भायरल फिबर के कारण जाजरकोट में सयों बिमार, पानी देने वाले भी कोई नहीं है

काठमांडू, १५ भाद्र ।
जाजरकोट जिला के अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में भायरल फिबर का प्रकोप बढ़ रहा है । यहां तक कि कुछ गावों में तो बिमार लोगों को गरम पानी देने के लिए भी कोई नहीं है । त्रिवेणी नलगाड नगरपालिका– ५ से प्राप्त समाचार अनुसार एक ही घर में चार लोगों से अधिक लोगों को भायरल फिबर हुआ है । उक्त नगरपालिका के अध्यक्ष सुदीप शर्मा ने कहा है कि उपचार के लिए स्वास्थ्यकर्मी परिचालन होना चाहिए, लेकिन पर्याप्त और दक्ष चिकित्सकों का अभाव है । इसके बारे में शर्मा ने जिला पुलिस कार्यालय को भी जानकारी दिया है ।


स्थानीय स्वास्थ्य संस्था में दैनिक ६० से ज्यादा लोग उपचार के लिए जाते हैं । लेकिन वहां पर्याप्त औषधी और दक्ष चिकित्सक नहीं होते हैं । ऐसी ही हालत जिला के बारेकोट गांवपालिका, डाडागाउँ, रग्दा, भगवती लगायत गावं में हैं । बिमार लोग अधिक होने के कारण स्वास्थ्य संस्था में आषीधी का भी आभाव हो रहा है । एक हफ्ता पहले बारेकोट गांव में भायरल के कारण ही दो नाबालकों की ज्यान गई थी । स्थानीय शिक्षक कालीप्रसाद थापा का कहना है कि गांव से स्वास्थ्य संस्था पहुँचने के लिए वे लोग असमर्थ (अधिक दूरी के कारण) थे ।
कहा गया है कि अधिकांशतः बालबालिका और वृद्ध बिमार पड़ गए हैं । इधर जिला जनस्वास्थ्य कार्यालय जाजरकोटा का कहना है कि खाना और पानी में ध्यान न देने से वे लोग बिमार पड़ गए है । वारिस के कारण गांव में शुद्ध पेय जल नहीं मिलता है, पानी प्रशोधन की सुविधा भी नहीं है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: