विदेशी हस्तक्षेप से बजेट पारित होने का नेपाली काँग्रेस का आरोप ?

काठमांडू, 21 नवंबर – नेपाली कांग्रेस के नेताओं ने वर्तमान सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट अध्यादेश का अनुमोदन करने के लिए राष्ट्रपति राम बरन यादव की कडी निंदा की है । नेताओं ने दावा किया है कि राष्ट्रपति ने अन्य दलों की सहमति के बिना ही प्रस्तुत किया गया बजट का अनुमोदन करके बहुत बडी गलती की है ।

इस देश की राष्ट्रीयता हमेसा खतरे मे ही रहती है अब नेपाली काँग्रेस के नेताओं ने भी इस हथियार का प्रयोग करने लगे हैं। और करें क्यों नही ? कभी सत्ता से अलग रहकर राजनीति करने की तो इनको आदत है नही । सत्ता की भुख  और बौखलाहट ने इन्हे बेचैन बना रखा है । इस बेचैनी मे कभी इन्हे भारतीय हस्तक्षेप दिखता है तो कभी राष्ट्रीयता पर खतरा दिखता है । इसीलिये नेपाली कांग्रेस ने भारतीय  हस्तक्षेप से बजेट अध्यादेश पारित होने आरोप लगाया है । पार्टी कार्यालय सानेपा मे बुधबार हुइ केन्द्रीय समिति की बैठक ने विदेशी हस्तक्षेप बढने का और राष्ट्रियता पर भी खतरा बढने का निष्कर्ष निकाला है ।

बैठक मे महेश आचार्य, नविन्द्रराज जोशी, धनराज गुरुङ लगायत कई नेताओं ने इसे आन्तरिक मामिला मे हस्तक्षेप कहते हुये विरोध प्रगट किया है । ‘इनलोगों ने बजेट पास कराने के लिये भारतीय राजदूत बालुवाटार से शितल निवास तक जाने की बात यहाँ के मिडिया दे दी है । और राष्ट्रीयता खतरा मे होने की बात कही है । बजेट मे विदेशी हस्तक्षेप का हल्ला किया जा रहा है तथा राष्ट्रपति को विदेशी के सामने झुककर अध्यादेश स्वीकृत करने का आरोप लगाया जा रहा है । यहाँ गम्भीर प्रश्न यह है कि देश को बजट चहिये था या नही ? क्या अभी के माहौल मे सहमति करके बजट पास किया जा सकता था ? जो सहमति पिछले साल भर से नही हो सकी वह क्या अभी संभव दिखता है ? इन नेताओ ने देश के वारे मे नही सोचकर केवल सत्ता परिर्वत्तन का रट लगा रहें हैं जिसमे व्यक्तिगत स्वार्थ नही तो और क्या है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: