भ्रष्टाचार पर सद्भावनाका वार, ठेकेदारों में मचा हडकम्प

विनय दीक्षित:नेपालगंज। निर्माण सम्बन्धी ठेका लेना और उसमे बचे हुये रकम से अपने कारोबार तथा पारिवारिक उन्नति करना यूँ तो आम बात है लेकिन जब निर्माण के समय में ही शौचालय टैंक की दीवार दो बार गिर जाए तो कई सवाल उठ खडे होते हैं।
जिले मंे राप्तीपार स्थित गंगापुर और लक्ष्मणपुर गा.बि.स.में हो रहे दो स्वास्थ्य चौकियों के भवन निर्माण के क्रम में कुछ ऐसा ही देखा स्थानीय लोगों ने। गंगापुर निवासी राजेन्द्र मौर्य ने बताया कि गुण और स्तर की तो बात ही करना जायज नहीं, क्यों कि गुणस्तर निर्माण होता है अच्छी कम्पनी के सिमेन्टर्,र् इंटे, बालू, मोरङ्ग तथा उसकी मिलावट प्रक्रिया से, जो यहाँ पर बयान करना सम्भव नहीं है।
मौर्य ने कहा कि जिन सामग्रियों से निर्माण किया जा रहा है, वह बहुत ही घटिया ‘इको’ कम्पनी की सिमेन्ट है और मिलावट की मात्रा ६/१ है। इस पर जाँच बाद में, कारवाही पहले होनी चहिए।
इस भ्रष्टाचार निर्माण प्रक्रिया के बारे में जब सद्भावना पार्टर्ीीे भनक लगी तो पूरे दल बल के साथ पार्टर्ीी ठेकेदारों पर निशाना साधा और वषोर्ं से खोए हुये एक-एक कर सभी ठेकेदार मीडिया और पार्टर्ीीे सर्म्पर्क में आ गए।
निर्माण स्थल पर पार्टर्ीीे लगातार दो दिन निर्माण हो रहे भवन का निरीक्षण किया और जाँच पूरी नहोने तक के लिए सभी प्रकार के निर्माण कार्यको रोक दिया। पार्टर्ीीे जिला अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण बर्मा ने हिमालिनी से बताया कि ः पर्ूण्ारुप से प्राविधिक जाँच न होने तक के लिए निर्माण काम को रोका गया है, स्थानीय स्तर से ही खबर मिली थी कि निर्माण काम में भ्रष्टाचार हो रहा है जाँच करने पर कई प्रकार कमियाँ पाई गई हैं।
सद्भावना तथा मीडिया की संयुक्त टीम जब मौके पर पहुँची तो शिकायतर्त्तmर्fmा क्तार लग गई। गंगापुर निवासी इन्द्रजीत मौर्य ने हिमालिनीको बताया कि भारत सर्ेर् इंटा और सिमेन्ट खरीद करने पर जब आपत्ति जताई गई तो ठेकेदार मुबारक शेख ने किसी किसिम की सुनुवाई न करते हुये सभीको काम जारी रखने का निर्देश दिया। मौर्य ने आगे बताया कि यह भवन नहीं, भ्रष्टाचार निर्माण हो रहा है।
निर्माण कार्य में हो रहे भ्रष्टाचार का खुलासा तब हुआ, जब स्थानीय मजदूरों से ठेकेदार ने परिमाण से ज्यादा बालू में सिमेन्ट की मात्रा कम मिलाने की बात कही। अधिवक्ता तथा पार्टर्ीी केन्द्रीय सल्लाहकार राम कुमार दीक्षित ने बताया कि ठेकेदार क्या कर रहे हैं। इसके बारे में हमने आवास तथा शहरी विकास डिभिजन कार्यालय नेपालगंज से प्रमाणित एस्टीमेटकी कापी माँग की है, जिससे यह साफ जाहिर हो जाएगा की ठेकेदारों ने मिलावट की हदें कहा तक पार की हैं।
२ करोडÞ ६ लाख की लागत में निर्माण हो रहे गंगापुर के उपस्वास्थ्य चौकी में भारत श्रावस्ती जिला के रोसनपर्ुवा से गुणस्तरहीन पीलर्ीर् इंटे और इको सिमेन्ट प्रयोग के सर्न्दर्भ में लोगों ने खुलकर शिकायत की।
खरीद की गई सभी सामग्री भारतीय क्षेत्र की हैं। लेकिन ठेकेदारों ने बिल और भरपाई नेपाल की दिखाई है। क्योंकि एस्टीमेट में भारतीय क्षेत्र से नहीं बल्कि नेपाल से खरीद करने की बात कही गई है। अधिक बचत के उद्देश्य से भारत से सस्ती और गुणस्तरहीन सामग्री खरीद की गई है।
एस्टीमेट के मुताबिक १ भाग सिमेन्ट और ४ भाग बालू तथा पिलर में मोरङ्ग प्रयोग करने की बात कही गई है जबकि मजदूरों ने बताया कि १ भाग सिमेन्ट ६ भाग बालू और मोरङ्ग प्रयोग नहीं किया गया है।
साथ ही लक्ष्मणपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवन निर्माण में भ्रष्टाचार की पुष्टि करते हुये सद्भावना पार्टर्ीीे काम बन्द करवा दिया है।
३ करोडÞ ६२ लाख ४ हजार ८ सौ २७ रुपये में लक्ष्मणपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र निर्माण हो रहा है। ठेकेदार ललित कुँवर ने हिमालिनीको बताया कि निर्माणका काम है भ्रष्टाचार करनेका उद्देश्य नहीं, लेकिन कहीं त्रुटि हर्ुइ है तो उसे सुधार किया जाएगा। बाँकी विषय में जाँच हो रही है। सब कुछ खुद ही बाहर आएगा।
पिछले ६ महीने से निर्माण हो रहे २ स्वास्थ्य चौकियों के भवन पर उठे सवाल के सर्न्दर्भ में जनस्वास्थ्य प्रमुख जीवन कुमार मल्ल ने बताया कि कामको फिर से सुचारु किया जा रहा है, विवाद ३/४ दिनों तक था, जल्द ही हमलोग भी जाँच के लिए पहुँचंेगे, पिछले दिनों बरसात के कारण जाना सम्भव नहीं था।

Tagged with
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz