item-thumbnail

किसकी गलती- किसको सजा

0 June 19, 2011

संविधान बनाने का अधिकार लेकर संविधान सभा पहुँचे सभासद व राजनीतिक दल सत्ता के ही खींचातानी में अधिक व्यस्त रहे । नए संविधान में रखे जाना वाला कई विषय अ...

item-thumbnail

भारत की जायज चिंता

0 June 17, 2011

भारत की जायज चिंता भारतीय विदेश मंत्री के नेपाल भ्रमण के दौरान उन्होंने नेपाल सरकार के समक्ष सुरक्षा व्यवस्था पर चिंता प्रकट की है, वह बिलकुल जायज हे ...

item-thumbnail

काबिता

0 June 17, 2011

दर्पण का क्या मोल – विनीत ठाकुरर् दर्पण का क्या मोल अन्धों के शहर में । हुआ उल्टा मुख सुल्टा अपने ही नजर में ।। ज्ञान का सुरमा लगाकर जो बजाते है...

item-thumbnail

फेंगशर्इ के अनुसार बनाएं आफिस, तरक्की होगी
नन्दकिशोर शर्मा

0 June 17, 2011

फेंगशर्इ के माध्यम से न सिर्फ घर के वास्तु दोषों को दूर किया जा सकता है बल्कि दुकान अथवा आँफिस में भी इसका उपयोग कर सपलता पाई जा सकती है । फेंगशर्ुइ क...

item-thumbnail

सौर्दर्य बढाने के १० आसान उपाय
इला श्रीवास्तव

0 June 17, 2011

चमकदार त्वचा, सुंदर आखें, मोती जैसे दाात और काले, लहराते बालों का सपना सच हो सकता है । अगर आप यहाँ दी गई कुछ बातों पर गौर फरमाएँ । आपके इस सपने को साक...

item-thumbnail

वनडे सिरीज: कौन रहा हिट, कौन गया पिट

0 June 17, 2011

भारतीय क्रिकेट टीम के वेस्टइंडीज दौरे के लिए जब एकदिवसीय टीम का ऐलान हुआ तो सीनियर खिलाड़ियों को आराम देकर युवा खिलाड़ियों को इसलिए मौका दिया गया, क्य...

item-thumbnail

जिंदगी ना मिलेगी दोबारा

0 June 17, 2011

बैनर : इरोज इंटरनेशनल मीडिया लि., एक्सेल एंटरटेनमेंट निर्माता : रितेश सिधवानी, फरहान अख्तर निर्देशक : ज़ोया अख्तर संगीत : शंकर-एहसान-लॉय कलाकार : रिति...

item-thumbnail

आम की लस्सी
श्रीमती रीता झा

0 June 11, 2011

आम की लस्सी सामग्री ः १ आम, १ टी स्पून चीनी, १ कप दही, २-३ केसर, एक चुटकी हरी इलायची पाउडर विधिः आम का गुदा निकालकर उसे मिक्सी में अच्छी तरह पीस लें ।...

item-thumbnail

वह घाव जो भरा नहीं
विद्यादेवी भण्डारी

0 June 11, 2011

०४९ साल असार १५ गते । मेरी चार साल की बेटी निशा ने अपना जन्मदिन मनाने की काफी जिद की थी । इस समय तक मेरे परिवार में जन्मदिन मनाने की फर्र्ुसद और चलन द...

item-thumbnail

समायोजन पर सेना का नया प्रयास
राजकुमार यादव

0 June 11, 2011

चार वर्षों के लम्बे विवाद के बाद आखिरकार एकीकृत नेकपा माओवादी ने अंतत नेपाली सेना के द्वारा प्रस्तुत लडाकू समायोजन के अवधारणा पर सहमति जताई है । शांति...

item-thumbnail

अगर मगर में कटता दिन
कुमार सच्चिदानन्द

0 June 11, 2011

१४ गते जेठ नेपाल की राजनीति में वरदान है या अभिशाप इस बात को आम नेपाली अब तक नहींं समझ पाए । इस तिथि में निहित उद्देश्यों को अगर हमारी राजनीति समझ लेत...

item-thumbnail

वह मौका जो हमने खो दिया
कृष्ण प्रसाद सिटौला

0 June 11, 2011

जेठ १४ की मध्यरात में जब संविधान सभा के कार्यकाल को बढाए जाने की बात चल रही थी, उस समय हमारी पार्टर्ीीे तरफ से लडाकुओं के हथियार सौंपे जाने की मांग कर...

item-thumbnail

तुम्हारी याद मे:बेदना

0 June 11, 2011

जिंदगी भी आदमी को कैसे-कैसे मोडों पर लेके जाती है, एक पल में क्या से क्या बना देती है । कभी एक झटके से आदमी को हासिल सब कुछ छीनकर उसे जिंदगी की डगर मे...

item-thumbnail

जाम बहादुर नेपाली
मुकुन्द आचार्य

0 June 11, 2011

जाम बहादुर नेपाली ! यह भी कोई नाम हुआ ! मैं भी आप से सोलहों आने सहमत हूँ । मगर यह साली जिन्दगी भी अजीब अजीब तमाशे दिखाती है । मैंने कब सोचा था की इस अ...

item-thumbnail

नेपाल भारत मैत्री संबन्ध
डा.नुतन ठाकुर

0 June 11, 2011

मैत्री सम्बन्ध चाहे दो व्यक्तियों के बीच हो या फिर दो देशों के बीच, वह प्रगाढÞ और आत्मीय तभी हो सकता है जब उनके बीच आपसी प्रेम-भाव और सौहार्द हो । परस...

item-thumbnail

भ्रष्टाचार नियन्त्रण कैसे करें
एन के मिश्रँ

0 June 11, 2011

भ्रष्टाचार की परिभाषा विभिन्न प्रकार से की है । शाब्दिक अर्थ में भ्रष्टाआचरण -गलत कार्य) ही भ्रष्टाचार है । समाजिक, धार्मिक, प्रशासनिक, न्यायिक, आर्थि...

item-thumbnail

खात्मा ओसमा का आतंक का नही

0 June 11, 2011

अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन की मौत से आतंक और आतंकी खत्म हरुइ मानना बिलकुल गलत है । किसी एक व्यक्ति की मरने से या छोडने से संगठन में बहुत बडा असर नह...

item-thumbnail

पश्चिम बंगाल के निर्वाचन परिणाम ने नेपाल को दिया झटका
मनीषा सिन्हा

June 11, 2011

सन् १९७७ में वाममोर्चा द्वारा संसदीय निर्वाचन से पश्चिम बंगाल के सत्ता पर आधिपत्य जमाने के बाद नेपाल के वामपंथियों ने दीपावली मनायी थी । ज्योति बसु के...

item-thumbnail

बेवजह विवादों के घेरे में भाषा
बिरेन्दर् के एम

June 11, 2011

नेपाल में जनगणना की शुरुआत के साथ ही भाषायी द्वंद्व बढने के आसार दिख रहे हैं । वैसे तो नेपाल की जनता विशेषकर मधेश में रहने वाली जनता को इस विवाद के बा...

item-thumbnail

अपहरण का उद्योग
राकेश कुमार मिश्रा

0 June 11, 2011

पश्चिम तर्राई के जिलों में इन दिनों अपराध, अपहरण, फिरौती, हत्या का तो जैसे सिलसिला ही शुरु हो गया है । कभी भूमिगत संगठन के नाम पर अपराधी समूहों द्वारा...

item-thumbnail

सभासदों की मौज

0 June 11, 2011

पहले तय किए गए दो वर्षतथा बाद में बढÞाए गए १ वर्षमें संविधान नहीं बनने के बाद भी सभासदों ने संविधान बनाकर जनता को देने में असफल रही । एक बार फिर भी सं...

item-thumbnail

हवा में उडते सभासद

0 June 11, 2011

पिछले तीन वर्षों के दौरान हमारे सभासदों ने संविधान तो नहीं बनाया लेकिन उनके लिए सभासद बनना, ऐशो आराम, शान की जिंदगी, वीवीआईपी टि्रटमेण्ट और विदेश की स...

item-thumbnail

सभासदों के कारनामें

0 June 11, 2011

संविधान बनाने के लिए हमने अपने सभासदों को तीन वर्षों का समय दिया और हम इतने उदार हैं कि और भी समय बढÞा दिया है ताकि उनकी रोजी रोटी चलती रहे । उनके आगे...

item-thumbnail

प्रधानमंत्री पद पर है “अर्जुन दृष्टि”

विष्णु रिजाल

0 June 11, 2011

मार्क्सवादी साहित्य में बार-बार एक ही प्रकार की घटना की पुनरावृति होने पर उसे नियमित आकस्मिता कहा जाता है । इस बार जेठ १४ गते संविधान सभा में यही देखा...

item-thumbnail

ए तो हो ना हि था

जयप्रकाश गुप्ता

0 June 9, 2011

इस बात का संकेत बहुत पहले से ही मिलने लगा था । आखिर भीतर रहकर कब तक विचारों से समझौता किया जाएगा । मधेशी जनअधिकार फोरम नेपाल अब तक ६ बार विभाजन का देश...

item-thumbnail

बिबाद अवि बकी है

लक्ष्मणलाल कर्ण

0 June 9, 2011

संविधान निर्माण के क्रम कई महत्वपर्ूण्ा विषयों पर विवाद अभी ज्यों का त्यों ही बना हुआ है । बाहर कहने के लिए बडÞे दल के नेता चाहे जितनी डिंगे हाँक ले ल...

item-thumbnail

किस पर देश करे अभिमान, किस पर छाती हो उत्तान ?

प्रो . नवीन मिश्रँ

0 June 9, 2011

काश नेपाल में भी कोई अन्ना हजारे सरीखे गांधीवादी व्यक्तित्व होता, जो देश में शांति स्थापना तथा संविधान निर्माण के लिए आमरण अनशन करता और जिसके साथ देश ...

item-thumbnail

सम्पादक की कलम से…

0 June 9, 2011

समीप आती जाती है, त्यों-त्यों नेपाल में राजनीतिक महाप्रलय आने की त्रास र्सवत्र छा जाती है। अन्तिम घडी में नेपाली जनता की चहल कदमी सोचने को बाध्य करती ...