शिवरात्री में पशुपतिनाथ मन्दिर की भव्यता अपरिमेय,साधुओं की चहलपहल,

विजेता चौधरी, काठमाण्डू, २३ फागुन |

प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी शिवरात्री में पशुपतिनाथ मन्दिर की भव्यता अपरिमेय हो गई है । पूजा आयोजन समिति के सदस्य बताते हैं–नेपाल तथा भारतीय साधुओं और योगियो के आगमन से मेले की रौनक दोगुणी हो गर्इ हैं, साथ ही अन्य तीर्थालु तथा भक्तजन के आने का क्रम जारी हैं ।  हलाकि अन्य वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष तीर्थालु तथा भक्तजन  में कुछ कमी आई है | DSCN2326

हिन्दुओं के महान पर्व शिवरात्री में प्रत्येक वर्ष पशुपतिनाथ मन्दिर में विशिष्ठ पूजन के आयोजन के साथ ही, साधुओं के ठहरने का उचित वन्दोवस्त एवम् उनकी विधिपूर्वक विदार्इ भी की जाती हैं । परापूर्व से अर्थात सालों से चलती आ रही इस नियम का पालन इस वर्ष भी हर्षोल्लास के साथ मनाई जाएगी– पूजा आयोजन समिति बताते हैं । बहरहाल, इस वक्त काठमान्डौ के मौसम में नमी कें साथ कुछ बुंदाबांदी भी हो रह िहै, और पानी परने की भी सम्भावना वनी हुयी है, पर इन समस्याओं के बावजुद भी मन्दिर परिसर में साधुओं की धुनी ज्यों की त्यों रमी हुयी हैं । pashupati

आयोजक समिति बताते हैं– इस वर्ष नागाबाबाओं की उपस्थीति भी भारी मात्रा में हुर्इ हैं । साथ ही शरीर में फगत भष्म लेपकर शिवभक्ति में लीन योगियों की टोली भी देखने लायक हैं । शिवरात्री पूजन एवम् मेले की सारी तैयारी पूर्ण हो गई हैं साथ ही महिलाओं कें लिए विशेष सुरक्षा की व्यवस्था की गई हैं–आयोजक समिति बताते हैं । विभिन्न शहरों तथा प्रान्त से आए हुए तीर्थयात्रियो कें रिजर्ब बसें और वाहनों से गौशाला सडक भरी हुई हैं । बाजार में भी इस मेले को लेकर काफी उत्साह हैं । स्थानीय फूल–प्रसाद व्यापारी कनीका भट् से हुइृ बातचीतके दौरान वे बताती हैं– हम व्यापारी इस मेले की सालभर प्रतीक्षा करते हैं । DSCN2337

भूकम्प और नाकाबन्दी के कारण महिनों से मन्द पडा व्यापार थोडा सा उपर उठ्ने में भाट विश्वस्त हैं । उनका कहना हैं– इस मेले वे तीन से पाँच लाख तक का व्यापार करने की मनःस्थिति बनायी हुयी हैं । स्थानीय कुपण्डोल निवासी विरेन्द्र शर्मा वतातें हैं– शिवरात्री मे शिव कें दर्शन मात्र से हम हिन्दुओं को कइ सारे तीर्थ का फल प्राप्त होता हैं पर लम्बी लाइन और भारी भीड की वजह से बहुत लोग दर्शन को वन्चित रह जाते हैं । शर्मा बताते हैं– उसपर योगियो तथा स्थानीय यूवाओं के गाजा सेवन की वजह से मन्दिर परिसर में अजीव सी गन्ध एवम् असुरक्षा की भावना स्थानीयों मे बढ रही हैं । स्थानीय चावहिल निवासी मनिता गौतम बताती हैं– भीड में रेला हर बार हो ही जाता हैं साथ ही दर्शन भी बहुत मुश्किल से हो पाता हैं, पुलिस की उपस्थिति कुछ खास नहीं दिखती इस लिए बहुत लोग चाह कर भी दर्शन हेतु जा नहीं पाते । इस वात की जिज्ञासा पर आयोजन समिति बताते हैं– इस वर्ष पुलिस चौबीस घण्टे मुस्तैद एवम् चौकन्नी रहेगी साथ ही तीर्थालुओं को पूजन में कोइ कठिनाइ ना हो इसकें लिए अतिरिक्त द्वार एवम् जगह जगह पर स्वयमसेवक भी खटाए गए हैं । इसके अतिरिक्त वर्तालुओं के लिए जगह जगह पर पीने का शुद्ध पानी का भी उचित व्यवस्था की जाने की बात वे बताते हैं । काठमाण्डूके सडको पर पीत वस्त्रधारी बाबाओं तथा साधु महात्माओं की रेली हर जगह देखने को मिल रही हैं । इनके आगमन से काठमाण्डू शिवरात्रीमय हो गई हैं । स्थानीय में भी शिवरात्रीको लेकर काफी उत्साह दिख रहा है ।DSCN2304

loading...