दान के रुप में रखा है । हिन्दू धर्म–संस्कृति के अनुयायियोें में विश्वास रहता है कि रुपैयां तथा वस्तु दान से पूण्य मिलता है । लेकिन पुण्य प्राप्ति के लिए दान में दिया गया रुपैया प्रतिबंधित है, तो कैसे पुण्य प्राप्त हो सकता है ?! यह सवाल भी उठ रहा है ।
प्रतिबंधित भारतीय नोटों को क्या किया जाए ? इसके संबंध में पशुपति क्षेत्र विकास कोष कोई भी निर्णय नहीं ले पा रहा है । पशुपतिनाथ के सेवक (बिशेट) अरुण श्रेष्ठ के अनुसार करिब सात लाख प्रबंधित भारतीय नोट जमा हो चुका है और उक्त नोटों को सेफ में सुरक्षित रखा गया है । लेकिन उक्त नोट कोष की आमदनी में समावेश नहीं किया गया है ।
बताया जाता है कि प्रतिबंधित नोट अभी भी जमा हो रहा है । अनुमान किया जा रहा है कि भारत से आए हुए बोलबम यात्रियों ने सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट दान के रुप में दिए हैं । स्मरणीय हैं– पशुपतिनाथ, वासुकी, हनुमानजी, नवग्रह लगायत परिसर में भेटी के रुप में दानपत्र में रुपैयां रखा जाता है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: