हवलदार पाण्डे को गोली किसने मारी ? थारु महिलाओं द्वारा ईलाका प्रहरी कार्यालय घेराव

gherauसन्दिप कुमार वैश्य, भदौ २० गते , बर्दिया

बर्दिया में आन्दोलनरत थरुहट और थारुवान संघर्ष समिति के कार्यकर्ता के झड़प में शुक्रबार प्रहरी हवलदार देवबहादुर पाण्डे की मैनापोखर में मृत्यु हो गई थी घटना होने के तुरन्त बाद प्रहरी ने पाण्डे की हत्या के आरोप में ३ युवाओं को पकड़ा था । किन्तु हत्यारा कौन है यह अभी तक पता नहीं चला है । प्रहरी हवलदार की मृत्यु के साथ ही कई सवाल पैदा हो गए हैं । हत्या आखिर किसने की । इस बारे में सभी की अपनी अपनी दावी है । पाण्डे मैनापोखर इलाका प्रहरी कार्यालय में कार्यरत थे । अवरोध हटाने के क्रम में बड़ी संख्या में रहे आन्दोलनकारी और प्रहरी के बीच धकेला धकेली होने के बाद सड़क के नजदीक के मकैबारी से गोली मारने की बात जिला प्रहरी कार्यालय बर्दिया ने दाबी की है । किन्तु थरुहट थारुवान संयुक्त संघर्ष समिति बर्दिया के संयोजक गोविन्दप्रसाद थारु ने झड़प होने के समय प्रहरी ने ले बन्दुक के कुन्दा से आन्दोलनकर्मी को मारते समय बन्दुक अपने चली और गोली दूसरे प्रहरी को लगने की दावी की है । संयोजक थारु ने कहा, ‘शान्तिपूर्ण आन्दोलन में रहे आन्दोलनकारी की ओर से गोली मारने की कल्पना भी नहीं की जा सकती है ।’ काठमाडौं से सदरमुकाम गुलरिया आते हुए २ यात्री बस के उपर शुक्रबार मैनापोखर के आन्दोलनकारी ने पत्थरबाजी करने की कोशिश की थी इसी झड़प में गम्भीर घायल हुए प्रहरी हवलदार देवबहादुर पाण्डे की उपचारा के क्रम में नेपागञ्ज में मृत्यु हो गई । प्रहरी के दाबी को थारु आन्दोलनकारी ने अस्वीकार कर दिया है । उन्होंने कहा आन्दोलन में घुसपैठ हुई है । पर घुसपैठ में कौन संलग्न है यह पता नहीं है । जिला प्रहरी कार्यालय बर्दिया के प्रहरी प्रमुख प्रहरी उपरीक्षक गोविन्दराम परियार ने मकैबारी से चली गोली से मृतक पाण्डे के दायाँ पैर के घुटने में गोली लगी जो बांया पैर के घुटने तक पहुँच गई थी । उन्होंने कहा, ‘गोली लगने के बाद गम्भीर घायल पाण्डे की अत्याधिक रक्तश्राव के कारण मृत्यु हो गई ।’ प्रहरी हवलदार पाण्डे के उपर मकैबारी से गोली मारने की बात कहने के बाद भी स्थानीय प्रशासन और आन्दोलनकारी के बीच मतभेद है । स्थानीय प्रशासन ने आन्दोलनकारी क ीओर से गोली मारने की बात कही है । प्रमुख जिला अधिकारी विनोदबहादुर कुँवर ने कहा आन्दोलन के नाम पर पत्रिका जलाने पत्रकार के साथ दुब्र्यवहार करने, और काठमाडौं से आए रात्रि वस के उपर पत्थरबाजी करने के क्रम में स्थिति नियन्त्रण में ले रहे प्रहरी ने सामान्य बल प्रयोग किया उसी समय प्रहरी के उपर आन्दोलनकारी ने आक्रमण किया । घटना स्थल के दक्षिण तरफ मकैबारी से पेस्तोल की गोली आने की बात छानबीन में सामने आई है । घटना का अनुसंधान हो रहा है यह जानकारी जिला प्रमुख अधिकारी कुँवर ने दी ।

थारु महिलाओं द्वारा ईलाका प्रहरी कार्यालय घेराव

सन्दिप कुमार बैश्य, भदौ १९ गते , बर्दिया

शुक्रबार सबेरे मैनापोखर में देबबहादुर प्रहरी हवलदार पाण्डे की गोली से मृत्यु हुई और इसी आशंका में पकडे गए ३ लोगों की रिहाई की मांग करते हुए थारु महिलाओं ने शनिबार दिन में ईलाका प्रहरी कार्यालय मैनापोखर घेराव किया है । । तत्काल रिहाई की मांग करते हुए करीव ७ सौ की संख्या में महिलाओं ने बिभिन्न नाराबाजी करते हुए मैनापोखर बजार परिक्रमा करके ईलाका प्रहरी कार्यालय मैनापोखर घेराव किया था । घेराव पश्चात प्रदर्शनकारी महिलाओं ने प्रहरी कार्यालय आगे कोणसभा किया था । कोणसभा मार्फत थारु महिलाओं ने रात में प्रहरी थारुओं के घर घर में जाकर ज्यादती करने का आरोप लगाया । सर्वसाधारण थारु के उपर प्रहरी ज्यादती आरोप के विषय में अगर उक्त घटना सत्य है तो प्रहरी के उपर कार्वाही की जाएगी ऐसा जिला प्रहरी कार्यालय बर्दिया ने कहा है । शुक्रबार सुबह ९ बजे काठमाण्डौं से गुलरिया जाती हुई रात्रीबस को स्कर्टिंग करके गुलरिया ले जाने के क्रम में प्रहरी और थरुहट आन्दोलनकारी के साथ हुए झड़प में गोली लग कर नेपाल प्रहरी के हवलदार देव बहादुर पाण्डे की मृत्यु हो गई थी । शुक्रबार तनाव होने के बाद भी शनिबार मैनापोखर में सामान्य चहलपहल थी । उक्त घटना में संलग्न रहने की आशंका में शुक्रबार दिन को प्रहरी ने अनुसन्धान के लिए ३ थारु युवाओं को पकड़ा था । थरुहट थारुवान के नाम पर बर्दिया बन्द को २६ दिन हो गए हैं ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: