भैरहवा सीमा पर एसएसबी की कडाई से नेपाल का अायात प्रभावित

काठमान्डू ९ अगस्त

भारत के सशस्त्र सीमा बल ने सीमा पार करने वाले लोगों पर  कड़े कदम लागू किए जाने के बाद नेपाल के आयात और सीमा बिंदु से आयात प्रभावित हुआ है। एसएसबी ने पहले तीन हफ्ते पहले सीमा बिंदु पर निगरानी बढ़ा दी थी।

काठमांडू के अधिकारियों ने नेपाल के भारतीय राजदूत मनजीव सिंह पुरी द्वारा 28 जुलाई को सीमा के दौरे के बाद भी स्थिति में प्रगति की कमी का अफसोस जताया। उन्होंने भारत के नेपाली राजदूत दीप कुमार उपाध्याय के साथ सुनौली सीमा पर भारतीय अधिकारियों के साथ बैठकें की थी।

वाणिज्य मंत्री मिन बहादुर बिश्वकर्मा ने कहा कि भारत में नए कर व्यवस्था जीएसटी के कारण नेपाल की सीमावर्ती करों पर असर पड़ा है। लेकिन स्थिति मंत्री के दावों से अलग है। यहां तक ​​कि खाली भारत-बाध्य ट्रकों और टैंकरों को सीमा पर गंभीर सुरक्षा जांच के अधीन किया जा रहा है।

काठमांडू में भारतीय दूतावास के प्रवक्ता रूबी जसप्रीत ने कहा कि उस क्षेत्र के स्थानीय अधिकारियों को समस्या पता है और इसे शीघ्र ही बाहर निकाल रहे हैं।

नेपाली पक्ष ने इस मामले को नई दिल्ली में उठाया है, पर कोई लाभ नहीं हुअा है, एेसा अधिकारियों ने कहा।

बढ़ी हुई सुरक्षा उपाय, जो असामान्य है, ने सीमा बिंदु पर कार्गो ट्रक का कतार बनाया हुअा है।

नतीजतन, कार्गो आंदोलन एक क्रॉल पर आ गया है, यातायात की भीड़ बढ़ रही है जो चार किलोमीटर तक फैली हुई है।

भारत सरकार ने नेपाल और भूटान की सीमाओं पर खुफिया शाखा चलाने के लिए कुछ दिनों के बाद एसएसबी ने भैरहावा में सीमा बिंदु पर अपनी निगरानी बढ़ा दी थी, जिसमें भारत विरोधी और अन्य विरोधी तत्वों की गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए नेपाल और भूटान की सीमाअाें पर कडी निगरानी की जा रही है।

केवल एक दिन में करीब 100 कार्गो वाहन भारत से नेपाल में प्रवेश कर रहे हैं। इससे पहले, 300 से 350 ट्रक हर दिन नेपाल में माल भेजने के लिए इस्तेमाल करते थे।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: