मैथिली कथा संग्रह ‘पथार’ का विमोचन, मैथिली भाषा को धर्म से ना जोडे

DSC07097कैलास दास, जनकपुर, २५ जुलाइ ।धर्म और कला संस्कृति से जोडकर मैथिली भाषा का विकास सम्भव नही है एक कार्यक्रम मे वक्ताओं ने अपना विचार व्यक्त किया।
जनकपुर के रामस्वरुप रामसागर बहुमुखी क्याम्पस मे आयोजित ‘बदलैत परिप्रेक्ष्य मे उच्च शिक्षाक सान्दर्भिकता और नयाँ पाठ्यक्रम के चुनौती विषय के संगोष्ठी’ और ‘पथार’ कथा संग्रह के विमोचन कार्यक्रम मे वक्ताओं ने मिथिलाञ्चल केवल हिन्दुओं का नही अन्य समुदाय का भी है । इसलिए धर्म और संस्कृति से जोडकर मैथिली का विकास सम्भव नही है वक्ताओं का विचार था।DSC07093
मैथिली विभागाध्यक्ष परमेश्वर कापडि के अध्यक्षता हुआ कार्यक्रम के प्रमुख अतिथि प्रमुख जिला अधिकारी हरिप्रसाद मैनाली ने भाषा के विकास से वहाँ का स्थानीय विकास होता है । इसलिए इस क्षेत्र का विकास करना है तो मैथिली भाषा के जरिए जनकपुर मे पर्यटकों को अपनी ओर खिचना होगा । इससे समाज और देश का विकास मे सहयोग पहुँचेगा उन्होने कहा ।
कार्यक्रम मे राराब क्याम्पस के प्रमुख विष्णुदेव यादव ने  जिनको हिन्दी और अग्रेजी से जीवन यापन चलता है वह मैथिली क्यो बढेगा । मैथिली के विकास तभी सम्भव है जब मैथिली भाषा का रोजगारी के साथ जोडा जाऐगा । इसके लिए मैथिली के आवश्यकता बोध करानी होगी उन्होने कहाँ ।
कार्यक्रम मे डा. सुभाष लाभ ने कहा कि  सिकी, डलिया, ढेकी, जाता के विषय मे मैथिली मे पढ लिख लेने से मैथिली का विकास सम्भव नही है  । मैथिली भाषा के विकास चाहते है तो इसे हिन्दी और अग्रेजी से तुलना करना होगा । मैथिली कला संस्कृति का विकास से मैथिली के विकास सम्भव नही है ।
कार्यक्रम मे मैथिली विभागाध्यक्ष परमेश्वर कापडि ने कहा कि एमए मे मैथिली पाठ्यक्रम मे किस प्रकार के पाठ्य पुस्तक का समावेस किया जाए संगोष्ठी का मुख्य उद्देश्य है ।
परमेश्वर कापडि द्वारा लिखित मैथिली कथा संग्रह ‘पथार’ का डा सुभाष लाभ ने विमोचन किया है । पुस्तक मे २३ कथा समावेस किया गया है । कथा के बारे मे डा. लाभ ने समिक्षा भी किया था ।
कार्यक्रम मे मिथिला नाट्य कला परिषद के अध्यक्ष सुनिल मल्लिक, प्रो. अनिल कुमार साह, उमेश यादव, अशोक दत्त, नित्यानन्द मण्डल, एसएसपी शिवलामी छाने सहित के वक्ताओं ने अपना विचार व्यक्त किया था ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: