२४ सौ घण्टा प्रसुती सेवा के बाबजूद घर में ही बच्चा का जन्म

नेपालगन्,(बाके) पवन जायसवाल, २०७३ आषाढ १२ गते ।
बाके जिला के उढरापुर स्वास्थ्य चौकी ने २४ सौ घण्टा प्रसुती सेवा देने की बवजूद भी अभी भी अधिकतर गर्भवति महिलाए घर में ही प्रसुति होती रहती है बताया गया है ।
जिला जन स्वास्थ्य कार्यालय, बाके और बास ने संयुक्त रुप में आयोजन किया सामाजिक परीक्षण कार्यक्रम में यह बात खुलासा हुआ है ।

2
कार्यक्रम के सहभागियों ने स्वास्थ्य चौकी पास के ही एक महिला ने असुरक्षित रुप में घर में ही बच्चा जन्मायी । जनचेतना की अभाव, स्वास्थ्यकर्मी घर में आने की मान्यता की कारण असुरक्षित प्रसुति हो रही है उन लोगों की कहना र्है ।
उपकरण घर, घर में लै जाना असहज होने की कारण का कारण घरमैं जाकर प्रसुति कराना एकदम असहज है स्वास्थ्य चौकी के ईञ्चार्ज केशव प्रसाद पौडेल ने बताया । उन्हों ने कहा जनचेतना की अभाव के कारण स्वास्थ्य सेवा प्रवाह में ज्यादा समस्या हो रही है बताया । १५ हजार बरावर की भ्याक्सिन लगाना नही मानतै है स्थानीयवासियों ने कम रकम की दवा न पाने से रिसाकर जाते है अनुभव केशव प्रसाद पौडेल ने किया है ।
उन्हों ने कहा कार्यक्रम में इस वर्ष ४० पीस मात्र जाडे वाला झोला प्राप्त हुआ है बताया । उन के अनुसार, जो झोला आवश्यकता से कम है और देर में मिलती है । उन्हों ने ओपिडी बिमारी जा“चे बरावर की रकम जिला जन स्वास्थ्य कार्यालय नही डाली है सिकायत कि ।
कार्यक्रम में स्वास्थ्य चौकी के कार्यालय सहयोगी परशुराम गडरिया मादक पदार्थ सेवन करके कार्यालय में आते हैे, नियमित कार्यालय भी नही आते है वह बिषय भी उठाया गया था ।
कार्यक्रम के अन्त में स्वास्थ्य प्रवाह कीे अवस्था बारे की तथ्या“क तत्काल अद्यावधिक करें, खोप क्लिनिकों में बोर्ड रक्खें, हैजा बिरुद्ध की खोप अभियान सञ्चालन करें, असोज महनिे के अन्दर में गाविस को पूर्ण खोप गाविस घोषणा करें, स्वयंसेविकाओं की क्षमता अभिबृद्धि करने के लिये तालीम करने की प्रतिबद्धता व्यक्त किया गया ।

1
बास के कार्यकारी निर्देशक तथा सामाजिक परीक्षक नमस्कार शाह और प्रतिक्षा गिरी ने सहजीकरण किया था कार्यक्रम में जिला जन स्वास्थ्य कार्यालय, बा“के के फोकल पर्सन राम बहादुर चन्द, स्वास्थ्य चौकी व्यवस्थापन समिति के अध्यक्ष तथा गाविस सचिव कृष्ण बहादुर रोकाय ने मन्तव्य व्यक्त किया था बास के सूचना अधिकारी हेमराज भट्ट ने जानकारी दी है ।

loading...