विकास करता रहा हूँ और करता रहूँगा मंत्री निधि

हिमालिनी प्रतिनिधि
जनकपुर विकास की राह पर तेजी से अपने कदम बढÞा रहा है । जनकपुर को सिर्फएक पर्यटकीय दृष्टिकोण से नहीं देखा जा सकता । यह सांस्कृतिक, धार्मिक और ऐतिहासिक पहचान को अपने में समेटे हुए है । वर्षों से यह सुधार की राह देख रहा था । जिसकी आज शुरुआत हर्ुइ है, यह शुरुआत तो बहुत पहले हो जानी चाहिए थी । किन्तु अब तक जनकपुर को जो तव्बज्जो चाहिए थी वह नहीं मिल पाया था । खैर देर आए दुरुस्त आए ।
आज जनकपुर की जो छवि बदली जा रही है, उसका श्रेय भौतिक तथा यातायात पर्ूवाधार मंत्री विमलेन्द्र निधि को भी जाता है । लेकिन निधिका निकटवर्ती मानते हैं कि दुराग्रह से प्रेरित समाचार आता रहा है कि मंत्री निधि एडीबी परियोजना का विरोध कर रहे हैं । किन्तु उनके अब तक के कार्यों को देखकर यह आरोप लगाना गलत होगा । अगर कोई व्यक्ति देश हित में, क्षेत्र हित में काम करता है तो उसका सही मुल्यांकन होना चाहिए । किन्तु ऐसा होता नहीं है । पर्ूवाग्रह से प्रेरित आरोप या प्रत्यारोप में  किसी भी व्यक्ति की सही छवि सामने नहीं आ पाती । यही वजह थी कि मंत्री निधि को आरोपों के खण्डन हेतु प्रेस काँन्पे|mन्स बुलाना पडÞा । जहाँ उन्होंने स्पष्ट किया कि, धनुषा के ८० प्रतिशत विकास में उनके पिता स्व. महेन्द्र नारायण निधि और स्वयं उनका सहयोग रहा है, ऐसे में आज अगर जनकपुर के विकास के लिए एडीबी परियोजना आई है तो मैं उसका कैसे विरोध कर सकता हूँ – आपके अनुसार इस परियोजना में कहीं कोई विवाद नहीं है । अगर बात लैन्डफिल्ड साइट की है तो आपका मानना है कि यह आवश्यक नहीं  कि वह फुलगाामा में ही बने उसके लिए जगह की व्यवस्था की जाएगी । जनकपुर का विकास होना है और वह होकर रहेगा उसमें कहीं कोई बाधा नहीं आ सकती । यह हो सकता है कि मंत्री निधि की अपनी कार्यशैली हो जो विरोधियों को समझ नहीं आ रही और सम्भवतः इसलिए उन पर सवाल उठाया जा रहा है । किन्तु अब तक आपने विकास के लिए जितने भी कार्य अंजाम देने शुरु किए हैं, उससे आप पर उठाए गए सवाल का जवाब स्वयं मिल जाता है ।
किसी भी क्षेत्र की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए पुख्ता सडÞक व्यवस्था की आवश्यकता होती है । मंत्री निधि ने इसके लिए अत्यन्त महत्वपर्ूण्ा कदम उठाया है ।  जनकपुर ढलकेवर सडÞक खण्ड को छः लाइन बनाने की योजना मंत्री निधि लेकर आए हैं । जिसका र्सर्वे का काम शुरु हो चुका है । साथ ही आपने पर्ूव-पश्चिम विद्युत रेलमार्ग का भी शिलान्यास किया है । गत बजट से जनकपुर और ३/४ क्षेत्र नम्बर के विकास हेतु आपने पचास करोडÞ की राशि पास करवाई है । निजगढÞ फास्ट ट्रैक बनाने के लिए आपने लगानी बोर्ड से १ खर्ब की योजना अपने मंत्रालय के मातहत लिया है । दिल्ली के एक्जिम बैंक को इस कार्य हेतु निवेश करने के लिए तैयार करने की कोशिश में आप प्रयासरत हैं और जल्द ही सफलता मिलेगी यह आशा भी है । तर्राई हुलाकी सडÞक योजना को भी आपका साथ और र्समर्थन मिल रहा है । इसमें कार्यरत जो भी ठेकेदार थे, जो वापस चले गए थे उन्हें फिर से वापस बुलाने की कोशिश की जा रही है ।
आपने यह जानकारी दी कि, आगामी आर्थिक बजट में मिथिला सडÞक सुधार परियोजना पर काम किया जाएगा । आपने कहा कि जहाँ तक जनकपुर सिगरेट कारखाना संचालन की बात है, सरकार उसके पक्ष में नहीं है । कम कीमत पर इसका निजीकरण करने से तो बेहतर होगा कि इसे संघीय प्रदेश की राजधानी का मुख्यालय बनाया जाय । जिससे अरबों की सम्पत्ति नष्ट होने से बच जाय । इसके लिए आप पहल कर चुके हैं । धनुषा के विकास के लिए २९ करोडÞ की निकासी हर्ुइ है यह जानकारी भी आपने दी । पोखरा से बागलुंग छः लाइन राजमार्ग निर्माण योजना को भी जल्द ही कार्यान्वित किया जाएगा । ऐसी खबर मिल रही है । इन सारी जानकारियों से यह तो स्पष्ट हो रहा है कि आप चहुँमुखी विकास की ओर अग्रसर हैं ।
मंत्री निधि के स्व. पिता विकास पुरुष थे और मंत्री निधि का मानना है स्वयं मैं भी उसी राह पर चल रहा हूँ चाहे कहने वाले कुछ भी कहें मैं अपने क्षेत्र का ही नहीं अपने देश का भी विकास चाहता हूँ और मैं हमेशा विकास करता रहा हूँ और करता रहूँगा ।

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz