सामुदायिक राजनीतिक में अपने के बीच ही लडाई होती हैं : नेतृ सरिता गिरी


हिमालिनी डेस्क
काठमांडू, १२ जून ।

मधेश की दो राजनीतिक दलों के बीच की बैमनस्यता का अध्ययन कर लेने के बाद सत्तासीन दल चुनाव की तिथि आगे बढाएँगे और इसका फायदा उन्हीं को होगा ।

जब बाहर के प्रतिस्पद्र्धी से प्रतिस्पद्र्धा करने का साहस नहीं रह जाता है तो लडाई अपनों के बीच शुरु हो जाती है । सामुदायिक राजनीति की हरेक देश में यही समस्या रही है । सभार : फेसबुक वाल

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz