रंक्तरंजीत संविधान स्वीकार्य नही,ओली की बोली में कोई दम नहीं : महन्थ ठाकुर

विजेता चौधरी, चैत्र ६ काठमाण्डू |
संङघीय गठवंधन द्वारा आयोजीत संयुक्त राष्ट्रीय आन्दोलन की अपरिहार्यता विषयक अन्तक्रिया कार्यक्रम में बोलते हुए तराई–मधेस लोकतान्त्रीक पार्टी के अध्यक्ष महन्थ ठाकुर ने कहा– मधेस आन्दोलन अब राष्ट्रीय आन्दोलन से जुड रहा हैं । कार्यक्रम के सभापती भी रहें ठाकुर ने सभी आन्दोलनरत पार्टी केन्द्रीत होने पर प्रशन्नता भी प्रकट की ।
ठाकुर ने आन्दोलन की अपरिहार्यता को दर्शाते हुए कहा नेपाल के दो तिहाई जनता उपेक्षीत हैं । ३६ बार तक सरकार से वार्ता में बैठने के बाद भी कोइ निष्कर्ष नही, कहते हुए उन्होने प्रधानमन्त्री की बोली मे विश्वनियता का अभाव है साथ ही वे वार्ता को टार रहें है कहा ।

DSCN2501
संविधान के विषय पर उन्होने कहा मधेसी एवम् थारु के रक्त से लिखा गया अभी का संविधान रंक्तरंजीत है, जो किसी हालत मे स्वीकार्य नही । ठाकुर ने कार्यकर्ता गीरफतारी के विषय मे बोलते हुए बताया– अभी मधेस शोकाकुल अवस्था से गुजर जहा है, मोर्चा के कार्यकर्ता की गीरफतारी और उन्हें यातना दी जारही है । उन्होने कार्यकर्ता चोरीछिपे घुम रहें है कहते हुए कहा प्रधानमन्त्री सभी मुददा फिर्ता लेने का सीर्फ गप लडा रहें है । उन्होने प्रधानमन्त्री के व्यंगात्मक बोली एवम् धोखाधडी पूर्ण रवैया से सामाधान संभव नही बताया । उन्होंने कहा कि मानव समाज जव मानव से पीड़ित होता है तब वहाँ विखंडन होता है |

DSCN2525वौद्घिक व्यक्तित्व एवम् लेखक खगेन्द्र संग्रौला ने अपना विचार रखते हुए कहा न्याय का सपना, आकांक्षा एवम् आवाज कभी नही हारता, मधेसी आन्दोलन हारा नही है कहते हुए उन्हों ने आन्दोलन विराम से उठके केन्द्रमे उठरही है वो भी केन्द्रीकृत हो के ।
संग्रौला ने कहा ये आन्दोलन राज्य से है, राज्य अन्र्तगत स्वराज, स्वयत्त खोजरही जनता ।
इसी प्रकार कार्यक्रम मे बोलते हुए खर्साङ्ग राष्ट्रीय समाजवादी पार्टी के प्रेमबहादुर खाती ने कहा अब का आन्दोलन एकिकृत राज्य आन्दोलन होना चाहिये ।
महिला नेतृ डली झा ने अपना विचार रखते हुए कहा केपी ओली नया राजा बन्ना चाह रहे है । उन्होने महिला के लिए हदतक की पीडादयी उक्त संविधान को विभेदकारी बताते हुए कहा उक्त संविधान नही स्वीकार किया जएगा ।
कार्यक्रम मे नेवा संयुक्त के नरेश ताम्रकार, पूर्व सभामुख दमननाथ ढुंगाना, थरुहट पार्टी के भानुराम थारु, लाक्पा शेर्पा लगायत के विभिन्न पार्टी के अध्यक्ष एवम् वरिष्ठ नेताओं ने अपना विचार प्रस्तुत किया ।
कार्यक्रम मे एक्यवद्घता जनाने के लिए सदभावना पार्टी के अध्यक्ष राजेन्द्र महतो, विजयकान्त कर्ण, प्रो. कृष्ण हाछेथु, तमलोपा के महेन्द्र राय यादव, नेपाल सदभावना के अनीलकुमार झा, आदीवासी जनजाति पार्टी के डा. ओम गुरुङ्ग, कुमार लिङ्गदेन, कौशल कुमार, लक्षमणलाल कर्ण, रामनरेश राय, वृषेसचन्द्र लाल, केशव स्थापित लगायत के नेताओं की उसस्थिती रही ।
कार्यक्रम मे आन्दोलन के सभी शहीद के प्रति एक मिनट मौन धारण कर श्रद्धान्जली अर्पण कीया गया ।

20160418_131350

loading...