हसिकाएं

चोर -बंदूक तानते हुए)- जिंदगी चाहते हो तो अपना पर्स मेरे हवाले कर दो।
व्यक्ति- यह लो।
चोर- कितने मर्ूख हो तुम, मेरी बंदूक में तो गोली ही नहीं थी ! हा ! हा ! हा !
व्यक्ति- और मेरे पर्स में भी कहां रुपये थे ! हो ! हो ! हो !

संता कंगाल होने पर बीवी से बोला- तुम बच्चों को नानी के यहां भेज दो। और तुम अपनी मां के पास चली जाओ, मेरा क्या है मैं ससुराल चला जाऊंगा।

पति आँफिस जा रहा था।
पत्नी प्यार से बोली- सी यू इन द इवनिंग
पति -गुस्से से)- धमकी किसे दे रही है, मैं भी तुझे देख लूंगा।

हिंदी अध्यापिका -छात्रों से)- मामूली का वाक्य में प्रयोग करें।
पप्पू ने सोचा ! सोचा और बोला- मेरी मां मूली बडÞे शौक से खाती है।

चिंटू -मिनी से)- मंदिर के बाहर चप्पल रखने में और मिस काँल देने में क्या चीज काँमन है –
मिनी -चिंटू से)- दोनों में डर लगा रहता है कि कोई उठा न ले।

लडÞकी वाले- हमें ऐसा लडÞका चाहिए जो कुछ खाता-पीता ना हो, और गलत काम ना करता हो।
पंडित जी- ऐसा लडÞका तो आपको आई सी यू के इमरजेंसी वार्ड में ही मिलेगा।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: