श्रीलंका में साेशल मीडिया पर प्रतिबन्ध अमेरिका ने जतायी नाराजगी

वॉशिंगटन ९मार्च
अमेरिका ने कहा है कि वह  श्रीलंका के राष्ट्रीय सुरक्षा का सम्मान करता है लेकिन इसके साथ ही वह अपने नागरिकों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता भी सुनिश्चित करे। हिंद महासागर के द्वीपीय देश के कैंडी में दंगा भड़कने से हालात खराब हो गए थे। तीन दिनों तक जारी हिंसा में कई घरों, कारोबारी प्रतिष्ठानों और मस्जिदों को नुकसान पहुंचाया गया। इसके बाद सरकार ने इमर्जेंसी लगा दी।

 पिछले सप्ताह बौद्ध सिंहली बहुसंख्यक के एक व्यक्ति की मौत के बाद यह हिंसा भड़की थी। सांप्रदायिक हिंसा पर लगाम लगाने के लिए राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना सरकार ने आपातकाल लगा दिया। कैंडी में इंटरनेट पर भी रोक लगा दी गई। यहां फेसबुक सहित सभी सोशल मीडिया वेबसाइटों पर रोक लगी हुई है।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम श्रीलंका की राष्ट्रीय सुरक्षा का सम्मान करते हैं, साथ ही अमेरिका निर्बाध, भरोसेमंद और सुरक्षित इंटरनेट सेवा का समर्थन करता है जहां अभिव्यक्ति की आजादी की तरह सभी लोगों के ऑनलाइन अधिकारों की भी रक्षा हो।’

श्रीलंका में आपातकाल लगाने और सोशल मीडिया तक पहुंच बाधित करने के सवाल पर जवाब देते हुए प्रवक्ता ने कहा, ‘अमेरिका लोकतांत्रिक सुशासन के महत्वपूर्ण घटक के तौर पर अभिव्यक्ति की आजादी और सूचना तक पहुंच का सम्मान करता है।’ उधर, ताजा हिंसा के मद्देनजर गुरुवार को राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे से कानून-व्यवस्था मंत्रालय छीन लिया। विक्रमसिंघे की पार्टी के ही वरिष्ठ सदस्य रंजीत मद्दुमा बंडारा ने नए कानून-व्यवस्था मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला लिया है।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: