होलि के खानाखाजाना

होली के लिये बनाये जानेवाले पारम्परिकरूपसेपकवानों में गुझियों मालपुआ, ठंर्डाई, खीर, कांजी वडÞा, पूरन पोली, दही बडÞा, दाल भरी कचौडियां, पपडÞी, आदि शामिल हैं। इस अवसर पर राजस्थानी दाल की पूरियां भी बनायी जा सकतीं हैं
होली के अवसर पर आप और क्या क्या बना रहे हैं – प्रस्तुत है होली के लिये बनाये जाने वाले व्यंजनों की सूची। आप अपने मनपसंद रेसीपी चुन लीजिये और बनाईये।
होली के त्योहार के लिये गुझिया बनाने जा रहे हैं – गुजिया के बिना होली का मतलब है बिना रंग के होली।
गुझिया कई तरह से बनाईं जातीं है, मावा भरी गुझिया या मावा इलायची भरी गुझिया जिनके ऊपर चीनी की एक परत चढÞी होती है। इसके अलावा सेब गुझिया, केसर गुझिया, मेवा गुझिया, अंजीर गुझिया, काजू गुझिया, पिस्ता गुझिया और बादाम गुझिया भी बनायीं जातीं है। आप अपनी मनचाही गुझिया बना सकते है बस इसके अन्दर भरे जाने वाली कसार अपने मन मुताबिक तैयार कर लें। आईये हम मावा गुझिया बनायें
आवश्यक सामग्री –
गुझिया में भरने के लिये मिश्रण
मावा – ४०० ग्राम -२ कप)
सूजी – १०० ग्राम -१ कप)
घी – २ टेबल स्पून
चीनी – ४०० ग्राम -२ कप)
काजू – १०० ग्राम -एक काजू को छ-ट टुकडÞे करते हुये काट लीजिये)
किशमिश – ५० ग्राम -डंठल हों तो, तोडÞ दीजिये)
छोटी इलाइची – ७-८ -छील कर कूट लीजिये)
सूखा नारियल – १०० ग्राम -१ कप कद्दुकस किया हुआ)
भारी तले की कढर्Þाई में मावा को हल्का ब्राउन होने तक भूनिये और एक बर्तन में निकाल लीजिये। कढर्Þाई में घी डाल कर, सूजी डालिये, हल्का ब्राउन भून कर, एक प्लेट में निकाल लीजिये। चीनी को पीस लीजिये। सूखे मेवे कटे हुये तैयार हैं। मावा, सूजी, चीनी और मेवों को अच्छी तरह मिला लीजिये। गुझियों में भरने के लिये कसार तैयार है।
आवश्यक सामग्री
– गुझिया का आटा तैयार करने के लिये
मैदा – ५०० ग्राम -४ कप)
दूध या दही – ५० ग्राम -जो आप चाहें, १/४ कप)
घी – ज्ञद्दछ ग्राम -२/३ कप) आटा गूथने में डालने के लिये
घी – गुझिया तलने के लिये
विधि
मैदा को किसी बर्तन में छान कर निकाल लीजिये। घी पिघला कर आटे में डाल कर, अच्छी तरह मिलाइये। अब दूध डालकर आटे में मिलाइये, पानी की सहायता से कडÞा आटा गूथ लीजिये। आटे को आधा घंटे के लिये गीले कपडÞे से ढककर रख दीजिये।
आटे को खोलिये और मसल मसल कर मुलायम कीजिये। आटे से छोटी छोटी लोई तोडÞ कर बना लीजिये -इतने आटे से ५०-५५ लोइयां बन जायेगी)। लोइयों को गीले कपडÞे से ढककर रखिये, एक लोई निकालिये द्ध इंच के व्यास में पूरी बेलिये, बेली हर्ुइ पूरी थाली में रखते जाइये। जब ज्ञण् – ज्ञद्द पूरियां थाली में हो जायं, अब इन्हैं भर कर गुझिया तैयार कर लीजिये।
गुझिया भरने के तरीकेः
– पूरी को हाथ पर रखना, पूरी के ऊपर मिश्रण रखना, मोडÞ कर बन्द करना, और गुझिया कतरनी से काटना।
– पूरी को हाथ पर रखना, पूरी के ऊपर मिश्रण रखना, मोडÞ कर, बन्द करना, और गोंठना।
– पूरी को, गुझिया के सांचे के ऊपर रखना, पूरी के ऊपर मिश्रण रखना, किनारों से पानी लगाकर, बन्द करना, दबाना।
आप तीनों तरीके से गुझिया बना सकती हैं, लेकिन मुझे तीसरा तरीका ज्यादा आसान लगता है, इसमें समय भी कम लगता है, साथ ही सारी गुझियां एक बराबर होती हैं। १० पूरियां हमने बेल कर रखी हर्ुइ हैं। एक पूरी उठाइये, पूरी को सांचे के ऊपर रखिये, एक या डेडÞ चम्मच कसार पूरी के ऊपर डालिये, किनारों पर उंगली के सहारे से पानी लगाइये। सांचे को बन्द कीजिये, दबाइये, गुझिया से अतिरिक्त पूरी हृटा दीजिये। सांचे को खोलिये, गुझिया निकाल कर थाली में रखिये। एक एक करके सारी पुरियों की गुझिया इसी तरह बना कर थाली में लगाइये, मोटे धुले कपडÞे से ढककर रखिये। फिर से ज्ञण् पूरियां बेलिये और इसी तरह गुझिया बनाइये और ढक दीजिये। सारी गुझिया इसी तरह से बना कर तैयार कर लीजिये, ढककर रख दीजिये। अगर आप थक गयीं हैं तो अब आराम से बैठकर एक कप चाय पीजिये। मैं तो यही करती हूँ।
अब मोटे तले की कढर्Þाई में घी डाल कर गरम कीजिये। गरम घी में ७-८ गुझिया डालिये, धीमी और मीडियम आग पर हल्के ब्राउन होने तक पलट पलट कर तल लीजिये। कढर्Þाई से गुझिया, थाली में निकालिये और किसी डलिया या बडÞे चौडÞे बर्तन में रखते जाइये। सारी गुझिया इसी तरह तल कर निकाल लीजिये। लीजिये आपकी गुझिया तैयार हैं। गरमा गरमा गुझिया परोसिये और खाइये। बची हर्ुइ गुझिया ठंडी होने के बाद एअर टाइट कन्टेनर में भरकर रख दीजिये। स्वादिष्टा गुझिया ज्ञछ-द्दण् दिनों तक जब भी आपका मन करे कन्टेनर से निकालिये और खाइये।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz
%d bloggers like this: