मधेश आन्दोलन का भविष्य अब क्या ? – कैलाश महतो

कैलाश महतो, परासी, १६ ,अक्टूबर |

दुनिया के बन्द आन्दोलन के इतिहास को पिछे करते हुए रेकर्ड बना चुकी मधेश बन्द ने एक तरफ मधेश के साहस और हिम्मत को जाहेर कर रखा है, वही दुसरी ओर संसार के सबसे अलोकतान्त्रिक चरीत्र के सरकार भी इस संसार मे होने का प्रमाण स्थापित भी हुआ है । २४ अक्टुबर २०१४ के मधेश फ्याक्ट्स के अनुसार नेपाल सरकार के वरिष्ठ अधिकारियो के अनुसार ही मधेश के १२ जिलो से नेपाल सरकार को ९२%-९४% राजस्व उपलब्ध करबाने बाले मधेश के लोगो के साथ किए गए सम्वैधानिक सम्झौतो के विरूद्ध बनाए गए सम्विधान के विरूद्ध मधेशियो द्वारा हुए दो महीनो का लगातार बन्द आन्दोलन को भी नेपाल सरकार द्वारा लात मारे जाने की सरकारी हठ भी दुनिया के इतिहास मे एक नया रेकर्ड ही होना चाहिए ।

photo- sm jhangast

समय रह्ते चाकरी-चाप्लुसी तथा सत्ता-भात्ता मे लिप्त रहने वाले मधेशी दल के नेता लोग मधेश विरोध मे सारा सन्यन्त्र तैयार हो जाने के बाद मधेशियो के खूनो पे राजनीती करनेबाले लोगो ने मधेश आन्दोलन के आग मे घी डाल डाल कर दो दो महीने मधेश आन्दोलन करवाकर सैकडो मधेशियो की हत्या करबाया । आजाद मधेश माङ्गने पर खून की नदिया बहने की त्रास दिखाकर शान्तिपूर्ण रूप से मधेश प्रान्त लेने की बात कही गई थी । मगर शान्तिपूर्ण रूप मे ही आन्दोलन कर रहे मशेशियो के छाती तथा सीनो पर गोलिया चलायी गयी । नियन्त्रण मे लिए गए अबोध बालको तक पर भी गोली चलाकर उन्हे मौत के घाट उतारा गया । मधेशी महिलाओ के साथ बलत्कार किया गया, घरो मे आग लगाया गया और सैकडो लोगो को मारकर लापाता किया गया । पर मधेशियो के साथ हुए सम्झौतो को पूरा किया गया क्या ? नेताओ का यही कह्ना था न कि स्वन्तन्त्र मधेश के लिए काफी लोगो को सहादत देना पडेगा । तो प्रान्तिय सम्झौतो को पूरा करने के लिए इतने लोगो को सहादत क्यू देनी पडी ?

इतने लम्बे आन्दोलन के बाद भी हुए प्रधान मन्त्रीय चुनाव मे भाग लेकर फिर से नानीदेखी लागेको बानी, छोड्दा हुन्छ परेशानी को साबित किया जाता है । उस मधेश बिरोधी सम्विधान को नही मानने का नारा देकर उसी सम्विधान के अनुसार सम्पन्न प्रधान मन्त्रीय चुनाव मे पैसे और भावी पद के लालच मे भाग लेते है और फिर उस सम्विधान को नही मानने की बात कर मधेश आन्दोलन को जारी रखने के लिए मधेश को निर्देशित करता है । अब तो मधेशी मोर्चा यह भी तर्क देने लगी है कि सरकारी तीन दलिय मोर्चा को तोडने के लिए उसने चुनाव मे भाग लिया और वो सफल भी हो गया । शर्म की भी हद होनी चाहिए । मधेशी अब उतने गवार तो कम से कम नही रह गए न ।

क्या हो सकता है आन्दोलन को निरन्तरता देने के पिछे का कारण ? एक मधेशी पार्टी के केन्द्रिय महामन्त्री के अपने एक कार्यकर्ता को सम्झाने के अनुसार इस मधेश आन्दोलन को किसी न किसी रूप से अगले आने वाले चुनाव तक के लिए जारी रख्ना उचित है ता कि मधेशी जनता उन्हे चुनाव मे भारी मत दे सके । दुसरा कारण यह देखा गया है कि इस मधेश बन्द आन्दोलन मे आन्दोलनकारी मधेशी नेता लोगो की कमाई बेमिशाल रहा है । बहुत सारे नेताओ का तस्करी के धन्धो ने सुन्दर तरक्की  करबायी है । पेट्रोल, चिनी, खाद्द पद्दार्थ आदी का तस्करी हो रही है उन नेताओ का । इसालीए भी बन्द का आन्दोलन जारी रखने मे नेताओ को फायदा ही फायदा है । बन्द से नेताओ को कोई घाटा थोडे ही है ?

rally birgnjमोर्चा द्वारा मधेश बन्द को जारी रखने का एक और अहम उद्देश्य स्वतन्त्र मधेश गठवन्धन के आन्दोलन को रोकना । मधेशी जनता अब प्रान्तिय आन्दोलन के असफलता और नेताओ की दोहरे चरीत्र के कारण आजादी आन्दोलन को ही आत्मसात करने की सम्भावना को देख स्वतन्त्रता आन्दोलन के आगे वे पिछे छुट जाने के त्रास से उसने एक चाल चलने की कोशीश की है ।

मोर्चा के कुछ नेता लोग राजीनामा तक दे चुके । मगर वो राजीनामा आजतक स्विकृत नही हो पाया है, जबकी डा-बाबुराम भट्टराई का राजीनामा इतने जल्द स्विकृत हो जाता है । क्या है कारण ? कारण यह है कि उनके राजीनामा स्विकृत नही होने के लिए ही दी गयी है । एक अधिवक्ता तथा सभासद समेत रहेन सभासद के अनुसार सम्विधानसभा नियमाबली के अनुसार किसी पार्टी का सामुहिक राजीनामा स्विकार करने की प्रावधान ही नही रहा है और ए लोग यह जानते हुये कि उनकी राजीनामा तो स्विकृत होगी नही और जनता मे राजीनामा की वाह्वाही फैल जाएगी ।

तो अब मधेश एक ऐसे मोड पर खडा है, जहाँ से पिछे लौटना इसके लिए जितना खतरनाक स्थिती है, उससे कयी गुणा संकट की स्थिती मधेशी मोर्चा या कोई दल के अभी के निर्णय से होना निश्चित प्राय: है । अब मधेशी दलो का उद्देश्य क्या ? अब इनका उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ नेपालियो के साथ कोई सम्झौता करके सता और पैसे कमाने के अलावा कुछ नही रह गया है । मधेशियो को होशियार रहने की आवश्यकता है । अब स्वराज तथा आजाद मधेश के आलावा दुसरा कोई विकल्प नही है । इसिलिए हम आपको आजादी दिलाने का जिम्मा लेते है, आप हमारे अभियान के साथ जुडने तथा हमे हौसला प्रदान करने के लिए आमन्त्रित करते है । आप हमे साथ दे, हम आपको आजादी देङ्गे ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: