हां, मैंने अन्तरिम संविधान को उलंघन किया है : पूर्वराष्ट्रपति डा. यादव

काठमांडू, २ भाद्र । पूर्व राष्ट्रपति डॉ. रामवरण यादव ने कहा है कि पद में रहते वक्त उन्होंने अन्तरिम संविधान को उल्लंघन किया है । उन्होंने कहा है– ‘लोकतान्त्रिक गणतन्त्र को संरक्षित करने के लिए मैंने अन्तरिम संविधान को उल्लंघन किया हूँ ।’ आज प्रकाशित अन्नपूर्ण दैनिक में प्रकाशित समाचार के अनुसार डॉ. यादव ने आगे कहा है– ‘अगर मैंने अन्तरिम संविधान का उल्लंघन नहीं किया होता तो ‘राजनीतिक कोर्स’ ही अलग धार में चला जाता था । इसीलिए मैंने सुझबुझ के साथ ऐसा किया है । क्योंकि उस वक्त देश में दो सेना था– एक नेपाली सेना और दूसार माओवादी सेना । सेना परिचालन कार्यकारी प्रधानमन्त्री करते हैं । लेकिन माओवादी सेना को व्यवस्थापन नहीं हो रहा था, ऐसी अवस्था में प्रधानमन्त्री प्रचण्ड कुछ भी कर सकते थे ।’
पूर्वराष्ट्रपति डा. यादव ने आगे कहा है– संविधान उल्लंघन करने पर मुझे कोई पछताव नहीं है । अगर उस वक्त माओवादी कदम सफल होता था तो देश में लोकतान्त्रिक गणतन्त्र नहीं रहता था । मुलुक एकदलीय जनवादी गणतन्त्र की ओर चाला जाता था ।’ पूर्वराष्ट्रपति डा. यादव ने यह भी कहा है कि उस वक्त उन्होंने प्रधानमन्त्री प्रचण्ड और तत्कालीन रक्षामन्त्री रामबहादुर थापा को सुझाव दिया था कि रुक्मांगत कटवाल प्रकरण में हाथ ड़ालने से पहले वह दो सेना का समस्या समाधान करे । लेकिन ऐसा नहीं हुआ ।
उस वक्त यह भी कहा गया था कि भारतीय प्रभाव में आकर राष्ट्रपति डा. यादव ने प्रधानमन्त्री प्रचण्ड के विरुद्ध एक्सन लेकर नेपाली सेनाको संरक्षण किया है । लेकिन डा. यादव ने इस बात को पूरी तरह अस्वीकार किया है । इसीतरह डा. यादव ने यह भी बताया है कि उस वक्त उन्होंने प्रधानसेनापति रुक्मांगत कटवालको इस्तिफा न देने के लिए सुझाव दिया था ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: