मतपत्र फाडनें बाले अपराधी रिहा वही सडकें पार करनें बाले होतें हैं गिरफ्तार


हिमालिनी डेस्क
काठमांडू, २ जून ।
चितवन की भरतपुर महानगरपालिका के ९० मतपत्र इस तरह से फटे हुए हैं, जो गनने के लायक नहीं है । मुख्य निर्वाचन अधिकृत कार्यालय चितवन ने ये जानकारी दी है ।

निर्वाचन आयोग के निर्देशन में राजनैतिक दल, उम्मेदवार, प्रतिनिधि, प्रमुख जिल्ला अधिकारी और सुरक्षा निकाय के प्रमुखों के साक्ष्य में शिल किए गए फटे हुए मतपत्रों को गनने पर पता चला कि ९० मतपत्रों को किसी तरह भी गना नहीं जा सकता ।

कार्यालय के मुताबिक भरतपुर महानगरपालिका वार्ड नं. १९ में कूल २ हजार ८ सय ९७ मत गिर थे, जिनमें से १ हजार ८ सय ९ मत गिने जा चुके हैं, ९ सय ९८ मत गिने जा सकने की स्थिति में है और बाँकी ९० मत पूरी तरह से बरबाद हो चुके हैं ।

मतगणना जारी होने के दौरान पिछले रविवार को मतपत्र फाड़ने की घटना के बाद सिल किए गए मतगणना केन्द को खोलकर फटे हुए मतपत्रों की गणना की गई ।

इसी बीच मतपत्र फाड़ने के अभियोग में गिरफ्तार माओवादी केन्द्र के दो प्रतिनिधियों को जिला अदालत चितवन ने प्रति आरोपी एक एक लाख रुपए की जमानत पर रिहा किया है । इसी वीच काठमांडू घाटी में ट्राफिक नियम के नाम पर हजारौं आम नागरिकों को जथाभावी सडकें क्रस करनें के नाम पर जरिवाना कर रहा हैं । साथ हि जरिवाना कें विकल्प के रुप में ३ घंटे पुलिस के निगरानी मे रहना पडता हैं । नेपाल के अवस्था के बारें मे कहा जाए तो मतपत्र फाडने बाले अपराधी रिहा हो जाते हैं लेकिन सडक पार करनें बाले को बिना सजाय के रिहा नहीं हो पाते हैं । हरेक गतिविधीयों में राजनीतिक हस्तक्षेप बढ्ता गया हैं ।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: