सिरहा, सप्तरी लगाायत सम्पूर्ण मधेश में लाठी जुलुुस प्रदर्शन

मनोज बनैता, लाहान, ३० डिसेम्वर ।

संयुक्त लोकतान्त्रिक मधेशी मोर्चा ने गुरुवार को सिरहा, सप्तरी लगाायत सम्पूर्ण मधेश में लाठी जुलुुस प्रदर्शन किया है । मधेशी मोर्चा तथा संघीय समावेशी गठबन्धन के नेता तथा कार्यकर्ताओं ने जुलुस को नगर परिक्रमा कराते हुए कोणसभा किया ।

s-1

हजारों की तादाद मे एकीकृत आन्दोलनकारियों ने “मधेशी एकता जिन्दावाद , मधेश को माग सम्बोधन गर , मधेशी थारु जनजाति तथा मुस्लिमहरुको अधिकार सुनिश्चित गर , नश्लभेदी सरकार राजिनामा देउ, दमनकारी प्रशासन हाय हाय” आदि नारा लगाते हुए प्रदर्शन किया ।

शान्तिपूर्ण आन्दोलन के क्रम में सरकारी पक्ष से हुए दमन में ५५ से ज्यादा लोगों ने शहादत प्राप्त किया है और हजारों मधेशी आन्दोलनकारी घायल हुए है । मधेश में सरकार के दमन के प्रति विभिन्न अधिकारवादी संस्थाओं ने सरकार का ध्यानाकर्षण करवाया है फिर भी सरकार दमन करने से बाज नहीं आ रही है ।

s-2लाहान के शहीद चौक में किए गए सम्बोधन कार्यक्रम में बोलते हुए संघीय समाजवादी फोरम के नेता जितेन्द्र महतो ने कहा “शान्तिपूर्ण मधेश आन्दोलन में सरकार ने षड्यन्त्रपूर्वक मधेशी नेता तथा सद्भावना पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेन्द्र महतो आदि नेताओं के उपर किया गया संघातिक आक्रमण निन्दनीय है और इस कायरता के लिए मधेश सरकार को दण्डित अवश्य करेगा ।” उन्होंने लहान पुलिस को ये चेतावनी भी दी कि अपने अपने जमीर में झाँककर देखो कि तुम विना कारण किसको सता रहे हो ? तुम उसे मिटाने की कोशिश में लगे हो जो तुम्हें अभीतक पालनपोषण कर रही है । नेता महतो ने सदभावना के युवा नेता विजय यादव को रिहाई के लिए धन्यवाद देते हुए कहा “डिएसपी उमा चर्तुवेदी अपना खाई खुद खोद रहा है । अभी भी सम्भाल्ने का मौका है, सुधर जाएँ । आन्दोलनकारियों के ऊपर झूठा मुद्दा लगाना और चोरों कि भाँति अपहरण शैली में आन्दोलनकारियों को उठा के ले जाना और थाने में खुद भी शामिल होकर चरम यातना देने का काम शीघ्र बन्द करें ा”

s-3बातचीत के दौरान वैद्य समूह के जानेमाने नेता विजय गुप्ता ने कहा है कि मधेश की माँग पूरी न होने तक आन्दोलन नहीं रुकेगा । आन्दोलन को दिन प्रतिदिन सशक्त बनाना होगा । इतिहास में सबसे लम्बा आन्दोलन करने के बावजूद भी मधेशी जनता हाल तक बन्दूक की गोली के सिवा कुछ भी हासिल नहीं कर सका है । जनसंख्या के आधार में समानुपातिक समावेशी प्रतिनिधित्व, निर्वाचन क्षेत्र, स्वायत्त मधेश प्रदेश तथा नागरिकता के लिए हमारा आन्दोलन अनिश्चित काल तक जारी रहेगा ।”

loading...