Sun. Sep 23rd, 2018

वक़्त की आंच से जल रहा है जिगर नेह की बारिशों से बुझा जाइये ।।आरती आलोक वर्मा

गजल

आरती आलोक वर्मा
दास्ताँ प्रीत की अब सुना जाइये 
इक गजल प्यार से गुनगुना जाइये ।।

चांद पलकें बिछाये खड़ा है जहाँ 
चांदनी बन वहाँ आप आ जाइए ।।

नींद आती नहीं है मुझे आजकल 
लोरियाँ आप माँ की सुना जाइये ।।

वक़्त की आंच से जल रहा है जिगर
नेह की बारिशों से बुझा जाइये ।।

आरती का जनाजा निकल अब पड़ा 
चार बूंदें अश्कों की गिरा जाइये ।।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of