भारत-नेपाल के बीच खून का रिश्ताः शाहनवाज हुसैन

विराटनगर ३१ अाषाढ

माला मिश्रा

नेपाल का प्रसिद्ध औद्योगिक नगर विराटनगर के अनौपचारिक भ्रमण पर पहुँचे भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व केन्द्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन का शुक्रवार को मोरंग ब्यापार संघ में भव्य स्वागत किया गया। इस मौके पर संघ के नेतृत्व  भारत सरकार में शामिल सबसे बड़े दल भारतीय जनता पार्टी के एक उच्च कद्दावर नेता के समक्ष नेपाल और वहाँ के ब्यापारियों एवं आमजनों से जुड़ी समस्याओं का हल निकालने के सम्बन्ध में कुछ महत्वपूर्ण मांगें रखी। मोरंग ब्यापार संघ के सभागार में आयोजित इस स्वागत समारोह में बोलते हुए पूर्व केन्द्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन ने नेपाल के लोगों को भरोसा जताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रहते ही दोनों देशों के बीच का सम्बन्ध और अधिक प्रगाढ होगा। संघ की तरफ से रखे गये मांग पत्र में भारत-नेपाल के बीच बेटी-रोटी का सम्बन्ध पर प्रकाश देते हुए भारत से ब्यापारिक घाटा को न्युन बनाने पर जोर दिया गया। वहीं नेपाल में लगानी के लिये उचित वातावरण होने से भारतीय लगानीकर्ताओं को पूँजी निवेश के लिये आह्वान किया गया। ब्यापारिक अवरोधों को दूर करने के लिये दोनों देशों की सरकार का समुचित ध्यानाकर्षण करते हुए जोगबनी स्टेशन को अन्तर्राष्ट्रीय सुविधासम्पन्न बनाने की मांग भी संघ द्वारा भाजपा प्रवक्ता के माध्यम से रेलवे मंत्रालय का ध्यानकार्षण कराया गया। जीएसटी लागू होने से नेपाल से होनेवाली ब्यापार पर प्रतिकूल असर न पड़े इन बातों पर भी जोर दिया गया। स्वागत समारोह को संबोधित करते हुए भाजपा प्रवक्ता शाहनवाज ने नेपाल और भारत के रिश्ते को खून का रिश्ता और सगा भाई-भाई जैसा सम्बन्ध होने की बात कही। उन्होंने अपनी ओर से सभी मांगों पर सम्बन्धित पक्षों से बात करने की बातें कही। नेपाल के लोगों के लिये जोगबनी ही गेटवे अाफ इंडिया है और यहाँ की समस्याओं पर उनका ध्यान बना रहेगा उन्होंने आश्वस्त किया। नेपाल की पहली यात्रा १९८२ में ९वीं की छात्र के रूप में किया था और आज ३६ साल के बाद दुबारा यात्रा करने का अवसर मिलने पर उन्होंने खुशी जताई। सुपौल से गलगलिया तक अपनी सक्रियता में जनहितों का ध्यान रखने के लिये प्रतिबद्धता जनाते हुए सीमावर्ती नेपाल के निपालियों का भी सरोकार का प्रतिनिधित्व करने का उन्होंने भरोसा दिया। नेपाल में पर्यटन की अपार संभावनाओं को देखते हुए विराटनगर को विकसित करने के लिये स्थानील लोगों से अपील की। भारत से पर्यटकों के आने-जाने और ब्यापारिक सम्बन्ध बढाने से ब्यापारिक घाटा कम करने की बातें कही। ब्यापारियों एवं अन्य सरोकारवालों से अन्तरक्रिया के दौरान पूछे गये प्रश्न कि क्या भारत नेपाल को हिन्दू राष्ट्र के रूप में देखना चाहती है या नहीं इसपर बोलते हुए शाहनवाज हुसैन ने कहा कि नेपाल की व्यवस्थापिका सांसद इसके लिये उचित अधिकार रखती है, इसमें भारत के तरफ से नेपाल की अन्दरूनी मामलों में किसी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता है। अन्त में उन्होंने नेपाल बार-बार आने की इच्छा जताते हुए लोगों नेपाल के लोगों से व्यक्तिगत तौर पर जुड़ने का अपील भी की। इस समारोह में पूर्व केन्द्रीय मंत्री के साथ पूर्व विधायक देवन्ती यादव, अररिया जिला भाजपा महामंत्री भानु प्रकाश राय, किशनगंज से पूर्व सांसद प्रतिनिधि हरि अग्रवाल, प्रेम मिश्रा के अलावा नेपाल के पूर्व सांसद मोती दुगड़, संघ के पूर्व अध्यक्ष जीवन नेपाल, वरिष्ठ उद्योगी तथा समाजसेवी ताराचन्द खेतान, संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रकाश मुन्धड़ा, अनिल साह, हसन अंसारी, राजेश गुप्ता, आजाद खान, नविन रिजाल, श्रीनिवास शारडा, राजकुमार गोल्छा, अनिल साह, श्याम भंडारी सहित कई अन्य जाने-माने उद्योगपति, समाजसेवी एवं नेपाल के संचारकर्मी शामिल थे।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: