सखडा में हर्ष और उल्लास के साथ लक्ष्य चण्डी रुद्र महायज्ञ सु-समपन्न

Chhinmasta-mata

रोशन झा, सप्तरी वैशाख ६, बुधवार | ”कलौ चण्डी महेश्वर:” राष्ट्र शान्ति एवं मानव कल्याण के लिए नेपाल में पहलीबार चैत २८ गते सोमवार से माता छिन्नमस्ता भगवती मंदिर सखडा में सुरु हुई श्री श्री १००८ लक्ष्यचण्डी रुद्र महायज्ञ आज वैशाख ६ गते बुधवार दोपहर १२ बजे हजारौं-हजार श्रद्धालुओं की सहभागिता मे सु-समपन्न हुआ | भक्तजनों की चन्दा, दान के आर्थिक सहयोग से छिन्नमस्ता भगवती मंदिर द्वारा सुभारम्भ की गई ईस महायज्ञ के उदघाटन में भूतपुर्व रक्षामंत्री राष्ट्रिय मधेस समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष सरत सिंह भण्डारी लगायत अन्य विशिष्ठ व्यक्तित्व की सहभागिता थी ।

यज्ञ व्यवस्थापन समिति के सदस्य रघुबिर ठाकुर ने जानकारी कराया कि ईस महायज्ञ में दर्शन एवं पूजन के लिए पधारे हुए श्रद्धालुओं की सुरक्षा तथा सुविधा लगायत भक्तजनों की सहुलियत के लिए मूल समिति, यज्ञ समिति, स्वयं सेवक, प्रहरी प्रशासन समेत गाऊंवासीयों की प्रत्यक्ष सक्रियता में व्यस्था मिलाया गया था और यज्ञ शान्तिपूर्वक सु-सम्पन्न हुआ । किसी भी किसिम की कोई अप्रिय घटना नही हुई । हालांकी यज्ञ समापन के बाद भी एक महिना तक मेला लगा रहेगा । नेपाल और भारत के मिथिला क्षेत्र के हजारौं विद्वान पंडित द्वारा मन्त्रोचार के साथ शुभारम्भ हुई ईस महायज्ञ को आज पूर्णाआहुति के साथ सु-सम्पन्न कर लोक कल्याण की कामना की गई  । यज्ञ के सुरुवात से लेकर समापन तक नेपाल और भारत के हजारौं-हजार श्रद्धालु भक्तजन ईस महायज्ञ में सहभागी हुए और यथा शक्ति दान भी दिया । स्थानिय वासिन्दा श्याम सुन्दर यादव के अनुसार ईस महायज्ञ ने माँ छिन्नमस्ता भगवति से प्रत्यक्ष रुपमे भक्तजनों को जुडने का कृपा प्रदान किया ।

लोगों की आस्था और श्रद्धा की भावना को उजागर करने के साथ ईस सक्तिपीठ को राष्ट्रिय तथा अन्तर्राष्टिय स्तर पर स्थापित किया है । ईस महायज्ञ ने धर्म, अध्यात्म ईश्वर की भक्ति लगायत भक्ति भाव की भावना को बढाते हुए व्यक्तियों में सदभाव सतकर्म परोपकार के साथ एक दुसरे के भावनाओं को जोडने का कार्य किया है । माता छिन्नमस्ता भगवति सदैव अपने भक्तों की मनोकामना पूर्ण करती है । माता की कृपा सदैव सभी भक्तों पर बनी रहे यह कामना माँ छिन्नमस्ता भगवती से करना चाहता हुँ । जय माता दी ।

Chhinmasta bhagvati-1 chhinmasta bhagvati-2 chhinmasta bhagvati-3 Chhinmasta bhagvati yaga yagay-1 ygya-1

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz