मालपोत कार्यालय बाँके में भ्रष्टाचार बिरुद्ध सत्याग्रह

पवन जायसवाल, नेपालगञ्ज (बाँके) २०७४ माघ ११ गते ।
सरकारी कार्यालय में होनेवाली भ्रष्टाचार तथा ढिलासुस्ती के बिरुद्ध में मालपोत कार्यालय नेपालगञ्ज में शुद्धिकरण (स्रत्याग्रह) कार्यक्रम किया गया है । भ्रष्टाचार विरुद्ध क्रियाशील संस्था बास नेपालगंज के अनुसार माघ १० गते बुधबार भ्रष्टाचार बिरुद्ध शुद्धिकरण कार्यक्रम सम्पन्न किया गया है । कार्यक्रम मालपोत कार्यालय नेपालगंज को केन्द्रीत कर किया गया था । आयोजक संस्था के अनुसार कार्यालय में होनेवाले सभी प्रकार की भ्रष्टाचार, अनियमितता, ढिलासुस्ती के विरुद्ध सांकेतिक दबाव देने की उद्देश्य से सत्याग्रह कार्यक्रम रखा गया था ।


कार्यक्रम अन्तरगत बुधबार सुबह १० बजे से १ घण्टा तक मालपोत कार्यालय नेपालगञ्ज की मुख्य गेट में ‘मालपोत में घूस नही लेंगें’, ‘हम घूस नही लेंगें’, ‘मालपोत कार्यालय भ्रष्टाचार निषेधित क्षेत्र है’, ‘घुस्याहों को प्रबेश निषेध’, ‘घूस मा“गनेवाले कर्मचारियों को कह कर पूछा जाय’ जैसे भ्रष्टाचार बिरोधी नारा अंकित प्लेकार्ड सहित संस्था के पदाधिकारी तथा युवाओं ने सांकेतिक दबाद दिया था । सत्याग्रह पश्चात संस्था ने मालपोत कार्यालय द्वारा प्रदान होनेवाली सेवा प्रवाह में सुधार करने के लिए मालपोत कार्यालय के प्रमुख दीर्घबहादुर पोखरेल को १३ सूत्रीय ज्ञापनपत्र दिया है ।

बास के अध्यक्ष मन भण्डारी द्वारा हस्ताक्षरित उक्त ज्ञापनपत्र में मालपोत कार्यालय नेपालगंज में हो रही सभी प्रकार की भ्रष्टाचार नियन्त्रण किया जाए, विभिन्न बहानें में होनेवाला घुसखोरी (रिसवत) को तत्काल अन्त किया जाए, नियमित रुप में नागरिकों की शिकायत सुनुवाई किया जाए, भ्रष्टाचार बिरुद्ध की गई उजुरी की सुनुवाई तत्काल किया जाए, सूचना अधिकारी और शिकायत सुननेवाले अधिकारी को सक्रिय बनाया जाए, बिना झंझट आवश्यकता के अनुसार सूचना और सेवा सर्वसाधारण को दिया जाए, असल कार्य करनेवाले कर्मचारियों को प्रोत्साहित और गलत कार्य करनेवाले कर्मचारियों को दण्डित किया जाए, सूचना की हक सम्बन्धी ऐन और सुशासन ऐन अक्षरश पालन किया जाए, नागरिक बडापत्र उचित स्थान में रखा जाए और सिकायत पेटिका को उचित व्यवस्था मिलाए जाए जैसे मांग सम्बोधन करने के लिए कहा गया है ।

इसीतरह विभिन्न बाहनें में सेवा ग्राहियों को दुःख देना बन्द किया जाए, सेवा प्रवाह को चुस्त–दुरुस्त बनाया जाए, नागरिकों से सम्बाद कर सुशासन बहाली किया जाए, भ्रष्टाचार बिरुद्ध तत्काल सार्वजनिक प्रतिबद्धता किया जाए जैसी मांग भी ज्ञापनपत्र में रखा गया है । ज्ञापनपत्र लेने के बाद मालपोत कार्यालय के प्रमुख दीर्घबहादुर पोखरेल ने कहा कि कार्यालय में अनाधिकृत व्यक्ति और बिचौलीया प्रवेश करते हैं, इसीलिए उल्लेखित समस्या हो रही है । उन्होंने कार्यालय में होनेवाले इस तरह का अवैध क्रियाकलापों में सुधार करने की प्रतिवद्धता भी व्यक्त किया है । उनका यह भी कहना है कि इसके लिए नागरिक सहयोग की आवश्यकता है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: