प्रेम प्रकाश मल्ल ‘मधुकर’ पुरस्कार तथा बहुभाषिक कविगोष्ठी नेपालगन्ज में सम्पन्न

नेपालगन्ज,(बाके) पवन जायसवाल, २०७३ जेष्ठ ८ गते ।
भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति नेपालगन्ज बा“के के आयोजन में प्रेम प्रकाश मल्ल ‘मधुकर’ की प्रथम वार्षिक स्मृति सभा तथा प्रेम प्रकाश मल्ल ‘मधुकर’ पुरस्कार एवं सम्मान तथा बहुभाषिक कविगोष्ठी समारोेह जेष्ठ १ गते शनिवार को नेपालगन्ज में सम्पन्न हुआ है ।

12
भेरी साहित्य समाज केन्द्रीय समिति नेपालगन्ज बा“के के अध्यक्ष हरिप्रसाद तिमिल्सिना के सभापतित्व में सम्पन्न कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान के पूर्व सदस्य सचिव सनत कुमार शर्मा रेग्मी ने कार्यक्रम में महेन्द्र बहुमुखी क्याम्पस नेपालगन्ज के प्राध्यापक वरिष्ठ समालोचक डा. गोपाल प्रसाद शर्मा अधिकारी और वरिष्ठ पत्रकार तथा साहित्यकार÷लेखक पूर्णलाल चुके को दोसल्ला ओढाकर सम्मान पत्र तथा पुरस्कार प्रदान किया था ।
उसी कार्यक्रम में इस वर्ष के लिये नगद रु.११ हजार उक सौ ११÷–रुपैया प्रदान किया था ।
गत वर्ष प्रेम प्रकाश मल्ल की वैशाख ११ गते कोे देहावसान हुआ था उन की १३ औं पून्यतिथि के अवसर पर पर आयोजित शोक सभा में भेरी साहित्य समाज नेपालगन्ज ने प्रेम प्रकाश मल्ल ‘मधुकर’ पुरस्कार कोष स्थापना की घोषणा किया था उस के पश्चात् समाज अपना रु.१५ हजार और उन की जेष्ठ सुपुत्री वाणीश्री मल्ल ने रु.४० हजार अक्षय कोष के प्रदान की थी और एक वर्ष के अन्दर रु.६० हजार थप करके रु. एक लाख पहु“चाने की प्रतिबद्धता कोष की संस्थापक वाणीश्री मल्ल ने दिया ।

111
उसी कार्यक्रम में पुरस्कार कोष में पुरस्कृत व्यक्तित्वों ने और उपस्थित सहभागियों ने सहयोग करने की घोषणा भी किया था भेरी साहित्य समाज के कोषाध्यक्ष कविराज रेग्मी ने जानकारी दिया ।
प्रगतिशिल लेखक संघ के अध्यक्ष इन्द्र बहादुर बस्नेत ने स्वागत मन्तव्य व्यक्त किया था कार्यक्रम में साहित्यकार लेख प्रसाद प्याकुरेल ने प्रेम प्रकाश मल्ल की साहित्यिक व्यक्तित्व के बारे में जानकारी कराया था , सम्मानित व्यक्तित्वों के बारे में इन्द्र बहादुर ‘इन्द्रेणी’ ने प्रकाश डाला था पुरस्कृत व्यक्तित्व द्वय की छनौट की औचित्य बारे में प्रकाश पार्नु भएको थियो ।
उसीे अवसर में प्रमुख अतिथि नेपाल प्रज्ञा प्रतिष्ठान के पूर्व सदस्य सचिव सनत रेग्मी ने प्रेम प्रकाश मल्ल राष्ट्रीय व्यक्तित्व होने के नाते पुरस्कार को राष्ट्रीय रुप में स्थापित करें बताया पुरस्कृत व्यक्तित्वों की छनौट और मूल्या“कन एकदम उपयुक्त रही है विचार व्यक्त किया था ।
पुरस्कृत व्यक्तित्वद्वय वरिष्ठ समालोचक डा. गोपाल प्रसाद अधिकारी और वरिष्ठ पत्रकार पूर्णलाल चुके ने भी अपनी विचार व्यक्त किया था ।
कार्यक्रम में विष्णु प्रसाद उपाध्याय ने स्वर्गीय मल्ल की गीत माछापुच्छ्रे फेवा तालमा पौडी खेल्दो रहेछ… गीत गाया था और भोजराज शर्मा नादीर ने जसरी पनि बा“च्दो रहेछ जीवन… गीत गाया था ।

14
कार्यक्रम में बहुभाषिक कवि गोष्ठी समेत की आयोजन किया गया था कार्यक्रम में जिला बहराइच भारत के उर्दू साहित्यकार अन्जुम शाहकार ए उर्दू उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष शारिक रब्बानी की सहभागिता रही थी इसी तरह नेपालगन्ज के नसीम अहमद कादरी, मीना सुवेदी, कल्पना खरेल, गणेशा कार्की, इद्रीस शायल, महानन्द ढकाल, सन्देश आचार्य, सैयद अस्फाक रसुल हाशमी, गुल्जारे अदब के अध्यक्ष हाजी अब्दुल लतिफ शौक, अवधी सा“स्कृतिक प्रतिष्ठान के अध्यक्ष विष्णु लाल कुमाल, विष्णु प्रसाद देवकोटा, अवधी गायक तथा लेखककार जोखन लाल मौर्य, असफाक संघर्ष ताबिस लगायत लोगों ने अपनी अपनी रचना वाचन किया था ।

13
उस अवसर में पुरस्कार की संस्थापक प्रेम प्रकाश मल्ल की जेष्ठ सुपुत्री वाणीश्री मल्ल ने धन्यवाद ज्ञापन कि थी और महेन्द्र वाग्ले ने कार्यक्रम की सञ्चालन किया था ।
भेरी साहित्य समाज के केन्द्रीय अध्यक्ष तिमिल्सिना ने पुरस्कार की राशी संस्थापक के इच्छा अनुसार कोष में थप करके वृद्धि करते लेजाने के लिये बताया और स्व. मल्ल की जन्मजयन्ती श्रावण महीने के ११ गते दिन पुरस्कार वितरण किया जाएगा जानकारी दिया ।

Loading...