बर्दियामे आसामी लाल वाँदर संकट मे

images 1 monkeyसन्दिप कुमार बैश्य, अगहन २६ गते , बर्दिया
नेपाल सरकार की वनजन्तु ऐन २०२९ अनुसार संरक्षीत वनजन्तु के सूचि मे सुचीकृत आसामी लाल  वाँदर ईस समय संकटमे है । बढरही चोरीशिकारी और सरकारी वेवास्ता के कारण भी संरक्षीत आसामी लाल वाँदरो की अवस्था ईस समय संकटमे  पडरही है ।    नेपालमे पानेवाले मुख्यत तिन प्रजातीके वाँदरो मेसे काले मुह तथा लम्बे पुछ वाले लंगुर वाँदर अ‍ैर लाल वाँदर करके दो प्रजाती के वाँदर बर्दिया राष्ट्रीय निकुञ्जमे मिलते है सहायक संरक्षण्ँ अधिकृत रमेश थापाने वताया । स्तनधारी मानव समूहके वाँदरोका स्वभाव चञ्चल होनेके करणसे एक ही  जगगुहे पे वैठना नही पसंद करते है। बदिर्या राष्ट्रीय निकुञ्जमे वाँदरका तथ्यांक नहोने पर भी  ९ सो ६८ वर्ग किलो मिटर क्षेत्रफल रहे निकुञ्जमे प्रसस्त मात्रामे नर और लाल वाँदर मिलते हैे निकुञ्जने बताया है । सरकारने संरक्षीत वन्यजन्तुओके सूचीमे रख्खे आसामी लाल वादर इस समय बर्दिया राष्ट्रीय निकुञ्जमे नही मिलते हैअधिकृत थापाने वताए ।
स्रोतके अनुसार चोरीशिकारी करके चित्तलकी सुकुटी कहकर वाँदराको शिकार करके विक्री करने से नेपालमे यिन जानवरोकी और भी  संकटके अवस्थामे पहुच गया । images 2 monkeyजैविक विविधताको ईतिहासमा वा“दरोका उल्लेख्यनिय भूमिका रह है संरक्षण्ँकर्मीयो ने बाया है । विषेशकर वादर रहने वाले पेरके निचे चित्तल रहना पसंद करते है चित्तल पेरके निचे गिरा हुआ नरम पात्तीया खाते  है। हिन्दु धामिर्क मान्यताके अनुसार वादरको हनुमानके प्रतिकके रुपमे मानते है । जैविक विविधताके एक प्रमुख अंगके रुममे रहे लोपोन्मुख तथा संकटापन्न अवस्थामे रहे वाँदर का संरक्षण के लिए सरकारने अभि तक  कुछ नही किया है । जैविक विविधताके प्रमुख सहयात्री तथा वन्यजन्तुके संचारकर्मीके रुपमे रहे लोपोन्मुख वादरोका संरक्षण केलिए सभी क्षेत्रसे  सबको लगना अति अवश्यक है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz