विराटनगर के मुस्लिम समाज ने सद्भावना का मिसाल कायम किया, डोम समाज को किया मद्त

धर्म से उपर राहत अाैर सहयाेग की भावना है : मुस्लिम समाज पहुँचा राहत लेकर डाेम समुदाय में ।

विराटनगर २० अगस्त

इस बार की बाढ ने  बिराटनगर के डाेम  बस्ती काे उजाड दिया है । उनके महल्ले के ८५ घर उजड चुके हैं । पूरी बस्ती खतम हाे चुकी है  रहने का ठिकाना नहीं है । खाने के   लिए कुछ नहीं है । इस विपदा में काेई उनकी खबर लेगा यह यकीन नहीं था । एेसे में राहत सामग्री लेकर विराटनगर के  मोरङ मुस्लिम समाज  ने उक्त महल्ले में पहुँचकर सद्भावना का मिसाल कायम किया है ।  अशाेक मारिक डाेम समुदाय के हैं उन का कहना है कि गैर धार्मिक लाेग उनके पास अाएँगे इस बात का उन्हें विश्वास नही‌ था ।

मुस्लिम धर्मालम्बी सुअर का नाम भी उच्चारण नहीं करते । अगर गलती से यह शब्द निकल गया ताे खुद काे शुद्ध करते हैं । एेसे में इन सारी बाताें काे परे रखकर रविवार डाेम बस्ती में राहत सामग्री लेकर मुस्लिम समुदाय का जाना निःसन्देह एक उदारता अाैर सद्भावना का प्रतीक बन गया है । , मुस्लिम अगुवा जफर जमाली ने कहा,‘मानवता के   लिए हमें लगा कि धर्म से उपर उठकर सहयाेग के लिए अागे बढना चाहिए ।

मोरङ मुस्लिम समाज ने  डोम टोल के साथ ही जिला के बाढ पीडित अल्पसंख्यक ऋषिदेव (मुसहर) समुदाय का भी सहयाेग करने का निर्णय किया है ।  समाज के प्रवक्ता ओसिम आलम के अनुसार समाज  ने  डोमसहित एक हजार दाे साै परिवार काे खाद्यान्नसहित अन्य सहयोग किया है  ।

आलम के अनुसार मुस्लिम समाज ने विभिन्न दाता से जुटाए सहयोग  काे जिल्ला दैवी प्रकोप उद्धार समिति से इजाजत  प्राप्त कर वितरण शुरु किया है ।

समाज के सचिवालय सदस्य अनिश आलम ने कहा कि इस संकट के समय में धर्म अाैर सम्प्रदाय से उपर मानवता राहत अाैर सहयाेग  है ।

मोरङ में  बाढ के कारण आठ हजार पाँच साै घर डुबान में है‌ ।  बाढ ने ६० घर बहा दिया है । १७  की मृत्यु हुई है ।  तीन हजार दाे साै एक घर के ११ हजार चार साै २०  विस्थापित  हाे गए हैं ।

 

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: