बाढ प्रबन्धन के लिए विदेशी सहायता सरकार द्वारा स्वीकार भारत ने दिया ४०० मीलियन राहत राशि

काठमान्डू १९ अगस्त

सरकार ने हाल ही में बाढ़ के प्रबंधन के लिए विदेशी सहायता स्वीकार करने का निर्णय लिया है, अापदा में कम से कम 135 लोगों के मरने का अंदेशा है, तराई इस अापदा से बुरी तरह प्रभावित है ।

मुख्य सचिव की शुक्रवार राजेंद्र किशोर छेत्री और विभिन्न सरकारी सचिवों की एक बैठक  ने  ईच्छुक संस्थाअाें से दान लेने का निर्णय किया ।

विदेशी मामलों के मंत्रालय इस तरह के दान स्वीकार करने की शर्तों के बारे में विदेशों में सभी नेपाली मिशनों को लिखेंगे,  यह बैठक का फैसला  है।

अगर कोई  विदेशी दाता, व्यक्तिगत या संस्था सहायता का विस्तार करना चाहता है, तो यह राशि प्रधान मंत्री के प्राकृतिक आपदा राहत निधि में जमा कर सकती है।

गृह मंत्रालय, वितरण के लिए ऐसी राहत सामग्री समन्वय करेगा।

बैठक में मंत्रालय ने निर्देश दिए कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सड़क, बिजली, पेयजल, संचार, स्वच्छ पेयजल और अन्य सुविधाएं सुनिश्चित की जाए।

भारत ने 400 मीलियन राशि सहायता की घोषणा की

भारत ने शुक्रवार को नेपाल के बाढ़ पीड़ितों के लिए 400 मिलियन नकद और तरह की घोषणा की। प्रधान मंत्री शेर बहादुर देउबा के साथ टेलीफोन पर बातचीत के दौरान, भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय समर्थन की घोषणा की।

प्रधान मंत्री देउवा ने समर्थन के लिए मोदी और भारत सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया।

भारतीय प्रधान मंत्री ने हाल ही की बाढ़ के कारण जीवन के नुकसान पर संवेदना व्यक्त की और सभी संभव राहत राहत प्रदान करने की तैयारी व्यक्त की।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: