फेस बुक आनदोलन:
प्रियंका पाण्डे

पिछले जेठ १४ से पहले संविधान निर्माण पर दबाव बनाने और नेताओं को खबरदारी करने के लिए काठमांडू के संविधान सभा भवन के आसपासे देखने को मिले नाराबाजी, शोरशराबा, विरोध पर्रदर्शन के इतर इसी उद्देश्य के साथ राजधानी के खुलामंच के आसपास और माइतीघर मंडला में कुछ युवाओं जिनकी संख्या महज कुछ सो में थी, उन्होंने हाथ में एक डिस्टले कार्ड लेकर अपनी तरफ से अनोखे आन्दोलन की शुरुआत कर रहे थे ये युवा ना तो किसी राजनीतिक दल के हलावे पर आए थे और ना ही किसी अन्य संगठनों के सदस्य थे ये युवा हमारे समाज के उस बडे तबके का प्रतिनिधित्व कर रहे थे जो कि अपने अधिकारों के लिए सजग होने के साथ ही अपने दायित्वों के प्रति भी सचेत हैं
बस फेसबुक पर एक आह्वान, मोबाईल पर एक एसएमएस और सैकडों युवा इस काम के लिए इकठ्ठा हो जाते हैं ७ जेठ में खुलामंच में जमा होकर युवाओं के इस समूह ने एक मौन आन्दोलन का पर्वाभ्यास नेपाल में शुरु किया राष्ट्रीय झण्डा लिए युवाओं की बस एक ही मांग थी, ‘ज्याला पूरा लियौं अब संविधान देऊ’ अर्थात जिस काम के लिए पूरा पैसे लिए वो काम को पूरा कर के दो यानि संविधान बनाकर दो
एक ओर जहाँ राजनीतिक दल लाखों करोडों रूपये खर्च कर अपनी रैली में भीडÞ इकठ्ठा करते हैं, उसके ठीक विपरीत बस समान सोच, समान चिन्ता और देश के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझने वालो युवाओं के समूह ने बिना कोई उत्तेजना फैलाए, राजधानी के दीवारों को बाँलपेन्टिंग और पोष्टरों से बना गंदा खुलामंच में एक समान उद्देश्य के लिए इकठ्ठा होने का परिणाम निकट भविष्य में ही दिखाई पडने लगेगा संविधान निर्माण का काम को छोडÞकर नेताओं के विदेश जाने के विरोध में भी फेसबुक प्रयोगकर्ताओं ने जेठ २० गते अंतर्रर्ाा्रीय विमानस्थल में मौन पर््\रदर्शन किया था नेपाल में पहले कभी भी इस तरह का दृश्य देखने को नहीं मिला था लेकिन जिस तहर से सामाजिक उद्देश्य के लिए फेसबुक प्रयोगकर्ता एकजूट होकर मौन आन्दोलन कर रहे हैं, इसका परिणाम नेताओं को भारी पडÞने वाली है अपने आपको अनन्य विशेषाधिकार संपन्न एवं विकल्परहित समझकर हमारे देश के नेता सो रहे हैं, जिन्हें जनता के जगने का कोइ अहसास भी नहीं है
आज से ६ वर्षपरूव यूक्रेन में हुए आँरेञ्ज रिवोल्यूशन के बारे में अध्ययन करने वाले, अरब देशों मे हाल ही में किए गए जैसमिन रिवोल्यूशन को टेलीविजन व इंटरनेट के माध्यम से देखने वाले सभी को नेपाल में कलर रिवोल्यूशन के गर्भधारण करने का आभास दिला चुकी है गर्भधारण के बाद जन्म दिन की गिनती शुरु होने की प्राकृतिक नियम है आशा मरने के बाद आवेग संचालन करने वाला कलर रिवोल्यूशन के किले के घेरे में रहे शासकों को पदच्युत करने के लिए मध्य व पश्चिम एशिया में व स्थापित लोकतान्त्रिक विधि को चुनौती देने के लिए भारत में भी स्थापित हो गई है क्रान्ति में जीत या हार का व्याकरण नहीं होता है यह बात हमने इतिहासों में पढÞा ही है प्रत्येक नए परिवर्तन का एक एक निश्चित मूल्य होता है इसके श्रीगणेश करने का साहसिक साथ उचित समय में अन्त करने का सामर्थ्य भी संचय ना कर पाने के बाद की स्थिति के बारे में रुस व पश्चिमी शक्तियों के बीच टकराव का मुद्दा बनकर हमें सिखाया ही है
चार महीने पहले जैसमीन रिवोल्यूशन से ट्यूनिशिया व इजिप्ट में तानाशाह का ही पतन हुआ है लोक्तंत्र की पर्ूण्ा स्थापना अभी भी नहीं हो पाई है यमन व लीविया अभी भी गृहयुद्ध की चपेट में फँसा है बहराइन में पडÞोसी देश की सेना घुस आई है सचेत, स्वस्फर्ूत आवेग व दृढÞ संकल्प की ऊर्जा से लवरेज इस कलर रिवोल्यूशन को दवाने की शक्ति किसी के पास नहीं होती विवेक की मन्दी झेल रही वर्तमान नेपाल में सामूहिक विवेक से शुरु होने वाली उथल-पुथल को ठीक समय पर पहचान कर उसमें अर्ध विराम या पर्ूण्ा विराम लगाने की क्षमता हमारे शासकीय नेतृत्व वर्ग में देखे गए र्समर्पण भाव से गर्भधारण कर चुकी कलर रिवोल्यूशन का ज्वालामुखी नेपाल में सक्रिय होने की चेतावनी दे रही है
र्    वर्तमान युग में दिभाग व दिल की लडÞाइँ ज्ञान के सशक्त शस्त्र से लडी जाती है इंटरनेट, फेसबुक, व अन्य सामाजिक संजाल, मोबाईल फोन ज्ञान, सूचना व विचार फैलाने का बहुत ही तेज शक्ति का संयत्र बन गया है संपन्न व मध्यम वर्ग ही नहीं निम्न मध्यम वर्ग में भी लोकप्रियता होता फेसबुक इस समय आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक व सैन्य द्वंद्व में अग्रपंक्ति में है जनसमूह के आवेग में विस्फोटन की प्रकृति बनती जा रही है फेसबुक पहले कौतूहल का संयंत्र इंटरनेट की पहुँच अभी जनचाहना को निर्ण्ाायक बनाने के लिए ही नहीं बल्कि द्विपक्षीय सम्बंध को भी प्रभावित कर रहा है शक्तिशाली राष्ट्रों द्वारा अपने अरुचि के शासक व शासन व्यवस्था की खात्में के लिए भी इंटरनेट युद्ध होने लगा है विकसित तथा अविकसित दोनों ही विश्व को जोडने, जागरुक जनता के मनोभाव को समझते हुए उन्हें सहमति में लाकर साझा उद्देश्य को पूरा करने के लिए सडÞक पर उतारने का सरल व प्रभावकारी विधि बन गया है
अधिकतर १८-२५ वर्षके युवा समूह के द्वारा इंटरनेट का इस्तेमाल अब सिर्फसूचना की खोजी के लिए नहीं, बल्कि विचारों के आदान-प्रदान के लिए फेसबुक, इमेल चैट के धडÞक प्रयोग हो रहा है विचारों का आदान-प्रदान करने के इस माध्यम से ही कलर रिवोल्यूशन शुरु हुआ है सैनिक व पुलिस की ताक्त को चुनौती देते हुए संजाल के निरासा युवाओं के समर्पित शक्ति के सामने कई शासकों को अपना पद तक छोडÞना पडÞा है इस समय स्थिर माने जाने वाले देश ज्ञान से सुज्जित, अत्याधुनिक संचार के संयत्र संचालन में कृतसंकल्प युवाओं के इस कलर रिवोल्यूशन से भयभीत नजर आते हैं
भारत में सामाजिक कार्यर्त्तmर्fmाना हजारे और योग गुरु बाबा रामदेव के द्वारा शुरु किए गए भ्रष्टाचार विरोधी अभियान में वहाँ के लाखों युवाओं ने फेसबुक संजाल के जरिए ही देशभर में अपनी शक्ति का पर््रदर्शन किया तो शासक वर्ग भी र्सतर्क में आ गए
वैचारिक सामीप्यता कायम करने, समाजसेवा में सहयोगी बनन्ने अथवा राष्ट्रीय एकता व लोकतन्त्र को सुरक्षित रखने के लिए सचेत नेपाली युवा समूह के प्रति जवावदेही होने के बदले सिर्फसत्ता के लिए आत्मकेन्द्रित नेतृत्व की खबरदारी करने के लिए नेपाल के इतिहास में पिछले महीने दो बार इंटरनेट एसएमएस तथा फेसबुक के जरिए एकत्रित युवा शक्ति जनता सडÞकों पर उतरकर अपनी धर्ैयता खत्म होने का संकेत दे चुकी है इसमें सुनी गई संयमपर्ूण्ा कोलाहल मौसम परिवर्तन की आहट थी इससे निरंकुश होती जा रही नेपाली शासक को संभालने का एक अवसर भी दिया है             िि
ि

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz