Sun. Sep 23rd, 2018

२० वर्ष हाेगी शादी की वैधानिक उम्र

काठमान्डाै ७ अगस्त

अब तक की कानुनी व्यवस्था में बहुविवाह अाैर बालविवाह करने वालाें काे कानुन सजा देती थी किन्तु विवाह रद्द नहीं हाेता था । अब विवाह काे ही   रद्द किया जाएगा  ।

वि.सं. १९१० साल में तत्कालीन श्री ३ प्रधानमन्त्री जंगबहादुर राणा द्वारा बनाए गए मुलुकी ऐन विस्थापित कर भदौ १ से लागू हाे रहे ६ कानुनी संहिता अाैर उससे सम्बन्धी कार्यविधि में बालविवाह अाैर बहुविवाह सम्बन्धी नयी व्यवस्था की गई है ।

सर्वाेच्च अदालत ने उस संहिता के कतिपय प्रावधान संविधान अनुरूप बनाने का आदेश देने के बाद कानुन मन्त्रालय  संशोधन प्रस्ताव मन्त्रिपरिषद में पेश किया गया है । कुछ दिनाें में ही संशोधन प्रस्ताव संसद् में  लैजाने की सरकार की तैयारी है ।

दिवानी अाैर अपराध संहिता में विवाहसम्बन्धी प्रावधान मिलने के बाद सरकार एकरूपता कायम करने के लिए संशोधन प्रस्ताव पेश कर रही है ।   संशोधन के अनुसार अब विवाह करने की न्यूनतम उमर२० वर्ष हाेगी ।

अब तक महिला की १८ अाैर पुरुष की २० वर्ष  विवाह करने की न्यूनतम उमर थी । समाचार कान्तिपुर में प्रकाशित है

यो पनि पढौँ

३२ हजार कर्मचारी हटाइँदै

‘संसदमा म जस्तो नेता को छ ?’

साउदीको जेलबाट फर्किए इलामका प्रेम

आजका कार्टुन

प्रदेशअनुसार कर्मचारीको टुंगो लाग्यो

टुंगो लाग्यो प्रदेशमा जाने सरकारी कार्यालय संख्या

कमेन्ट

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of