item-thumbnail

लुम्बिनी यात्रा

0 May 26, 2017

लुम्बिनी का नाम लेते ही हमारे सामने शांत मुद्रा में बैठा एक करुणामय मूर्ति का चित्र प्रकट होता है । वह मूर्ति किसी अन्य का न होकर राजसी सुख–सुविधा को ...

item-thumbnail

मेरी पश्चिम नेपाल की यात्रा

0 May 6, 2017

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय विगत फरबरी महीने के अंक में मैंने पश्चिम नेपाल की यात्रा का वृत्तांत प्रस्तुत किया था, लेकिन स्थानाभाव के कारण पूरा नहीं लिख पान...

item-thumbnail

यात्रा मुक्तिनाथ की

0 March 22, 2017

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय नियात्रा जीवन को ताजगी, स्फूर्ति और आनंद से भरने का एक ऐसा माध्यम है, जिसमें नियात्री को विभिन्न स्थलों की यात्रा करने, वहाँ के ...

item-thumbnail

मेरी पश्चिम नेपाल की यात्रा

0 March 3, 2017

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय विगत नवंबर महीने में जब ज्योतिर्लिङ्ग रथ यात्रा सुदूर पश्चिम से पूर्व झापा जिले तक के लिए संचलित हो रही थी, तब मुझे भी एक पत्रका...

item-thumbnail

पर्यटन :पोखरा यात्रा

0 November 29, 2016

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय भारत प्रवास काल में पर्यटकीय महत्व के विभिन्न ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के स्थलों की यात्रा के कारण पर्यटन के प्रति जो रुचि उत्प...

item-thumbnail

यात्रा वैष्णो देवी की…

0 October 25, 2016

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय उच्च शिक्षा के सिलसिले में दिल्ली में था । शिक्षार्जन के साथ ही नौकरी में प्रवेश करने का अवसर मिला । ग्राम्य परिवेश में पले इस प...

item-thumbnail

नेपाल दूसरी मुक्ति की प्रतीक्षा में:शिव मुखर्जी

June 19, 2016

सामान्य रूप से यह माना जाता है कि ‘मधेश’ शब्द ‘मध्यदेश’ शब्द से बना है । हमारे लिए यह समझना पर्याप्त है कि भारत–नेपाल सीमा क्षेत्र से पूर्व से पश्चिम ...

item-thumbnail

प्रधानमंत्री जी आखिर कितने सपने दिखाएँगे ?

February 25, 2016

प्रधानमंत्री जी  आखिर कितने सपने दिखाएँगे ? काठमान्डौप्रकाश प्रसाद उपाध्याय नेपाली जनता पिछले कई वर्षों से सपनों के दौर से गुजर रही है । उस पर जब सपने...

item-thumbnail

क्या सचमुच नेपाली भारत विरोधी हैं ?

February 14, 2016

प्रकाश प्रसाद उपाध्याय, काठमांडू, 15 फरवरी ।‘नेपाली भारत विरोधी हैं या नेपाल भारत विरोधी लहर से प्रभावित है ।’ जब भी ऐसे वाक्यांश पढ़ने या सुनने को मिल...

item-thumbnail

कहानी भूत के तलाश में निकले युवक की …

November 13, 2015

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय:यह कहानी, कहानी क्या एक सत्य कथा है, एक युवक की, जिसे भूत की तलाश में निकलने पर देश के दुर्गम जिले, पहाडी इलाके, वीहड जंगल और ऊफ...

item-thumbnail

आषाढ़ का वह दिन

0 July 27, 2015

आषाढ के महीने को आकाश में मंडराते और गरजते हुए बादल और जमीन पर बरसे हुए पानी से निकलती खुशबुओं से भरा महीना माना जाता है । यह ऐसा महीना है जो किसानों ...

item-thumbnail

लगता नहीं है दिल मेरा…: प्रकाशप्रसाद उपाध्याय

0 June 17, 2015

पिछले कई महीनाेंं से पर्यटन स्तम्भ के लिए चलायमान मेरी लेखनी कुछ दिनों से उस विषय पर कुछ लिखने के लिए अग्रसर नहीं हो रही है और इस सोच मेंं डूबा हूँ कि...