सगरमाथा में सफलता का सिलसिला

विश्व के सर्वोच्च शिखर सगरमाथा पहँुचकर विश्व रर्ेकर्ड कायम करनेवाले बहुत व्यक्तित्व हैं। प्रायः हरेक वर्षसगरमाथा आरोहण सम्बन्धी कोई न कोई नयां कर्ीर्तिमान कायम होता रहता है। लेकिन इस साल के सगरमाथा आरोहण के क्रम में बहुत सारे कर्ीर्तिमान बने हैं।

sagarmatha-Nepal

सगरमाथा में सफलता का सिलसिला

सामान्यतया साल में मुश्किल से १५ दिन सगरमाथा आरोहण के लिए मौसम अनुकूल रहता है। और समय हिमस्खलन और वफिर्ली हवा आदि के कारण सगरमाथा आरोहण नहीं हो सकता। इसी अवसर का फायदा उठाते हुए इस साल सगरमाथा आरोहण करनेवाले कुछ ज्यादा ही रहे। इसी साल ँआरोहण तथा सफाई अभियान-२०१३’ अर्न्तर्गत नेपाल और भारत की संयुक्त सैनिक टोली के ११ सदस्यों ने भी सगरमाथा का सफल आरोहण किया। इस तरह आरोहण करनेवाले नेपाली सैनिक अधिकारियों में सेनानी समीर बस्नेत, सहसेनानी किशोर अधिकारी, गणप्रवन्ध हुद्दा ज्ञानेन्द्र लउडारी और अमलदार धीरेन्द्र शाहीथे। उसी तरह भारतीय सेना की तरफ से मेजर आरएस जमवाल, सुवेदार मिङमा गुरुङ, हवलदार सुधीर सिंह, हवल्दार चतुर सिंह और लान्स नायक सुकवीर हैं।
इतना ही नहीं इस वर्षनेपाली नायिका, हाथ बिहीन नेपाली नागरिक, वयोवृद्ध नागरिक, सरकारी कर्मचारी आदि ने भी नये-नये रकर्ेड कायम किए हैं। इसी क्रम में राष्ट्रीय और अन्तर्रर्ाा्रीय स्तर पर नये-नये रर्ेकर्ड कायम हुए हैं। लीजिए आप भी मुलाहयजा फरमाईएः-
प्रथम आरोहीर्
र्सवप्रथम सगरमाथा का सफल आरोहण करनेवाले व्यक्ति नेपाल के तेन्जिङ नोर्गे शर्ेपा और न्यूजिल्याण्ड के सर एडमण्ड हिलारी हैं। उन लोगों ने सन् १९५३ मई २९ के दिन सर्वोच्च शिखर सगरमाथा का सफल आरोहण किया था।
प्रथम महिला आरोही
तेन्जिङ नोर्गे और सर एडमण्ड हिलारी के सफल आरोहण के २२ वर्षवाद पहली बार सगरमाथा में महिला का आरोहण हुआ। वे महिला है- जापान की जुन्को तावर्ेइ। उन्होंने १६ मई १९७५ में सगरमाथा का सफल आरोहण करके प्रथम आरोही महिला के रूप में विश्व कर्ीर्तिमान कायम किया है।
प्रथम नेपाली महिला
विश्व के सर्वोच्च शिखर सगरमाथा आरोहण करनेवाली प्रथम नेपाली महिला पासाङ ल्हामु शर्ेपा हैं। उन्होंने २२ अप्रिल १९९३ के दिन सगरमाथा का सफल आरोहण किया था। लेकिन दर्ुभाग्य की बात यह है कि खराब मौसम के कारण शिखर से लौटते बक्त हिमपात में उनकी जान चली गई। उनके सम्मान में सरकार ने सात हजार तीन सौ पन्ध्र मीटर ऊचाई वाले महालंगूर हिम शिखर का नाम बदलकर ‘पासाङ ल्हामु पिक’ किया है।
प्रथम नेपाली नायिका
सगरमाथा में प्रथम नेपाली नायिका -कलाकार) की तरफ से निशा अधिकारीले अपना नाम लिख वाया है। उन्होंने वि.सं. २०७० जेष्ठ ७ गते सगरमाथा का सफल आरोहण किया। लेकिन उन्होंने आरोहण दल के सहयोगी के रूप में आरोहण किया था।
हाथ विहीन प्रथम आरोही
दोनों हाथ विहीन प्रथम सगरमाथा आरोही भी नेपाली नागरिक ही हैं। वे हैं- सर्ुदर्शन गौतम। उन्होंने गैरआवासीय नेपाली के रूप में वि.सं. २०७० जेष्ठ ६ गते सगरमाथा आरोहण किया है। रामेछाप जिला के स्थायी निवासी गौतम ६ वर्षो से क्यानडा में रह रहे थे। इससे पहले सन् १९९८ में एक पैर वाले अमेरिकी नागरिक थोमस हृवीटेकर ने कृत्रिम पैर के सहारे सगरमाथा का सफल आरोहण किया था।
दोनों पैर के अभाव में भी आरोहण
न्यूजिल्याण्ड के मार्क इग्लिस का सगरमाथा आरोहण बहुत चर्चित रहा। क्योंकि उनके दोनों पैर नहीं थे। ४७ वषर्ीय मार्क ने कृत्रिम पैरों से १५ मई २००६ में सगरमाथा आरोहण कर विश्व कर्ीर्तिमान कायम किया था और अपने अदम्य साहस का परिचय दिया था।
अपाङ्ग भारतीय महिला
एक पैर से सगरमाथा का सफल आरोहण करने वाली भारतीय महिला अरुणिमा सिन्हा है। सिन्हा पर्ूव राष्ट्रिय भलिबल खेलाडी भी हैं। उन्होंने वि.सं. २०७० जेष्ठ ७ गतेे सगरमाथा का सफल आरोहण कर नयाँ कर्ीर्तिमान कायम किया।
सरकारी कर्मचारी आरोहण
सगरमाथा आरोहण में कर्ीर्तिमान कायम करनेवाले प्रथम नेपाली कर्मचारियों की संख्या ९ है, जिन्होंने यह इतिहास रचा है, वे हैं- सुरथ पोखरेल, हर्रि्रसाद गुरागार्इं, सन्तकुमार महर्जन, तुलसीराम भण्डारी, ज्ञानेन्द्रकुमार श्रेष्ठ, पद्मबहादुर भण्डारी, खिमलाल गौतम, सुवीर श्रेष्ठ और हरि ढकाल। उन लोगों ने २०६८ जेष्ठ ४ गते के रोज सगरमाथा आरोहण किया था।
इक्कीस आरोहणहण का कर्ीर्तिमान
सबसे अधिक बार सगरमाथा आरोहण कर नयाँ कर्ीर्तिमान बनाने वाले आप्पा शर्ेपा हंै। इन्हें लोग सुपर शर्ेपा भी कहते है। इन्होंने २१ बार सगरमाथा का सफल आरोहण किया। उसी तरह २१ बार आरोहण का कर्ीर्तिमान कायम करनेवाले दूसरे आरोही हैं, फर्ुवा टाँसी शर्ेपा। उन्होंने इसी साल अर्थात् वि.सं. २०७० जेष्ठ ९ गते के रोज २१वीं बार सगरमाथा का आरोहण किया और आप्पा के समकक्षी बन गए।
न्यूनतम समय में आरोहण
सब से कम समय में सगरमाथा आरोहण का कर्ीर्तिमान पेम्बा दोर्जे शर्ेपा ने अपने नाम किया है। उन्होंनर्ेर् इ. २१ मई २००० में ८ घण्टा १० मिनट की अवधि में शिखर में पहुँच कर यह रर्ेकर्ड कायम किया। २६ वर्षकी उमर में उन्होंने शिविर से शिखर तक १० किलोमिटर लम्बे रास्ते को ८ घण्टा १० मिनेट में तय किया था।
बगैर अक्सिजन का आरोहण
अक्सिजन की मदद लिए बिना लम्बे समय तक शिखर में बैठने का कर्ीर्तिमान नेपाली आरोही ने ही कायम किया है। वे है- बाबुछिरी शर्ेपा। उन्होंने मई ६, १९९९ में सगरमाथा में २१ घण्टा बिना अक्सिजन के बिताया था। ११वीं बार आरोहण करने के  क्रम में २९ अप्रिल २००१ मा चौथे कैम्प के निजदीक तस्वीर लेते हुए पैर फिसलने से उनकी मृत्यु हर्ुइ।
कमसीन युवा आरोही
तेम्बाछिरी शर्ेपा सब से कम उमर के सगरमाथा आरोही नेपाली युवा हंै। २३ मई २००१ में सगरमाथा आरोहण करते समय उनकी उमर १६ वर्ष१४ दिन की थी। उन्होंने प|mेन्च आरोही के साथ उत्तरी मोहडÞे से आरोहण किया था। उस क्रम में उन के हाथ की पाँचों उंगलियां वर्फमें गल गई थीं।
दृष्टिविहीन द्वारा आरोहण
२५ अप्रिल २००१ में विल्कुल दृष्टिहीन ३३ वषर्ीय अमेरिकी सरिक बेटेनमायर ने सर्वोच्च शिखर में पहुँच कर कर्ीर्तिमान कायम किया। १३ वर्षकी उमर में किसी बिमारी के चलते उनकी दोनों आँखो की ज्योति चली गई थी। फिर भी उन्होंने सात महादेश के उच्च शिखरों का आरोहण किया है।
फ्ते में दो बार आरोहण करने वाली महिला
विश्व कर्ीर्तिमान कायम करने के क्रम में कुछ रोचक बातें भी सामने आई हैं। जैसे नेपाल की २९ वषर्ीया छुरिम शर्ेपा ने एक हप्ता में ही दो बार सगरमाथा आरोहण का कर्ीर्तिमान कायम किया है। सन् २०१२ मई १२ और १९ मई में उन्होंने सर्वोच्च शिखर का दो बार आरोहण कर विश्व कर्ीर्तिमान कायम किया।
एक ही दिन चार भाई शिखर पर
वि.सं. २०७० जेष्ठ ८ गते के रोज एक ही दिन चार सगे भाई सर्वोच्च शिखर सगरमाथा आरोहण कर विश्व कर्ीर्तिमान कायम करने में सफल हुए हैं। इस तरह कर्ीर्तिमान कायम करनेवाले हैं- ल्हाक्पा दोर्जे शर्ेपा, तेण्डी शर्ेपा, ल्हाक्पा तेञ्जी शर्ेपा और आङफर्ुवा शर्ेपा।
एक ही परिवार के ६ भाई शिखर पर
दोलखा जिला ग्राम वेदिङ निवासी एक ही परिवार के ६ भाई विभिन्न समयों में सगरमाथा आरोहण करने में सफल हुए हंै। वे  कर्ीर्तिमानी भाई हैं- आङछिरी शर्ेपा, थन्डु शर्ेपा, निमातेम्बा शर्ेपा, पासाङ तेञ्जिङ शर्ेपा, निमा गोम्बु शर्ेपा और मिङ्माछिरी शर्ेपा।
दम्पति द्वारा आरोहण
स्लोभेनिया के पति-पत्नी एण्ड्रुज और मारिजा ने साथ-साथ सगरमाथा के शिखर में पहुँच कर नयाँ कर्ीर्तिमान कायम किया है। उन्होंने ७ अक्टोबर १९९० के दिन सगरमाथा आरोहण किया था।
दम्पत्ति द्वारा सात शिखर आरोहण
विश्व के सातों महादेश के उच्च शिखर आरोहण करनेवाले अमेरिकी दम्पत्ति सुसान र्एसलर और उन के पति फिल र्एसलर हैं। विश्व के सातों महादेश के उच्च शिखरों पर आरोहण करने के क्रम में उन्होंने १६ मई २००२ में सर्वोच्च शिखर सगरमाथा आरोहण किया था।
शिखर में शादी
सगरमाथा में पहुँच कर शादी करके रर्ेकर्ड बनानेवाले भी नेपाली नागरिक हैं। पेमा दोर्जे शर्ेपा और मोनी मुलेपती ने ऐसा रर्ेकर्ड कायम किया है। उन्होंने २० मई २००५ में वहाँ जाकर शादी किया था। शिखर में पहुँचने के बाद उन्होंने कुछ समय के लिए अक्सिजन मास्क निकाल लिया। उसके बाद पेमा दोर्जे ने मोनी की मांग में सिन्दूर भर दी।
पहले ब्राह्मण आरोही
सगरमाथा के सफल आरोहण करनेवाले ब्राहृमण जाति के प्रथम व्यक्ति है- ताप्लेजुङ जिला निवासी अनिल भट्टर्राई। उन्होंने उत्तरी मोहडÞा से ४ जून २००५ में सगरमाथा आरोहण किया था। उस समय उन्होंने विश्व के सर्वोच्च शिखर सगरमाथा को श्रद्धापर्ूवक जनेऊ और सुपारी चढÞाया था।
शिखर पर अर्धनग्न अवस्था में
विश्व कर्ीर्तिमान कायम करने के दौरान जाङ्बु शर्ेपा ने १७ मई २००६ के रोज सगरमाथा शिखर पहुँच कर अपने उपरी वस्त्रों को उतार दिया। कमर से ऊपर कपडा उतार कर वे ३ मिनट तक अर्धनग्न अवस्था में बैठे थे। उस सयम शिखर का तापक्रम शून्य से ४०० सेल्सियस कम था।
शिखर में क्यान्सर रोगी
अमेरिका के सिन स्वार्नर सगरमाथा शिखर में पहुँचनेवाले एक मात्र क्यान्सर रोगी हैं। १६ मई २००२ में सगरमाथा आरोहण करनेवाले स्वार्नर को १३ साल की उमर में क्यान्सर हुआ था। पहली जाँच में ही चिकित्सक ने कहा था कि रोग चौथे चरण में है और रोगी तीन महीने का मेहमान है। लेकिन उपचार के बाद वे बहुत स्वथ्य हुए। बाद में १६ वर्षकी उमर में उन्हें फिर क्यान्सर हुआ और डाक्टर के मुताबिक इस बार का क्यान्सर ज्यादा खतरनाक था। और सिर्फदो हफ्ते के लिए उनकी जीवनलीला बताई गई थी। लेकिन उन्होंने दोनों बार क्यान्सर को धत्ता बता दिया। १७ मई १९९० में क्यान्सर का उपचार करानेवाले  स्वार्नर ने १२ वर्षों के बाद सगरमाथा आरोहण किया था। इसके अतिरिक्त उन्होंने सातों महादेश के सभी उच्च शिखर का आरोहण किया है।
पहले नेपाली पत्रकार
नेपाली पत्रकार की तरफ से पहली बार सगरमाथा आरोहण करने वाले हंै- आङछिरिङ शर्ेपा। उन्होंने २२ मई २००३ में सगरमाथा आरोहण किया था। उस सयम वे कान्तिपुर दैनिक में कार्यरत थे।
सब से वृद्ध आरोही
मिनबहादुर शेरचन ने ७७ वर्षकी उमर में सगरमाथा आरोहण करके विश्व रर्ेकर्ड कायम किया। लेकिन उनका यह रर्ेकर्ड अभी सिर्फनेपाल के लिए सीमित रह गया है। शेरचन ने सन् २००८ में ७७ वर्षकी उमर में सगरमाथा आरोहण करके विश्व रकर्ेड कायम किया था। उनका यह रर्ेकर्ड वि.सं. २०७० जेष्ठ ८ गते ८० वषर्ीय जापानी नागरिक युइचिरो मिराउ के तोडÞने के बाद शेरचन सिर्फनेपाल के लिए ही वृद्ध आरोही बन गए। वह अभी ८२ वर्षके हैं। उन्होंने इसी साल जापानी नागरिक मिराउ का रर्ेकर्ड तोड कर अपना बचाव करना चाह रहे थे। इसके लिए उन्होंने सगरमाथा आधार शिविर से आरोहण भी शुरु किया। लेकिन वे शिखर तक नहीं पहुँच पाए।

Tagged with
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz