हर चीज की जननी परिस्थिति है और इसी परिस्थिति का फल है– एकीकरण : केशव झा

हम हथियार उठा नहीं सकते हैं । हमें मध्यमार्गी राजनीति के जरिये आगे बढ़ना है । क्योंकि मध्यमार्गी राजनीति ही मधेश को सेफलैंडिंग की ओर आगे ले जाएगी
Keshav-jha-
केशव झा, काठमांडू | मधेश में तीन समूह के लोग हैं । पहला है– कांग्रेस, एमाले व माओवादी से जुड़े समूह । दूसरा है, मधेश केन्द्रित दलों में आबद्ध समूह और तीसरा है, सशस्त्र आंदोलन में आबद्ध समूह । इनके अतिरिक्त अहिंसात्मक रुप से अपने विचार को शान्तिपूर्ण तरीके से मधेश को एक अलग राष्ट्र मांग करते आगे बढ़ रहे सी.के. राउत समूह । समग्र में देखा जाए तो मधेश की राजनीति मुख्यतः इन्हीं चार समूहों में विभक्त हैं । मधेश की पार्टियों के बारे में मेरी धारणा है कि मधेश में पिछले दस वर्षों में राजनीतिक चेतना आई । जबकि प्रथम संविधान सभा चुनाव से पूर्व ऐसी चेतना नहीं आई थी । जिस समय स्व. गजेन्द्र बाबू ने राजनीतिक यात्रा की शुरुआत की थी, उस समय का राजनीतिक माहौल बहुत जटिल था । जिस गति से राजनीति की शुरुआत होनी चाहिए थी उस गति से नहीं हो पायी । अभी तक हम सिर्फ एजेंडा पर आधारित राजनीतिक कर रहे थे, किसी ‘वाद’ पर राजनीति नहीं कर रहे थे । मूलतः ‘वाद’ (इज्म) की राजनीति की शुरुआत अब होने वाली है । मुझे लगता है कि मधेश की राजनीति शिशु अवस्था में है अर्थात् प्रारम्भिक चरण में है । इस चरण में जो प्रयास कर रहे हैं वह प्रयास शिशु के रुप में हो रहा है । जिस आंदोलन के लिए हम लोग लड़ रहे हैं या संघर्षरत है, इसके लिए यह जरुरी है कि पहली लड़ाई हम घर से ही लड़े । क्योंकि जब तक हम घर में विजय प्राप्त कर आगे नहीं बढ़ेगे, तब तक हमें सफलता नहीं मिल पाएगी । अभी मधेश की बिखराव को एक जगह लाने का प्रयत्न किया गया है । इनके अतिरिक्त चुरे क्षेत्र की भावनाओं को भी जोड़ने के साथ–साथ हिमाल, पहाड़ के जनजातियों की भावनाओं को भी जोड़ने का प्रयत्न किया जा रहा है । अभी आश्चर्य लग रहा है कि असम्भव काम को भी संभव बना दिया गया है । किसी के दबाव में यह एकीकरण नहीं हुआ है । हर चीज की जननी परिस्थिति है और इसी परिस्थिति का फल है– यह एकीकरण । एकीकरण पश्चात् हमारे साथ बहुत चुनौतियां है । उन चुनौतियों में से मुख्य चुनौती है व्यवस्थापन । इसे हल करने के लिए हम लोग दिनरात जुटे हुए हैं ।
अंत में मैं कहना चाहूंगा कि हम हथियार उठा नहीं सकते हैं । हमें मध्यमार्गी राजनीति के जरिये आगे बढ़ना है । क्योंकि मध्यमार्गी राजनीति ही मधेश को सेफलैंडिंग की ओर आगे ले जाएगी ।
(केशव झा, राजपा नेपाल के नेता हैं ।)
keshav jha samay sandarbh
loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz