प्रबुद्ध समूह नेपाली पक्ष द्वारा खतरनाक प्रस्ताव पेश, मधेश पर फिर खतरा

नेपाल भारत प्रबुद्ध समूह के नेपाली सदस्य

काठमांडू, ८ अक्टूबर | चर्चा में, खतरनाक प्रस्ताव :

नेपाल की ओर से नेपाल-भारत प्रबुद्ध समूह (ईजीपी) नेपाली पक्ष द्वारा मधेश को लक्षित करते हुये एक खतरनाक प्रस्ताव पेश किया गया है | लिखित रूप में पेश किया गया प्रस्ताव में नेपाल भारत की सीमा को भी पूर्णव्यबस्थित करने को कहा गया है | जिससे की अब भारत में जाने पर भिसा भी लग सकता है | स्पष्ट है कि इसका सबसे बड़ा असर मधेश पर ही पड़ेगा | पिछला ओली सरकार द्वारा तैयार की गई मधेश निति को ही नेपाली पक्ष द्वारा नेपाल-भारत प्रबुद्ध समूह (ईजीपी) की बैठक में पेश की गई है | हलाकि दोनों पक्ष द्वारा इस विषय पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी जा रही है | लेकिन दिल्ली में चर्चा में आई खबर अनुसार इसपर बैठक में जमकर बहस हुई | खबर अनुसार भारतीय पक्ष के एक सदस्य ने इस विषय को पब्लिकली सार्बजनिक बहश करवाने पर जोड़ दिया | लेकिन नेपाली पक्ष सार्बजनिक बहश करवाने से पीछे हट गयें | और इस विषय पर आंतरिक विचार विमर्ष कर के ही आने वाले बैठक में लाने पर जोड़ दिया है | नेपाल की ओर से लिखित रूप में सीमा को व्यबस्थित करने का प्रस्ताव पहली वार पेश किया गया है | नेपाल-भारत प्रबुद्ध समूह (ईजीपी) नेपाली पक्ष के सदस्य में बिदेश निति एक्सपर्ट भेष बहादुर थापा , पूर्व मन्त्री नीलाम्बर आचार्य, कानून बिद राजन भट्टराई तथा अख्तियार दुरूपयोग के पूर्व आयुक्त सूर्यनाथ उपाध्याय हैं | भारतीय पक्ष के सदस्य में कानूनविद भगत सिंह कोसियर , पूर्व राजदूत जयंत प्रसाद , प्रो.बीसी उप्रेती तथा महेन्द्र प्र. लामा हैं |

नेपाल और भारत के बीच में १९५० की शान्ति तथा मैत्री संधि को पुनरावलोकन होने की बात यहाँ की मिडिया में बताई जा रही है | इस सम्बन्ध में पिछले मगंलवार और बुधवार को नई दिल्ली में नेपाल-भारत प्रबुद्ध समूह (ईजीपी) की बैठक हुई थी | बैठक में दोनों पक्ष द्वारा संधि को पुनरावलोकन करने पर सैद्धान्तिक सहमति होने की बात बताई गई है | संधि को पुनरावलोकन के लिए नेपाली पक्ष द्वारा रखे गये प्रस्ताव पर कुछ और अध्ययन करके इसे अंतिम रूप देने पर भारतीय पक्ष सहमत हुई है | ६६ वर्ष पहले हुई इस संधि पर नेपाल की ओर से कुछ दफा में संशोधन भी रखा गया है | नेपाल ने अपनी और से पहली बार ऐसा संशोधन रखा है | इससे पहले भारत की ओर संधि संशोधन का प्रस्ताव ठोस रूप से लेन को कहा जा रहा था | नेपाली प्रबुद्ध समूह के सदस्य राजन भट्टराई ने भारतीय पक्ष इस पर सहमति होना नेपाल की महत्वपूर्ण उपलब्धि बताई है | उनके अनुसार संधि संशोधन का विषय अब एक कदम आगे बढ़ा है |

 

 

Loading...

Leave a Reply

2 Comments on "प्रबुद्ध समूह नेपाली पक्ष द्वारा खतरनाक प्रस्ताव पेश, मधेश पर फिर खतरा"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
wpDiscuz
%d bloggers like this: