सिराहावासियों ने कहा : हम भूखे रहेंगे, लेकिन अगली पीढ़ियों से दगा नहीं करेंगे

मनोज बनैता, लाहान, १७ जनवरी । सिरहावासी आक्रोशित : खसवादी पत्रकार बना गद्दार

मधेशी आंदोलन यहां छठे महीने में प्रवेश कर चुका है। इसके बावजूद न तो आंदोलन समर्थकों ने हिम्मत हारी है और न ही उनका जोश ठंडा पड़ा है। आंदोलन के कारणों की बारीकियों से हर कोई जैसे वाकिफ है। भग्यनारायण यादव (किराना दुकानदार), रामनारायण सहनी, भोला महतो सभी कहते हैं, हम भूखे पेट भी रहेंगे, लेकिन अपनी अगली पीढ़ियों से दगा नहीं करेंगे। अगर हम आज चुप रह गए तो अगली पीढ़ियों को नेपाल में दोयम दर्जे का नागरिक बनकर रहना पड़ेगा। सत्ता में उन्हें कभी हिस्सेदारी नहीं मिलेगी। ध्रमेन्द्र साह का कहना है कि इस बार जनता आगे है और नेता पीछे ।lh-2

पांच महीना से अधिक समय से आंदोलन का असर जीवन के हर क्षेत्र पर पड़ा है। रोजगार, कारोबार, खेती(गृहस्थी सबके सब प्रभावित हुए हैं। कामेश्वर यादव ने कहा है कि हमें इसकी परवाह नहीं है । पहले से हमारे साथ भेदभाव होता रहा है । सेना, पुलिस और शासन में मधेश के लोगों को हिस्सेदारी नहीं मिलती है।

हिमालिनी मे मुरलीमनोहर जी द्धारा लिखा एक लेख ने मेरे मन को छु् लिया । लाहान मधेश आन्दोलन की जन्मभूमि है मगर मधेश आन्दोलन ३ मे आकर लाहान के आन्दोलन उपर प्रश्न चिन्ह लगना वास्तव मे सम्पूर्ण सिरहावासी के आन बान और शान पर प्रश्नचिन्ह लगने के बराबर है । सिरहावासी अभी भी वही इनर्जी मे दिख रहे है जिस इनर्जी मे २०६२÷ ६३ मे दिखाई दिए थे । मगर अफसोस हमारे ही घर के भीतर अगर कोई गद्दार निकल जाए तो पुरे परिवारको झेल्ना ही पडेगा ।received_10207134646338557

जी हाँ ये बात है उस गद्दार कि जो कमिशन के चक्कर मे मधेश आन्दोलन के मुह मे कालिख पोतने कि गुस्ताखी कि है । आज उधोग वाणिज्य सँघ लाहान मे आयोजित पत्रकार समेल्लन मे व्यापारीयों ने एक पत्रकार उपर कमिशन के रुप मे ५ सिलिन्डर गैस मागने का आरोप लगाया है । जारी की गई विज्ञप्ती अनुसार लाहान से नागरिक दैनिक के रिपोर्टर पर ए आरोप लगा है । पत्रकार यादव अपनी घिनौने वर्ताव के कारण ही अभी तक नेपाल पत्रकार महासँग के साधारण सदस्य के रुप मे भी नही लिए गए है । मधेश आन्दोलन ३ के शुरुवात से ही पत्रकार यादव विभिन्न मुद्वो मे जकडे हुवे है । उन पर लाहान डिएसपी उमा चर्तुवेदीका खास खबरीलाल होनेका आरोप भी लगाया चुका है । जिसका कारण मिथलेश यादव स्वंय हैं, क्यूंकी यादव सुवह खाना खाने के समयमे लाहानका मजनु पान भंडारसे पान लगवाकर डिएसपी का दर्शन करनेके लिए चलेजाना और मधेश आन्दोलन के खिलाफ समाचार संप्रेशन करना है । जबसे उमा चर्तुवेदी जी आएँ है तब से मिथलेश यादव ईलाका प्रशासन कि चौकठ को छोडनेका नाम नही ले रहे है । लाहान का मोर्चा यादवको खसवादीका टुक्डापर पल्नेवाला मानने लगा है । अगर यादव कि यहि रवैया रहा तो आनेवाले दिनो मे भी पत्रकार महासँघमे अपना जगह बनाना मुसकिल है ।

ईसीतरह लाहानका मोर्चा कार्यकर्ता भी अपने मनमानी से बाज आते नही दिखरहे है माघ ५ गते होनेजारहे बलिदानी दिवश कार्यक्रम के लिए २५ थान ग्यास सिलिन्डर माँग की है । ग्यास के लिए कोहराम मची उपभोगता के जेहेन मे मोर्चा के खिलाफ भी कैयौं एैसे सवाल उठते दिखाई देरहा है कि आखिर इतना गैस करेगा क्या ? इससे पहले भी कैयों सिलिन्डर मोर्चा कार्यकर्ताओंने अपने जानपहचान वालोंको भेजने कि खवर आयी है ।

लहानका राजनैतिक उतार चढाव के वाद भी माघ २ गते लाहानमे यूवा भेला अधिवेशन से यूवा मंच सिरहा जिल्ला कमिटी गठन की गई है । जिसमे विरेन्द्र यादव (अध्यक्ष), वैजनाथ साह (उपाध्यक्ष), गोपाल प्रसाद गुप्ता (सचिव) के रुपमे चुने गए है । बैठकमे सदभावना का केन्द्रिय सल्लाहकार दिनेश्वर प्रसाद गुप्ता तथा विधार्थी मंच केन्द्रिय सदस्य विजय यादव की उपस्थिति थी ।lh-1

loading...