‘सस्ता बजार के मुख्य उद्देश्य है गुण्ास्तरी सस्ता समान’

कैलाश दास जनकपुर
हिन्दुओं के सबसे बडा पर्व रहा विजया दशमी, शुभ दीपावली तथा छठ के अवसर पर वि.स.२०३४ साल

janakpur sasta bazar

‘सस्ता बजार के मुख्य उद्देश्य है गुण्ास्तरी सस्ता समान’

से ही लगता आ रहा सस्ता बजार को आज एक समारोह बीच उद्‍घाटन किया गया है ।जनकपुर के गोपाल धर्मशाला मे लगा सस्ता बजार को उद्‍घाटन करते हुए वत्तmाओं ने कहाँ कि सस्ता बजार का मतलव ही गुण्ास्तरीय आैर अन्य दिन के अलावा सस्ता होना चाहिए । सभी निकाय को इस पर ध्यान देना होगा की कही किसी प्रकार को ठगी न हो । नेपाल तथा भारत के सीमावर्ती क्ष्ोत्र से प्रत्येक वर्ष्ा इस बजार मे लाखौं उपभोत्तmा समान खरीद करने आते है । इस लिए बजार का प्रचार प्रसार भी ध्यान देना आवश्यक है । वत्तmाओं ने ये भी कहाँ की जनकपुर की विजया दशमी नेपाल भारत के लिए सबसे बडा महोत्सव के रुप मे मनाया जाता आ रहा है । वैसे भी इस बजार मे ग्रामीण्ा क्ष्ोत्र जनता सबसे अधिक आया करता है तसर्थ इस बजार का उद्देश्य अनुसार काम होना चाहिए वत्तmाओं इस पर विशेष्ा जोड दी थी । गोपाल धर्मशाला मे लगी सस्ता बजार के लिए भितर मे २४ स्टाँल है आैर बाहर मे ५४ स्टल लगा हुआ है । इसका उद्‍घाटन पुनरावेदन अदालत जनकपुर का न्यायधिश कुमार प्रसाद पोखरेल ने भगवती के तस्वीर पर दी प्रज्वलन कर की है । सस्ता बजार पर  नेपाल उद्योग वाण्ािज्य संघ के केन्द्रीय सदस्य निर्मल कुमार चौधरी, नेपाल पत्रकार महासंघ धनुष्ाा का अध्यक्ष्ा रामअशिष्ा यादव, जनकपुर उद्योग वाण्ािज्य संघ का अध्यक्ष्ा श्याम प्रसाद साह, समाजसेवी मदन लाल जैन, ब्रह्म कुमारी राज योग सेवा केन्द्र का संचालिका गंगामाता, जनकपुर नगरपालिका का पूर्व मेयर बजरंग प्रसाद साह, जनकपुर उद्योग वाण्ािज्य संघक पूर्व अध्यक्ष्ाåय राम नरेश प्रसाद साह, प्रकाश चन्द्र साह, संघ का महासचिव ललित प्रसाद साह सहित का वत्तmाओं ने अपनी धारण्ाा प्रस्तुत की थी ।

Enhanced by Zemanta
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz