मोरङ के १३ मधेशवादी दल एकसाथ कहा : अब की लडाई आर या पार की

जितेन्द्र ठाकुर, विराटनगर, २० भद्र |

umesh yadav

umesh yadav

मधेश आन्दोलन अन्तरीम संविधान में संस्थागत किए एजेन्डा को सड़क आन्दोलन से ही नयाँ संविधान में उल्लेख करवाने के लिए मोरङ में सक्रिय रहे सम्पूर्ण मधेश केन्द्रित दल एक स्थान में एक साथ खड़े हैं । संयुक्त लोकतान्त्रिक मधेशी मोर्चा ने विगत के सम्झौता और सहमति तथा अन्तरीम संविधान में शामिल होने के बावजूद व्यवस्था विपरीत तीन दलों ने संविधान निर्माण के काम को आगे बढाया है । इसके विरोध में आह्वान अनिश्चितकालीन मधेश बन्द को प्रभावकारी बनाने के लिए एक हुए हैं । मधेश का हृदय पूर्व का जिला झापा , मोरङ और सुनसरी जिला को स्वायत मधेश प्रदेश के भीतर रखना होगा, मधेश आन्दोलन के बाद राज्य के द्वारा किए गए सम्झौता तथा अन्य उत्पीड़ित समुदाय का आन्दोलन के बाद हुए सम्झौता कार्यान्वयन करने के लिए मधेश केन्द्रित राजनीतिक दल तथा विभिन्न जातीय संघ संगठन एक हुए हैं मधेश बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक उमेश यादव ने बताया । उन्होंने कहा कि मोरङ के १३ मधेशवादी दल तथा संघ संगठन एक होकर अधिकार प्राप्ति के लिए आन्दोलनरत हैं । उन्होंने कहा कि एक होने के बाद मोरंग के मधेशी जनता अधिक उत्साहित हुए हैं और पहले से चार गुणा अधिक संख्या में उनकी उपस्थिति बढी है ।

संयुक्त लोकतान्त्रिक मधेशी मोर्चा के एक घटक तमलोपा मोरङ के अध्यक्ष मोहम्मद कादिर के बिशेष पहल में आन्दोलन के एजेन्डा में आन्दोलनरत राजनैतिक दल एक होकर निर्णायक आन्दोलन करने की सहमति की बात हुई है ।pm ko photo

raj kumar yadav

raj kumar yadav

झापा, मोरङ और सुनसरी मधेश के जिला को मधेश में ही समावेश करने के लिए आरपार का आन्दोलन करने की आवश्यकता है इसलिए हम एक हुए हैं तमलोपा के जिला अध्यक्ष कादिर ने बताया । मुद्दा तथा एजेन्डा एक होने के कारण संविधान में संस्थागत करने के लिए एक होने की बात कहते हुए कादिर ने कहा, अब मधेश आन्दोलन का केन्द्र बिन्दु विगत की तरह विराटनगर ही होगा । सब मधेशवादी राजनैतिक दल आन्दोलन करने के लिए मोर्चाबन्दी होने के बाद आन्दोलन और भी अधिक प्रभावकारी होगी । किँतु यह शांतिपूर्ण होगी । प्रदेश के सीमांकन का विरोध करती आई आन्दोलनरत संयूक्त लोकतान्त्रिक मधेशी मोर्चा के साथ मधेशी जनअधिकार फोरम नेपाल (लोकतान्त्रिक ) मधेशी जनअधिकार फोरम नेपाल (गणतान्त्रिक) , नेपाल सद्भावना पार्टी, तराई मधेश राष्ट्रिय अभियान, मधेश बचाउ संघर्ष समिति, मधेशी युवा विद्यार्थी संघर्ष समिति के साथ ही बृहद मधेशी नागरिक समाज भी अब से संयुक्त रुप में एक होकर निर्णायक आन्दोलन का उद्घोष किए है । अलग अलग आन्दोलन तथा विरोध के प्रदर्शन करने के कारण  भी जनसहभागिता कमजोर ही रहती है । पर एक होने पर यह प्रभावी होता है संघीय समाजवादी फोरम नेपाल मोरङ के अध्यक्ष राजकुमार यादव ने कहा । एजेन्डा एक ही होने के कारण एक साथ होने mohmad kadir mal babu sahniसे हम निष्कर्ष में पहुँच सकते हैं ।अब की लडाई आर या पार की लडाई है । पर यह लडाई शांतिपूर्ण तरीके से ही लडी जाएगी । सद्भावना पार्टी के अध्यक्ष चन्द्र प्रसाद राजवंशी ने कहा जनता का आन्दोलन होने के कारण जनचाहना के अनुसार एक होकर ही जनता की अपेक्षा पूरी हो सकती है । जनता के भावना अनुसार का संविधान जब तक नहीं आएगा तब तक यह आन्दोलन जारी रहेगा । तराई मधेश राष्ट्रिय अभियान के मोरङ के संयोजक जफर अहमद् जमाली ने कहा कि एक होकर ही जनता की भावना की पूर्ति हो सकती है ।

गणतान्त्रिक फोरम के जिला अध्यक्ष मालबावु सहनी ने घर फुटे गवार लुटे जैसी भावना दिखने के कारण ही एक होकर लडने की kutpitअवस्था आई है । एक होना ही हमारी सबसे बडी उपलब्धि है । मधेश विरोधी अव खुद तह में आएँगे । आन्दोलन के कार्यक्रम अनिश्चिकालीन बन्द को और भी सशक्त बनाना जिला के विभिन्न स्थान में सड़क अवरुद्ध, जुलुस प्रदर्शन, कोणसभा करना बताया है । मोर्चाबन्दी की एक्यबद्धता जनाने में संघिय समाजवादी फोरम नेपाल के मोरङ अध्यक्ष राजकुमार यादव, सद्भावना पार्टी के मोरङ अध्यक्ष चन्द्र राजवंशी, मधेश बचाओ संघर्ष समिति के उपाध्यक्ष उमेश यादव, तराई मधेश सद्भावना पार्टी के जिला अध्यक्ष रमानन्द साह, फोरम गणतान्त्रिक के मालबाबु सहनी, तमरा अभियान के जफर जमाली और राष्ट्रिय मुस्लिम संघर्ष गठबन्धन के जिला अध्यक्ष साहव अहमद गुड्डु ,बृहद मधेशी नागरिक समाज के सुर्यनाथप्रसाद सिंह ने एक होकर आन्दोलन करने में एक्यबद्धता बताई । उन्होंने कहा कि आन्दोलन को दमन करने की कोशिश तत्काल बन्द करनी होगी अगर यह होता रहा तो मधेश भी चुप नहीं रहेगा ।jhaphar ahmad jmalikut 3

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz