स्वास्थ्य क्षेत्र व्यपार नहीं हैः उपेन्द्र यादव

काठमांडू, २३ जुलाई । उप–प्रधान तथा स्वास्थ्य मन्त्री उपेन्द्र यादव ने कहा है कि अस्पताल को उद्योग और व्यापारिक क्षेत्रों की तरह व्यवहार करने के कारण आज स्वास्थ्य क्षेत्र ध्वस्त हो गया है । उनका मानना है कि स्वास्थ्य क्षेत्र कोई भी व्यापार नहीं है । काठमांडू स्थित बुढानिलकण्ठ नगरपालिक–१३ चुनिखेल में आइतबार आयोजित स्वास्थ्य चौकी भवन हस्तान्तरण कार्यक्रम में मन्त्री यादव ने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र में व्याप्त ठेकेदारी प्रथा अब अन्त होना चाहिए ।


कार्यक्रम को सम्बोधन करते हुए उन्होंने कहा– ‘स्वास्थ्य क्षेत्र में व्याप्त सिण्डकेट और ठेक्का प्रथा अन्त होना ही चाहिए । औषधियों की गुणस्तर में तो कोई भी सम्झौता नहीं की जाती ।’ मन्त्री याद को यह भी कहना है कि औषधी की गुणस्तर और प्रभावकारिता के लिए अनुगमन किया जाएगा । ग्रामिण क्षेत्र में रहनेवाली जनता के लिए आवश्यक स्वास्थ्य सेवा के बारे में चर्चा करते हुए स्वास्थ्य मन्त्री यादव ने कहा– ‘चिकित्सक शहर में रहते हैं । गांव के जनता स्वास्थ्य सेवा से बंचित हो जाते हैं । कई डॉक्टर तो अस्पताल भी नहीं जाते हैं, ऐसी प्रवृत्ति अन्त होना चाहिए । गांव में भी स्वास्थ्य सेवा मिलना चाहिए ।’


मन्त्री यादव को मानना है कि काठमांडू में भी ऐसी कई दुर्गम गांव है, जहाँ के जनता स्वास्थ्य सेवा से बंचित हैं । उन्होंने कहा कि गांव–गांव में स्वास्थ्य सेवा पहुँचाने की जिम्मेदारी राज्य का है और देश को समृद्ध बनाने के लिए भी जनता स्वस्थ होना आवश्यक है । मन्त्री यादव ने आगे कहा– ‘राज्य की प्रथम प्राथमिकता में स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्र होना चाहिए । अपेक्षा है कि प्रदेश सरकार की ओर से भी स्वास्थ्य सेवा को सर्वसुलब बनाने का काम होगा ।’
कार्यक्रम में पूर्व स्वास्थ्य मन्त्री तथा तथा नेपाली कांग्रेस के सांसद् गगन थापा भी उपस्थित थे । उक्त क्षेत्र सांसद् थापा का निर्वाचन क्षेत्र भी है । कार्यक्रम में ‘ग्लोबल सेयर्स काठमांडू’ द्वारा निर्मित स्वास्थ्य चौकी भवन उपप्रधानमन्त्री एवम् स्वास्थ्य मन्त्री यादव ने बुढानिलकण्ठ नगरपालिका को हस्तान्तरण किया ।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: