वाम गठबंधन के भीतर असन्तुष्टि

काठमांडू, ६ कार्तिक । चुनाव को लक्षित कर नेकपा एमाले और माओवादी केन्द्र के बीच वाम गठबंधन निर्माण हुआ है । लेकिन प्रथम चरण के निर्वाचन से पूर्व ही उम्मीदवार मनोनय के क्रम में गबंधन के भीतर तीव्र असंतुष्टि दिखने को मिली है । उम्मीदवार चयन संबंधी विषयों को लेकर दो दलों के स्थानीय नेतृत्व के बीच आपसी असहयोग भी बढ़ रहा है । जिसके चलते विभिन्न निर्वाचन क्षेत्र में बागी उम्मीदवारों ने अपना मनोनय पञ्जीकरण किया है । यह समाचार आज प्रकाशित अन्नपूर्ण पोष्ट में हैं ।


माओवादी सचिवायल सदस्य तथा पूर्वगृहमन्त्री शक्तिबहादुर बस्नेत ने वाम गठबंधन के तरफ से जाजरकोट में उम्मीदवारी दिया है । लेकिन वहां एमाले नेता गोविन्दविक्रम शाही ने भी उम्मीदवारी दिया है । शाही पूर्व सांसद भी हैं, उन्होंने पार्टी निर्णय प्रति असन्तुष्टि जताते हुए उम्मीदवारी दिया है । प्रदेशसभा के लिए जाजरकोट क्षेत्र नं. (क) में भी गठबंधन के भीतर से बागी उम्मीदवार खड़ा हुए है । जाजरकोट (क) में गठबंधन से माओवादी नेता गणेश सिंह ने उम्मीदवारी दिया है, लेकिन सिंह के विरुद्ध एमाले के निरज आचार्य ने उम्मीदवारी दिया है ।
इसीतरह रामेछाप जिला में वाम गठबंधन के तरफ से माओवादी के श्यामकुमार श्रेष्ठ ने उम्मीदवारी दिया है । श्रेष्ठ के विरुद्ध पार्टी के ही दो नेताओं ने उम्मीदवारी दिया है । बिनाविभागीय राज्यमन्त्री श्रेष्ठ के विरुद्ध पूर्व सभासद लक्ष्मी गुरुङ और मैनकुमार मोक्तान ने बागी उम्मीदवारी दिया है । रामेछाप प्रदेशसभा (क) में वाम गठबंधन के साझा उम्मीदवार तथा एमाले जिला अध्यक्ष शान्ति पौडेल के विरुद्ध माओवादी नेता हेमन्त पौडेल ने उम्मीदवारी दिया है । उल्लेखित घटना तो एक नमूना है । इस तरह का असन्तुष्टि कई निर्वाचन क्षेत्रों में दिखाई दिया है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: