भारतीय दूतावास, काठमांडू नेपाल भारत मैत्री पशुपति धर्मशाला तिलगंगा के निर्माण के लिए समझौता

काठमान्डौ, १४जुलाई
१४ जुलाई २०१६को, एक अनुबंध समझौता के तहत महामहिम की उपस्थिति में नेपाल भारत मैत्री पशुपति धर्मशाला तिलगंगा बिल्डिंग,  काठमांडू के निर्माण के लिए भारतीय दूतावास, काठमांडू एम  एस लामा रमन जेवी के बीच हस्ताक्षर किए गए  । भारत के राजदूत महामहिम रणजीत राय, पशुपति विकास कोष के सचिव सदस्य श्री गोविन्द टण्डन तथा अन्य प्रतिनिधियों की उपस्थिति में यह समझौता हुआ ।
 DSC_0969-min
धर्मशाला के निर्माण के लिए वित्तीय समझौता ज्ञापन भारत, काठमांडू के दूतावास और पशुपति क्षेत्र विकास सेमिनारों के बीच हस्ताक्षर किए गए ।  इसकी शुरुआत से १८ महीने में एनआरएस २१९,९ करोड़ की सहायता से पूरा किया जाएगा
मैत्री धर्मशाला में शयनगृह, परिवार के कमरे, रसोई, भोजन कक्ष, पुस्तकालय और कुछ बहुउद्देशीय हॉल के लिए प्रावधान किया गया है । पवित्र  तीर्थ यात्रा पर समूहों और परिवारों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सारी सुविधाओं को रखा गया है।
इसके अलावा ५००  करोड़ की राशि महत्वपूर्ण सांस्कृतिक विरासत स्थलों के लिए जो अप्रैल के विनाशकारी भूकंप के दौरान क्षतिग्रस्त हो गए थे के पुनर्निर्माण की दिशा के लिए देने की भी प्रतिबद्धता व्यक्त की गई ।
DSC_0979-min
भारत सरकार बहाली, संरक्षण और इस तरह के संग्रहालय के निर्माण, लुम्बिनी,  मुक्तिनाथ आदि जगहों पर भी धर्मशाला बनवाने के लिए  तथा नेपाल में धार्मिक सांस्कृतिक महत्व के विभिन्न स्थलों पर आवश्यक सुविधाओं के निर्माण की दिशा में वित्तीय सहायता प्रदान कर रही है ।
भारत नेपाल आर्थिक सहयोग कार्यक्रम की राशि ७६ (एनआरएस) अरब से अधिक की लागत है। इस कार्यक्रम के तहत भारत सरकार ने पूरा किया है या नेपाल के लगभग सभी जिलों में अधिक से अधिक ५२९परियोजनाओं को लागू किया है। इन विकास परियोजनाओं, को
नेपाल सरकार के साथ साझेदारी में सम्पन्न किया जा रहा है, यह शिक्षा, स्वास्थ्य, भौतिक बुनियादी ढांचे और ऐतिहासिक सांस्कृतिक स्थलों तथा स्थानीय जरूरतों और आकांक्षाओं  जैसे क्षेत्रों में मुख्य रूप से किया जा रहा है ।
loading...