सीमा पर अनौपचारिक पोशाकों में सघन चेक जाँच शुरु

???????????????????????????????नेपालगन्ज,(बाँके) पूर्ण लाल चुके,पवन जायसवाल, फल्गुन ८ गते ।
पश्चिम नेपाल बाँके जिला के पास भारतीय सीमा सुरक्षाबल एस.एस.बी. के जवानों ने अब नेपाल भारत सीमाना पर अनौपचारिक पोशाक मे चेक जाँच की शुरुवात किया है ।
अद्र्धसैनिक पोशाकधारी जवानों से किया जा रहा परम्परागत चेक जाँचों से  अद्र्धसैनिक पोशाक से इस तरह की चेक जाँच करने से मनोवैज्ञानिक त्रास और नकारात्मक सोंच से सर्वसाधारण मुक्त होगें और शंकास्पद अपराधिक क्रियाकलापों के उपर अधिक निगरानी बढेगी और नियन्त्रण करने में एकदम सहज होगी  एस.एस.बी के अधिकारियों का विश्वास है । ऐसी पोशाकधारी टोलीयों ने बाके जिला के सीमा पार रुपईडीहा में अपना चेक जाच काम शुरु कर दिया है ।
नेपाल के सीमा से जुडा हुआ भारत की उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, विहार और उत्तराञ्चल प्रदेश से जुडा नौ नाकें में सह–निरीक्षक के कमाण्ड में १ हवल्दार, ३ लोग प्रहरी जवान और १ महिला सशस्त्र प्रहरी परीक्षण के रुप में यह पाइलट प्रोजेक्ट ९ फरवरी (माघ २६ गते) से ही एक साथ शुरु किया है ।
अपना पडोसी मित्रराष्ट और वहा के आम नागरिकों के साथ युगों युग से विद्यमान मैत्री सम्बन्ध को और अधिक मजबूत और प्रगाढ बनाने के उद्देश्यों से  एस.एस.बी. के केन्द्रीय उच्च पदाधिकारीयों का नेपाल भ्रमण के बाद निर्माण किया या अवधारणा अनुसार सामाजिक तथा मानवीय समवेदनसील से जुडा अपराध सम्बन्धि घटनाए को न्युनिकरण करने के लियें एस.एस.बी के अधिकृत तथा जवानों को अपनी व्यवहार में भी परिवर्तन लाने की सचेतना कार्यशाला में वह टोली में आवद्ध रहे सहभागीयों को कराया गया ।
माघ २६ गते सोमवार को नेपाली तथा भारतीय व्यवसायी के अगुवा, नागरिक समाज के अगुवा तथा दोनों देश के पत्रकारों की उपस्थिति में बाके जिला के सीमा पार रुपइडीहा स्थित सीमा सुरक्षा बल एस.एस.बी.की चेकपोष्ट में यह नई पाइलट प्रोजेक्ट का आरम्भ करते हुयें एस.एस.बी.सेक्टर लखीमपुर खीरी  मुख्यालय के उप–महानिरीक्षक (डि.आई.जी.) उपेन्द्र प्रकाश बलोदी ने नेपाल भारत सीमाना में स्थापना कालों से ही सीमा की सुरक्षा करते आ रहे अवस्था में फरवरी ९ तारीख से ही सीमाना में आने जाने में आम नागरिकों को किसी भी प्रकार की   असुविधा न हो हमारी मूल उद्देश्य रही है इस बातों पर जोड दिया ।
PL chukeउप–महानिरीक्षक (डि.आई.जी.) उपेन्द्र प्रकाश बलौदी के अनुसार सह–निरीक्षक के कमाण्ड में महिला जवान समेत है वह अनौचारिक पोशाकधारी टोली ने सघन चेक जाच करेगें और कोई भी यात्रु के उपर शंका होने पर मात्र एस.एस.बी. अपराध अनुसन्धान के दूसरे युनिट को सौंप कर अनुसन्धान आगे बढाया जाएगा बताया गया है ।
मिडिया प्रेमी के रुप में सु-परिचित उपमहानिरीक्षक (डि.आई.जी.) उपेन्द्र प्रकाश बलोदी ने सेवा, सुरक्षा और वन्धुत्व का तीन मूल मन्त्र और भावनाओं के साथ सन् २००४ में स्थापित हुआ एस.एस.बी.ने नेपाल –भारत वीच  १ हजार ७ सौ ५१ किलो मीटर सीमाना में काम करते आ रहा एस.एस.बी ने नई पाइलट प्रोजेक्ट में आवद्ध जवानों ने कोई भी दृष्टि में अलग नही है नेपाल और नेपाली नागरिकों से कैसा व्यवहार करना चाहिए उस के लियें सचेतना भी दिया गया है बताते हुये ऐसा पाइलट प्रोजेक्ट ९ ट्रान्जिट रुटों में लागू किया गया है और सफल हुआ तो १५, उस के बाद २८  ट्रान्जिट रुटों में और क्रमिक रुप में देशभर में ऐसा प्रोजेक्ट लागुू करने की उन्हों ने जानकारी दिया ।
नेपाली तथा भारतीय पत्रकारों से बातचीत करते हुयें एस.एस.बी.के डी.आई.जी..) उपेन्द्र प्रकाश बलोदी ने एस.एस.बी की सातवीं डिभिजन बटालियन नानपारा के आयोजन में सामाजिक एवं मानवीय समवेदना के साथ जुडा हुआ  अपराध न्युनीकरण करने के लियें सीमा के आसपास में रहे दोनों देशों के सरकारी तथा गैरसरकारी संस्था, नागरिक समाजों से सुमधुर सम्बन्ध प्रभावकारी रुप में कैसे विस्तार कर सकते है लगायत के विÈयों पर तीन दिवसीय कार्यशाला में विशेष कक्षा दिया गया था उन्हों ने बताया ।  सम्पन्न कार्यशाला में एस.एस.बी एस.एस.बी.सेक्टर लखीमपुर खीरी अन्तर्गत के जुनियर अफिसर और जवान समेत ६० लोगों को यह पाइलट प्रोजेक्ट के लियें तयार किया गया है ।
एस.एस.बी सातवीं बटालियन कमाण्डर सेना नायक हरि नन्दन सिंह विष्ट ने दोनों देशों के नागरिकां कीा मन जीतकर सीमा सुरक्षा के अतिरिक्त मानव बेचविखन, अवैध सामान ओसारपसार, तस्करी, लागु औषध, जाली नोट कारोवार लगायत की गैर कानूनी और अपराधिक गतिविधियों को न्यूनीकरण होने की बातों पर मैं विश्वस्त रहा हूँ बताया ।
4भारतीय पत्रकारों से बातचीत करते हुयें नेपालगन्ज स्थित महेन्द्रनगर के सशस्त्र प्रहरी प्रमुख सशस्त्र प्रहरी उपरीक्षक शम्भु सुवेदी ने एस.एस.बी. ने शुरु किया यह अभियान सकारात्मक रही है सीमा क्षेत्रों में हो रही या होने वाली अपराधिक गतिविधियों के उपर नियन्त्रण होगा उन्हों ने विश्वास किया ।
उप–महानिरीक्षक उपेन्द्र प्रकाश बलोदी समक्ष सहभागी पत्रकार तथा नागरिक समाज के अगुवाओं ने नेपाल आने जाने में सडकनें पे होनेवाली ट्राफिक जाम, नेपाली कामदारों के उपर यातायात व्यवसायी तथा सुरक्षाकर्मीयों से लुटने की घटनाए“ होती है, दोनों देशों से आने जाने पर सामान विहीन रित्ता और यात्रु वाहक सवारी साधनों सुबाह देर और रातों में जल्द ही बन्द होती है एस.एस.बी की बेरियल के कारण रातभर सीमाना में कष्ट उठाना पडता है सिकायत कियें थे ।
उसी अवसर पर नेपाल उद्योग वाणिज्य महासंघ के केन्द्रीय सदस्य सुनील कुमार श्रेष्ठ, नेपालगन्ज उद्योग व्यापार संघ के अध्यक्ष कृष्ण प्रसाद श्रेष्ठ, संघ के महासचिव विष्णु लामिछाने, संघ के उप– महासचिव रचना श्रेष्ठ, नेपाल जडीबुटी ब्यवसायी संघ नेपालगन्ज के अध्यक्ष मोहम्मद याकूब अन्सारी, उद्योगपति प्रदीप छाछेड, नेपाल पत्रकार महासंघ बा“के के अध्यक्ष रुद्र सुवेदी, नेपाल भारत संयुक्त पत्रकार मञ्च के संयोजक तथा वरिष्ठ पत्रकार पूर्णलाल चुके, माइती नेपाल नेपालगन्ज के संयोजक केशव कोइराला लगायत लोगों की उपस्थिति रही थी । एस.एस.बी रुपइडीहा के सह–नायक पी.एन. सिंह, एस.एस.बी.सेकटर लखीमपुर खीरी  मुख्यालय के प्रशासन अधिकारी प्रवीण कुमार कर्मिक, एस.एस.बी के सूचना प्रचार अधिकारी चौधरी, एस.एस.बी रुपइडिहाका महिला सव इन्सपेक्टर मुन्नी बाई लगायत भारतीय अधिकारीयों की सहभागिता रही थी ।
नेपाल भारत संयुक्त पत्रकार मञ्च के संयोजक तथा वरिष्ठ पत्रकार पूर्णलाल चुके ने नेपाल–भारत सीमाना की दशगजा के पास भारत सरकारद्वारा धमाधम सडक निर्माण किया जा रहा है, ३० मीटर चौडा और ५ मीटर उ“चा सडक के बारे में नेपाली और भारतीय टेलिभिजन चैनलों से प्रतिक्रिया देतें हुयें कहा भारतीय सरकार ने जो लक्षमणपुर बा“ध बा“धा है इसे राप्ती नदी के किनार में रहनेवाले नेपालीयों ने हरेक वर्ष बर्षात के मौसम में कठिनाईया“ उठाते आ रहें और अब डुबान के साथ साथ यह सडक निर्माण से बा“के जिला के १७ गाबिस में परेंगें नेपाली छापा में आया है ।
सम्भवता यह अन्र्तराष्ट्रीय कानून के विपरीत भी है । एक पडोसी अपनी सुरक्षा के लियें कोई कदम उठाता है तो दूसरे पडोसी का सुरक्षा में भी ध्यान देना जरुरी है । क्यों कि इसें सीमा पार के भारतीय नागरिक भी प्रभावित हो सकते है

3इस लियें दोनों देशों के नागरिकों के लियें भी मित्रराष्ट्र भारत ने पुनर्विचार करना चाहियें ।
भारतीय पत्रकार संघका अध्यक्ष शेर सिंह कशौधन, वरिष्ठ पत्रकार मणीराम शर्मा, सन्तोष शुक्ल, राजेश सिंह, नवी अहमद तथा रुपइडीहा केवलपुर ग्राम पञ्चायत के प्रधान मोहम्मद जुबेर फारुखी लगायत लोगों की उपस्थिति रही थी ।
कार्यशाला में माइती नेपाल नेपालगन्ज के संयोजक केशव कोइराला, एस.एस.बी के उच्च अधिकारी, सरकारी तथा गैर सरकारी क्षेत्र के विभिन्न विषयों के विज्ञों ने सहजीकरण  किया था , सातवीं बटालियन कमाण्डर सेना नायक हरि नन्दन सिंह विष्ट ने जानकारी दिया । संयोजक केशव कोइराला ने मानव बेचबिखन की बदलती परिवेश के बारे में प्रकाश डालते हुयें सीमा Ôेत्र में कार्यरत दोनों देशों के सरकारी और गैर सरकारी निकायों ने मानव बेचबिखन को न्युनीकरण करने के लियें करनेवाली सहकार्य और दलालों ने मानव बेचबिखन के लियें अपनाने वाली तौरतरीके दलालों की पहिचान करने की विधि, कारण, मानव बेचबिखन के प्रयोजन और सम्भावित जोखिम में रहे और समस्याए“ में रहे महिलाए“ बालबालिकाओं को तत्काल करनेवाली सहयोग और संरÔण एवं उद्धार लगायत के विÈय रि प्रभावकारी समन्वय के लियें प्रयास लगायत के बारे में चर्चा किया गया था ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: