श्री श्री १००८ लक्ष्चण्डी रुद्र महायज्ञ छिन्नमस्ता भगवती मंदिर मे बुधवार से शुभारम्भ

 chhinmasta-bhagvati-rath

रोशन झा, १५  चैत सप्तरी । कलौ चण्डी महेश्वर । माता की जय हो । राष्ट्र शान्ति एवं मानव कल्याण के लिए नेपाल में पहलीबार श्री श्री १००८ लक्ष्यचण्डी रुद्र महायज्ञ होने जा रहा है | इसका आयोजन छिन्नमस्ता भगवती मंदिर द्वरा किया जा रहा है | लाखौं भक्तजनों की आस्था का केन्द्र प्रसिद्ध सक्तिपीठ छिन्नमस्ता भगवती सखडा सक्तिपीठ में चैत्री नवरात्रा के पावन अवसर पर कल कलश स्थापन के साथ यज्ञ प्रारम्भ शुरू होगा । महायज्ञ प्रारम्भ से पहले लोक कल्याण हेतु मेची से महाकाली तथा बिहार(भारत) तक के लिए शान्ति रथ यात्रा छिन्नमस्ता भगवती मंदिर प्राड़गण से निकाला गया था । मंदिर के पिठाधिस सहित हजारौं भक्तजनों की सहभागिता रही शान्ति रथ यात्रा मेची महाकाली यात्रा करते हुए आज विहार का यात्रा करते हुए सुपौल भीमनगर नाका होकर कोशी नदी से सप्तरी में प्रवेश किया । शान्ति रथ यात्रा नेपाल प्रवेश करते ही पूर्व क्षेत्रीय प्रशासनिक निकाय प्रमुखों ने अपनी बाजा-गाजा टोली के साथ स्वागत करते हुए रथ यात्रा में सहभागिता जनाई ।

शान्ति रथ यात्रा पूर्वाञ्चल की एक और सक्तिपीठ श्री श्री १०८ श्री माँ कंकालीनि मंदिर परिक्रमा करते हुए वहाँपर दर्शन पूजा कर हुलाकी लोकमार्ग होकर सप्तरी सदरमुकाम राजबिराज शान्ति रथ यात्रा परिक्रमा करने गया । राजबिराज मे यात्रा करते हुए पूनः शान्ति रथ यात्रा आज शाम को यज्ञ स्थल छिन्नमस्ता भगवती मंदिर प्राड़गण में वापस आ गई । दिनाड़क १० अप्रेल को होना जा रही ईस महायज्ञ में ३५००० पंडितो की  सहभागिता है । ईस ऐतिहासिक धार्मिक अनुष्ठान को देखने के लिए नेपाल और भारत से लाखौं-लाख श्रद्धालु भक्तजन उपस्थित होनेका अनुमान लगाया जा सकता है, कुछ महिना पहले प्रख्यात योगगुरु बाबा रामदेव भी माता छिन्नमस्तिका भगवती के दर्शन एवं पूजन के लिए आए थें | परमदयालु माँ छिन्नमस्ता भगवती सदैव अपने भक्तों का कल्याण कर उनकी सारी मनोकामनाएँ पूरी करती हैं । दर्शन एवं पूजा अर्चना के लिए सदैव ही यहाँपर नेपाल तथा भारत से आए हुऐ भक्तों की भीड लगी रहती है । शारदिय नवरात्रा के शुभ अवसर पर यहाँ बहुत बडा मेला लगता है लाखौं भक्तजन दसहारा में माँ की पूजा-अर्चना कर मन्नते माँगने सप्तरी सखडा गाँऊ अवस्थित प्रसिद्ध सक्तिपीठ माँ छिन्नमस्ता भगवती मंदिर आते हैं ।

chhinmasta bhagvti-3 chhinmasta bhagvti chhinmasta bhagvti-rath-2

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: