संविधान गतिशील दस्तावेज हैं जिसें जरुरत के अधार पर संशोधन किया जा सकता हैं : अध्यक्ष प्रचण्ड


हिमालिनी डेस्क
काठमांडू, २९ अगस्त ।
नेकपा माओवादी केंद्र के अध्यक्ष पुष्पकमल दाहाल प्रचंड ने संविधान को गतिशील दस्तावेज बताते हुए कहा कि जÞरूरत के आधार पर इसका संशोधन होता जाएगा ।

आज विराटनगर में संचारकर्मियों के साथ बातचीत में इस बात का जिक्र करते हुए कि मौजूदा दौर में राजपा नेपाल की भी सहभागिता में संविधान संशोधन प्रक्रिया का फिलहाल के लिए निराकरण हो चुका है, अध्यक्ष प्रचंड ने कहा कि अब प्रतिनिधि सभा के चुनाव के बाद बनने वाली संसद ही इस विषय को आगे बढ़ाएगी ।

उन्होंने सभी दलों की सहभागिता का जिक्र करते हुए कहा कि स्थानीय चुनाव उत्साह के साथ संपन्न होगा ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: