प्रस्तावित संविधान संशोधन राष्ट्र के हित में नही हैं : झलनाथ खनाल

jhalanath-khanalहिमालिनी डेस्क,काठमांडू, ५ फरवरी ।
नेकपा एमाले के वरिष्ठ नेता झलनाथ खनाल ने कहा कि नई संसद ही संविधान का संशोधन कर सकती है ।
नेकपा एमाले चितवन द्वारा आज चितवन में बुलाई गई कार्यकर्ता भेंटघाट में ने नेता खनाल ने कहा कि प्रस्तावित संविधान संशोधन राष्ट्र के हित में नहीं है । इस बात का जिक्र करते हुए कि आने वाले माघ ७ गते के भीतर तीनों तहों के चुनाव अगर नहीं हो सके तो लोकतंत्र, संविधान और समूची राजनीतिक व्यवस्था ही खतरे में पड़ जाएँगे, उन्होंने कहा कि किसी की भी ओर से देश की राष्ट्रीय एकता, स्वाभिमान और अखंडता को कमजोर बनाने का प्रयास नहीं होना चाहिए ।
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz