मार्च २३ अर्थ आवर दिवस, रात ८:३० से ९:३० तक लाइट बंद करें ।

press-release-mast-head२३,मार्च, काठमाणडू, कविता दास । पर्यावरण को बचाने के लिए शनिवार साम को बिश्वभर लाखो लोग  लाइट बंद करके अर्थ आवर अभियान में  सहभागी हो रहे है । डब्लु डब्लु एफ की अग्रसरता और  काल्र्सवर्ग बियर के  सहभागीता मे नेपाल मे पिछले  तीन बर्ष से  हरेक बर्ष मार्च २३ में  यह  अभियान संचालन होता आ रहा  है । गोर्खा ब्रुअरी पिछले ३ वर्षों से इस विश्वव्यापी कार्यक्रम मे सन २०११ से लेकर अबतक नेपाल के १३५ सहभागी  देश में आगे लेकर आया है । काल्र्सवर्ग ने सभी लोगो को  आमंत्रण किया है की मार्च २३ के साम रात ८:३० से ९:३० तक, एक घण्टा अपने घर या दफ्तर के सभी लाइट बंद करे । अर्थ आवर क्या है इसका  वास्तविकता समझने के लिए लाइट्स ऑफ करे ।गोर्खा ब्रुअरी के  व्यवस्थापन प्रबन्धक फिलिप नोर ने  बताया है की हमारा  ग्रुप  वातावरण के मामले में लम्बे समय से साम्बेदनसिल रहा है और इस अभियान से वातावरण परिर्वतन मे  उर्जा बचत के क्षेत्र मे बहुत बड़ा सन्देश मिलेगा ।   उन्होंने ने बताया की संसार के सभी काल्र्सबर्ग संस्थान इस अर्थ आवर डे पर एक साथ सह्भ्गिता दिखाने से काल्र्सबर्ग अलग अलग देशो से अलग अलग नाम से स्थापित होते हुए भी यह एक ही संस्था दरसाता है ।

सन २००७ में ऑस्ट्रेलिया के सिडनी से २२ लाख लोग आपने घर ,कार्यालय अपने अत्यावश्यक चीज को छोड़ कर सभी लाइट्स बंद करके इस अभियान का आरंभ किया था । सन २००८ में विश्वव्यापी  रूप में करीब ५ करोर लोगो ने सहभगिता दिखाया । इस समय  फ्रान्सिस्को के गोल्डन गेट ब्रिज, रोम के  कोलिसियम, सिड्नी के  ओपेरा हाउस और  टाइम्स् स्कुएर के  कोका- कोला बिल बोर्ड जैसे  विश्वविख्यात् जगह पर   अन्धकार होता है  १ घंटे के लिया । सन २००९ में अगल अलग ८८ देशों ने लाइट बंद कर के अर्थ आवर को बृहत रुप में संपन किया था । सन २०१० में १२८ देश सहभगिता हुए थे और ७ महाद्धिपो में बाताबरण के प्रति सम्बेदंसिलता देखने को मिला था । यह एक  नया रिकॉर्ड कायम हुवा था । वैसे ही २०११ में भी १३५ देश ने सहभागिता लेते हुए रिकॉर्ड कायम रखा था ।

अर्थ आवर वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फुंडे के विश्वव्यापी पहल है जो घरेलु और व्यापारिक संस्था से १ घंटा के लिया लाइट बंद करके बाताबरण मे परिबर्तन के लिए ध्यानाकर्षण करता है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz