item-thumbnail

पहले संविधान संशोधन, फिर संविधान दिवस

0 September 17, 2016

शाही सामंतवाद के देश से उखड़ने के बाद जबरदस्त ढंग से उस विरासत को नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एमाले) के खस–गोर्खाली नेतृत्व ने थाम लिया था । नेपाली कांग्र...

item-thumbnail

गोर्खा साम्राज्य और प्रलेस

April 7, 2016

गोपाल ठाकुर,काठमांडू,अप्रिल ७, २०१६| मानव समाज अपने निर्माणकाल से लेकर आज तक अपनी समृद्धि की ओर बढ़ता आ रहा है । इस दौरान उसे अनेक लड़ाइयाँ लड़नी पड़ी...

item-thumbnail

समग्र मधेश एक प्रदेश ही क्यों ?

March 16, 2016

गोपाल ठाकुर:रघुनाथ ठाकुर नेतृत्व का मधेश जन क्रांतिकारी दल से लेकर तत्कालीन नेकपा –माओवादी) द्वारा संचालित जनयुद्ध तक मधेश को एक राष्ट्र के रूप में ही...

item-thumbnail

तब तो गोर्खा साम्राज्य के विरुद्ध लड़ना ही होगा : गोपाल ठाकुर

March 8, 2016

गोपाल ठाकुर,कचोर्वा-१, बारा , मार्च ८, २०१६ गोर्खा साम्राज्य ने अपनी राजधानी को नेपाल में तबादला कर अपने साम्राज्य को नेपाल बताना शुरू किया । पृथ्वीना...

item-thumbnail

काठमांडू और दिल्ली के बीच की तिक्तता में परेशान मधेशी

January 26, 2016

गोपाल ठाकुर,कचोर्वा-१, बारा,जनवारी २६, २०१६ वैसे तो राज्य की उत्पत्ति ही कमजोरों को दबाने के लिए हुई है । किंतु जब राज्य साम्राज्य का रूप लेता है तो व...

item-thumbnail

ओली ! अब तेरी वारी है, कब तक मधेश के साथ घोखाधड़ी करोगे : – गोपाल ठाकुर

January 22, 2016

गोपाल ठाकुर, कचोर्वा-१, बारा, जनवरी २२, २०१६| कल गुरुवार को शक्ति-ओली की शख्ती ने तीन मधेशियों को फिर से ढेर कर दिया । गुरुवार को ही अलपज्ञ ओली की बोल...

item-thumbnail

हिंसा का खौफ क्यों ?

January 18, 2016

गोपाल ठाकुर :फिलहाल नेपाल में जारी तीसरा मधेश आंदोलन साढ़े चार महीने पूरा कर चुका । राष्ट्रीय आत्म–निर्णय के अधिकार सहित का समग्र मधेश एक प्रदेश की तो...

item-thumbnail

दिन में क्रांतिकारी और रात में रंगदारी के कारण खस-गोर्खाली मालामाल और मधेशी कंगाल होने लगे हैं

January 14, 2016

गोपाल ठाकुर, कचोर्वा-१, बारा, जनवरी १४, २०१६ पिछले अगस्त १५ से जारी मधेश बंद और सितंबर २४ से जारी नेपाल-भारत सीमा नाकाबंदी से तबाही की खबरें निरंतर सं...

item-thumbnail

ओली की गोली अब कहाँ चलेगी ? – गोपाल ठाकुर

December 25, 2015

गोपाल ठाकुर, कचोर्वा-१, बारा,दिसंबर २५, २०१५ मधेश आंदोलन जारी है और खस-गोर्खाली उपनिवेशकों का फरेब भी । मधेशी नाका नहीं छोड़ रहे हैं तो ओली कोइराला से...

item-thumbnail

प्रायश्चित जरूरी है, अन्यथा नरक ही रहेगा मधेश

December 17, 2015

गोपाल ठाकुर:जिस समय कथित बहुमत दिखाकर खस(गोर्खाली त्रिमूर्ति नेतृत्व हवा की गति से संविधान बना रहा था, मधेशवादी कहनेवाले महारथी संविधान सभा परित्याग क...

item-thumbnail

मधेशियों पर इतना बड़ा अविश्वास ! क्या पहाड़ियो पर ही नेपाल की अखंडता टिकी है ? गोपाल ठाकुर

December 10, 2015

गोपाल ठाकुर, काठमांडू, १० दिसिम्बर | अध्यात्म से लेकर भौतिकी तक की व्याख्या के तहत दुनिया को गतिशील बताया गया है । यानी परिवर्तन प्रकृति का नियम है । ...

item-thumbnail

स्वाधीनता संग्राम के लिए विवश मत करो !

November 12, 2015

गोपाल ठाकुर:खस–गोर्खाली साम्राज्यवादियों के खिलाफ जारी तीसरा मधेश आंदोलन अब तीसरे महीने भी पूरा करने को है । अनिश्चितकालीन मधेश बंद, आम हड़ताल और नेपा...

item-thumbnail

भारत और नेपाल के संदर्भ में नेपाली और हिंदी ­: गोपाल ठाकुर

0 June 18, 2015

सन् १९३३ से २००६ तक नेपाल की एक मात्र राष्ट्रभाषा नेपाली रहती आई दिखती है । संवैधानिक तौर से नेपाल अधिराज्य का संविधान­१९५९, नेपाल का संविधान­१९६२ और ...