Aliexpress INT

संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वान जनार्दन घिमिरे के निधन पर शोकसभा का आयोजन

काठमान्डू ,मई १९ ,आर एन यादव | संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वान तथा संस्कृत केन्द्रीय विभाग त्रिविवी के उप प्राध्यापक जनार्दन घिमिरे के असामयिक निधन पर १८ मई को त्रिविवी में शोक सभा का आयोजन किया गया था |
इस अवसर पर संस्कृत केन्द्रीय विभाग के विभागाध्क्ष प्रो.डा.नारायण प्रसाद उपाध्याय ने संस्कृत केन्द्रीय विभाग के उपप्राध्यापक तथा संस्कृत भाषा का प्रकांड विद्वान जनार्दन घिमिरे के निधन पर दुख जताया है | उन्होने कहा कि जनार्दन घिमिरे संस्कृत भाषा और समाज सेवा को अपने जीवन में काफी महत्व दिया | डा. उपाध्याय ने दिवंगत आत्मा को शांति और शोक संतप्त पारिवारिक जनों को धैर्य धारण की क्षमता प्रदान करने के लिए ईश्वर से कामना की |
मौके पर संस्कृत विभाग के प्रो. माधव प्रसाद उपाध्याय ने जनार्दन घिमिरे के निधन से संस्कृत विभाग व त्रिभुवन विश्वविधालय ही नहीं वल्कि  संस्कृत जगत को अपूरणीय क्षति हुई है | दोलखा जीले मे संस्कृतग्राम बनाने के लिए उनकी योजना थी,लेकिन वह योजना अब सफल नहीं हो पाएगी |उन्होने संस्कृत भाषा के साथ् सामाजिक क्षेत्रों में भी लोकप्रियता हासिल की थी | प्रो. उपाध्याय ने दिवंगत आत्मा की चिर शांति व उनके परिजनो ,अनुयायियों व प्रशंसको को दुख की इस घडी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है |
प्रजातंत्रवादी प्राध्यापक संघ के केन्द्रीय अध्यक्ष प्रो. रामेश्वर उपाध्याय ,विश्वविधालय कैम्पस के प्रिन्सिपल ,विभिन्न संघ -संगठन के पदाधिकारियों ने स्व. जनार्दन घिमिरे के परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की |

loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz