Tue. Sep 25th, 2018

भारत का 72 वां स्वतंत्रता दिवस : ये देश न झुकेगा, न रुकेगा और न थकेगा,लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए बोले पीएम मोदी

15अगस्त

{हिमालिनी के लिए मधुरेश प्रियदर्शी की रिपोर्ट}

नई दिल्ली — भारत की आज़ादी के आज 71 साल पूरे हो गए हैं. बुधवार को देश 72वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 7:30 बजे लाल किले पर तिरंगा फहराया. झंडोत्तोलन के बाद लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने देश को संबोधित किया. पीएम ने अपने भाषण में तीन बड़े ऐलान किए हैं. पहला- 2022 तक हिंदुस्तान अंतरिक्ष में मानवसहित अंतरिक्ष यान भेजेगा और वहां तिरंगा लहराएगा.
दूसरा- 25 सितंबर 2018 को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर देश में आयुष्मान भारत योजना लागू होगी.
तीसरा- शॉर्ट सर्विस कमीशन में अब महिलाओं को स्थायी एंट्री मिलेगी. अभी तक इसके तहत सिर्फ पुरुषों को ही डायरेक्ट एंट्री मिलती रही है.
2019 के लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी का लाल किले के प्राचीर से ये आखिरी भाषण था. इसके पहले पीएम मोदी वर्ष 2014, 2015, 2016 और 2017 में लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित कर चुके हैं. इस बार पीएम मोदी ने करीब सवा घंटा भाषण दिया. मोदी ने कहा कि ‘आज के भारत का मतलब रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म है.’
पीएम मोदी के भाषण की 12 बड़ी बातें:-
1~ आज लाल किले की प्राचीर से मैं देशवासियों को खुशखबरी सुनाना चाहता हूं. हमारा देश अंतरिक्ष की दुनिया में प्रगति कर रहा है. हमने सपना देखा है कि 2022 में आजादी के 75 साल पूरे होने के मौके पर या उससे पहले मां भारत की कोई संतान, चाहे बेटा हो या बेटी, वह हाथ में तिरंगा लेकर अंतरीक्ष में जाएगा. जब हमारा यान हिंदुस्तानी लेकर जाएगा, तब हम अंतरिक्ष में मानव को पहुंचाने वाले विश्व के चौथे देश बन जाएंगे.
2~पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- आयुष्मान योजना के तहत 10 करोड़ परिवारों को शुरुआत में लाभ मिलेगा. लेकिन, बाद में उच्च मध्यम वर्ग और मध्यमवर्ग का भी लाभ मिलेगा. पांच लाख रुपये सालाना इलाज के खर्च की सुविधा हम देने वाले हैं. किसी भी व्यक्ति को यह सुविधा पाने में दिक्कत न हो, इसलिए टेक्नोलॉजी की भूमिका महत्वपूर्ण है. इस योजना को फुलप्रूफ बनाने की कोशिश हो रही है. 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर यह अभियान शुरू कर दिया जाएगा.
3~ प्रधानमंत्री ने कहा कि हम मक्खन पर लकीर करने वालों में नहीं हैं, हम पत्थर की लकीर खींचने वालों में से हैं. मक्खन पर लकीर तो कोई भी खींच सकता है. हम बीज से लेकर बाजरा तक वैल्यू एडिशन करना चाहते हैं. हम एग्रीकल्चर एक्सपोर्ट पॉलिसी पर आगे बढ़ रहे हैं. आज शहद का एक्सपोर्ट दोगुना हो गया है. गन्ना किसानों को खुशी होगी कि एथिनॉल का उत्पादन दोगुना हो गया है.
4~ मोदी ने कहा कि योजनाएं तो बनती हैं, लेकिन बिचौलिए मलाई खा लेते हैं. खजाने से पैसा जाता है, लेकिन देश लुटता चला जाता है. सरकारें आंखें मूंदकर नहीं बैठ सकती. मैं तो कतई आंखें मूंदकर नहीं बैठ सकता. मेरा देश आज ईमानदारी का जश्न मना रहा है. कालेधन वालों को बख्शूंगा नहीं.
5~ प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश के ईमानदार करदाताओं से कुछ कहना चाहता हूं, उनके दिल को छूना चाहता हूं. ईमानदार व्यक्ति जो टैक्स देता है, उससे योजनाएं चलती हैं. योजनाओं की सफलता का श्रेय इस सरकार को नहीं, करदाताओं को है. आपके टैक्स देने की ईमानदार प्रक्रिया का यह परिणाम है कि जब आप खाना खाते हैं तो उसी वक्त आपके टैक्स से तीन गरीब परिवारों का पेट भरता है. इससे बड़ा पुण्य या संतोष और क्या हो सकता है.
6~ मोदी ने कहा कि मैं आज इस मंच से मेरी कुछ बहादुर बेटियों को खुशखबरी देना चाहता हूं. भारतीय सशक्त सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिए नियुक्त महिला अधिकारियों को पुरुष समकक्ष अधिकारियों की तरह पारदर्शी प्रक्रिया द्वारा स्थायी कमीशन देने की घोषणा करता हूं.
7~ मोदी ने कहा कि तमिलनाडु के राष्ट्र कवि सुबमण्यम भारती ने लिखा था- भारत पूरी दुनिया के हर तरह के बंधनों से मुक्ति पाने का रास्ता दिखाएगा. इन महापुरुषों के सपनों को पूरा करने के लिए आजादी के बाद बाबा साहेब आंबेडकर के नेतृत्व में भारत ने एक समावेशी संविधान का निर्माण किया. यह एक नए भारत के निर्माण का संकल्प लेकर आया. हमें यह प्रेरणा मिलती है कि गरीबों को न्याय मिले, सभी को आगे बढ़ने का अवसर मिले.
8~ पीएम मोदी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए अटल जी का आह्वान था- इंसानियत, कश्मीरियत, जम्हूरियत. मैंने भी कहा है, जम्मू- कश्मीर की हर समस्या का समाधान गले लगाकर ही किया जा सकता है. हमारी सरकार जम्मू-कश्मीर के सभी क्षेत्रों और सभी वर्गों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है. हम गोली या गाली से नहीं, बल्कि गले लगकर ही आगे बढ़ेंगे.
9~ पीएम मोदी ने एनडीए सरकार के लक्ष्यों का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि हर भारतीय के घर में शौचालय हो. हर भारतीय अपने मनचाहे क्षेत्र में कुशलता हासिल कर सके. हर भारतीय को अच्छी और सस्ती स्वास्थ्य सेवा सुलभ हो. हर भारतीय को बीमा का सुरक्षा कवच मिले.
10~ मोदी ने कहा कि मैं बेसब्र हूं, क्योंकि जो देश हमसे आगे निकल चुके हैं, हमें उनसे भी आगे जाना है. मैं बेचैन हूं, हमारे बच्चों के विकास में बाधा बने कुपोषण से देश को मुक्त कराने के लिए. मैं व्याकुल हूं, देश के हर गरीब तक समुचित स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने के लिए, ताकि वो बीमारी से लड़ सके.”
11~ मोदी ने कहा कि मैं व्यग्र हूं, अपने नागरिकों का जीवन स्तर सुधारने के लिए. मैं अधीर हूं, क्योंकि हमें ज्ञान-आधारित चौथी औद्योगिक क्रांति की अगुवाई करनी है. मैं आतुर हूं, क्योंकि मैं चाहता हूं कि देश अपनी क्षमताओं और संसाधनों का पूरा लाभ उठाए.’
12~ पीएम ने कहा कि हम चाहते हैं कि दुनिया में भारत की साख और धाक हो. ये देश ना झुकेगा, ना रुकेगा और ना ही थकेगा.

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of