ब्लुचिस्तान को पाकिस्तान और चीन से खतरा, कहा भारत को बलूचिस्तान की आजादी के संघर्ष में मदद करनी चाहिए। पाक वहां बड़े पैमाने पर हत्याएं करा रहा है।

‘भारत को बलूचिस्तान की आजादी के संघर्ष में मदद करनी चाहिए। पाक वहां बड़े पैमाने पर हत्याएं करा रहा है।

जेनेवा.

baloch-2-new_1471153429

यूरोपीय यूनियन और यूएन में बलूचिस्तान के रिप्रेजेंटेटिव ने चीन से भी खतरा बताया है। मेहरान मारी ने कहा, ‘चीन से हमारे लोगों, बलूचिस्तान की राष्ट्रीयता और वहां के रिसोर्सेस को उसी तरह खतरा है जैसे पाकिस्तान से।’ मारी ने कहा, ‘चीन, बलूचिस्तान में अपनी एक्टिविटीज बढ़ा रहा है। हमने इसके खिलाफ इंटरनेशनल कम्युनिटी में भी आवाज उठाई है।’
‘हमें मिलिट्री जनरल्स और लीडर्स से दो-चार होना पड़ रहा है। लेकिन उनके साथ किसी भी तरह की बातचीत संभव नहीं है।’
‘पाकिस्तान लगातार हमारे लोगों को डरा रहा है। हम वहां हो रही हत्याओं, ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन के बारे में यूएन को बता रहे हैं।’
मारी कहते हैं, ‘बलूचिस्तान में यूथ्स को लगातार अगवा किया जा रहा है। लोग इसके खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।’

ब्रहुमदाग बुगती के मुताबिक, ‘एक भी हफ्ता ऐसा नहीं जाता जब कोई रहस्यमय तरीके से लापता न हो या कोई बॉडी न मिले।’
‘उनका (पाक) मेन फोकस डेरा बुगती और ग्वादर पर है। वे यहां आर्मी केंट बनाना चाहते हैं।’
‘मीडिया में बातचीत के लिए उनकी तरफ से एक कमेटी बनाने की खबरें आ रही है। लेकिन ये सब झूठ है।’
‘पाकिस्तान पिछले कई साल से यहां मिलिट्री ऑपरेशन चला रहा है।’
‘जो लोग इसके खिलाफ प्रोटेस्ट करते हैं, उनका हैरेसमेंट किया जाता है। इसके चलते वे बलूचिस्तान से चले जाते हैं।’

बलूचिस्तान की ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट ने भारत को थैंक्स कहा?

बलूचिस्तान की प्रमुख ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट नीला कादरी ने बलूचिस्तान का मुद्दा उठाने के लिए मोदी को थैंक्स कहा।
उन्होंने कहा, ‘भारत को बलूचिस्तान की आजादी के संघर्ष में मदद करनी चाहिए। पाक वहां बड़े पैमाने पर हत्याएं करा रहा है।
कादरी ने ये भी कहा, जैसे भारत ने 1971 में बांग्लादेश को आजाद करवाया वैसे ही बलूचिस्तान को भी आजाद करवाने में मदद करे। वे इसी उम्मीद से भारत आई हैं।’

पीओके में लगे पाक आर्मी गो बैकनारे
शनिवार को गिलगिट-बाल्तिस्तान में ‘पाक आर्मी गो बैक’ के नारे लगे।
पीएमओ में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने पाक के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके), गिलगित और बलूचिस्तान को आजाद करवाने की बात कही।
उन्होंने कहा, ‘हम सीमावर्ती जिले कठुआ से तिरंगा यात्रा शुरू कर रहे हैं इसकी सफलता तभी होगी जब हम कोटली और मुजफ्फराबाद (पीओके) में तिरंगा फहराएंगे। प्रधानमंत्री के आह्वान के बाद हमें पीओके की आजादी के लिए जुट जाना चाहिए।’
बता दें शुक्रवार को नरेंद्र मोदी ने कहा था कि पीओके भी भारत का हिस्सा है। उन्होंने बलूचिस्तान में पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन का मसला भी उठाया था।

loading...